पत्र लेखन | Letter Writing in Hindi

पिछले समय में पत्र का बहुत महत्व था लेकिन इंटरनेट के आने से पत्र का महत्व कम हो गया है लेकिन अभी भी ख़त्म नहीं हुआ है और ईमेल लिखने के लिए पत्र लिखना आना जरूरी है इसलिए पत्र लेखन सभी को आना चाहिए

नमस्कार दोस्तों, इस पेज पर आप हिंदी विषय के महत्वपूर्ण अध्याय पत्र लेखन को पड़ेंगे जिसमे समस्त प्रकार के पत्रों को लिखना विस्तार से सीखेंगे।

चलिए पत्र लेखन की जानकारी पड़ना शुरू करते है

पत्र लेखन क्या है?

जब कोई व्यक्ति, संस्था आदि किसी व्यक्ति या संस्था आदि को व्यक्तिगत या व्यवसायी कार्य के लिए कोई संदेश लिखकर भेजती है तो उसे पत्र लेखन कहते है

सभी तरह के पत्र लेखन लगभग एक ही फॉर्मेट में लिखे जाते है जो लिखना बहुत आसान है

नीचे के पत्रों को देखकर आप

पत्र कितने प्रकार के होते है

पत्र दो प्रकार के होते है पहला अनौपचारिक पत्र जिसे हम व्यक्तिगत पत्र भी कहते है और दूसरा औपचारिक पत्र जिसे हम कार्यालयी या व्यवसायी पत्र भी कहते है

1. अनौपचारिक पत्र

अनुपचारिक पत्र वो पत्र होते है जिनमे हम अपने व्यक्तिगत कार्य के लिए किसी सन्देश भेजते है जैसे किसी भी व्यक्ति को व्यक्तिगत बधाई देना या आमंत्रण देना अनुपचारिक पत्र कहलाता है

अनुपचारिक पत्र निम्न प्रकार तरह के हो सकते है

  • परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने पर मित्र को बधाई पत्र
  • मित्र की शादी की शुभकामनाये देने के लिए मित्र को पत्र
  • भूल की क्षमा हेतु पिता को पत्र
  • परीक्षा फीस महवाने हेतु पिता को पत्र
  • पुस्तक मगवाने हेतु पिता को पत्र
  • जन्मदिन के उपहार के लिए धन्यवाद पत्र
  • मित्र को शादी की बधाई देने के लिए पत्र

2. औपचारिक पत्र

औपचारिक पत्र का मतलब किसी भी सस्था या व्यक्ति के द्वारा कसीस व्यापारिक कार्य के लिए लिखे गए पत्र को औपचारिक पत्र या कार्यालयी पत्र भी कहते है

औपचारिक पत्र निम्न प्रकार के हो सकते है

  • विधयालय में प्रवेश हेतु प्रधानाध्यापक को पत्र
  • शुल्क माफ़ करने के लिए प्रधानाध्यापक को पत्र
  • पुस्तक के पैसे मांगने के लिए पिता को पत्र
  • क्लास में देर से आने पर कक्षाचार्य को क्षमा पत्र
  • बिजली बिल में नाम परिवर्तन हेतु बिजली विभाग को पत्र
  • बैंक में खाता खुलवाने हेतु शाखा प्रबंधक को पत्र लेखन
  • स्कूल बस चालक की शिकायत हेतु प्रधानाध्यापक को पत्र
  • सड़को की सफाई के लिए नगर परिषद को पत्र
  • पानी की टंकी के लिए पंचायत को पत्र
  • स्थानांतरण हेतु प्रधानाध्यापक को पत्र
  • 5 दिन के अवकाश एक लिए प्रधानाध्यापक को पत्र
  • विषय परिवर्तन के लिए प्रधानाध्यापक को पत्र
  • लाउड स्पीकर पर रोक के लिए कलेक्टर को पत्र
  • चोरी की शिकायत के लिए थानेदार को पत्र
  • पुलिस के ख़राब व्यव्हार के लिए कलेक्टर के लिए पत्र
  • बिजली बिल की शिकायत के लिए बिजली कलेक्टर को पत्र

चलिए अब सभी तरह के पत्रों को लिखना सीखते है

1. अपनी बहन के विवाह में सम्मिलित होने के लिए मित्र को पत्र लिखिए 

22, शिंदे की छावनी
ग्वालियर
दिनाक:- 8-1-2019

प्रिय- मित्र मोहन,

सप्रेम नमस्ते

आपको यह सूचित करते हुए में हार्दिक प्रसन्नता का अनुभव कर रहा हूँ की मेरी छोटी बहिन की शादी दिनाक 17- 4 – 20 को होना निश्चित हुआ हैं कार्यक्रम का शुभारम्भ 8 – 4 – 20 से शुरू होगा

इस पवित्र बेला में सहभागी बनने के लिए आप सपरिवार आमंत्रित हैं आशा हैं कार्यक्रम होने से पूर्व ही पधारकर उत्सव् की शोभा बढाओगे

तुम्हारा प्रिय मित्र
स्पर्श

जरूर देखे – हिंदी व्याकरण

2. अपनी सहेली अथवा मित्र को उसके जन्म दिवस पर बधाई –पत्र लिखिए

42-कबीर कालोनी, भोपाल
20- 4- 2019

प्रिय जयति,

कोटिश;बधाईया

तुम्हारी 15वी वर्षगांठ शुभ एवं प्रसन्नता से आपूरित हो भावी की स्वर्णिम आकांक्षा के साथ एक बार फिर हार्दिक बधाई स्वीकार कीजिए

तुम्हारी शुभेच्छु
अंजली सिंह लोधी

3. अपने जिले के जिलाधिकारी को अपने क्षेत्र में सिंचाई सुविधाओं के विस्तार की  आवश्यकता प्रतिपादन करते हुए एक पत्र लिखिए|

सेवा में,
जिलाधिकारी

धार  म .प्र.

विषय – सिंचाई व्यवस्था के पर्याप्त न होने की औ आकर्षित करना चाहता हूँ

सिंचाई की असुविधा के फ़लस्वरूप यह क्षेत्र क्रषि में पिछड़ा हुआ हैं यदि सिचाई की अतिरिक्त सुविधाए उपलब्ध करा दी जाए तो इस क्षेत्र में क्रषि की आशातीत प्रगती होगी

अत: आपसे अनुरोध हैं कि आप जिला योजना मंडल तथा सिंचाई विभाग के अधिकारी को क्षेत्र में अविलम्ब व्यवस्ता करने का आदेश दे

दिनाक 15 -2- 2019
भवदीय
कनिष्क
ग्राम – फूलपुर
तहसील – धार

4. अपने प्राचार्य की ओर से स्कूल के वार्षिकोत्सव में अतिथियो को निमन्त्रण-पत्र

प्रिय महोदय,

आपको यह जानकर असीम उल्लास का अनुभव होगा कि हमारे विधालय के अंतगर्त दिनाक 15 -3-20 से 17-3 -20 तक विधालय का वार्षिकोत्सव सम्पन्न होने जा रहा हैं उत्सव का उदघाटन ग्वालियर के जिलाधीश के कर कमलो द्वारा सम्पन्न होगा

“लालसा हमको लगी ,लोचन विकल अकुला रहे
पर पीर सहकर नीर भर कर बार –बार बुला रहे’’

भवदीय
प्राचार्य
शा.उ.मा.शाला
पाटनकर बाजार, ग्वालियर

5. अपने मित्र को छोटे भाई के जन्म दिवस पर आमंत्रित करने के लिए पत्र लिखिए

इंदोर 2- 1 -2019

प्रिय मित्र रोहन
सप्रेम हदय-स्पर्श

तुम्हे यह सूचित करते हुए मुझे अत्यंत प्रसन्नता का अनुभव हो रहा  हैं की मेरा छोटे भाई अक्षय कुमार 6साल का हो जायेगा /अत; दिनाक 20-1-20 को हम उसके जन्म –दिवस के समारोह के उपलक्ष्य में सभी हितैषियो को आमंत्रित कर रहे हैं/अत; इस शुभ –अवसर पर पधारकर चि. अक्षय कुमार को अपना दीर्घाय का आशीर्वाद प्रदान कर अनुग्रहीत करे

तुम्हारा प्रिय मित्र
आकश 

6. आपने मित्र को पत्र लिखिए जीसमे वाद –विवाद प्रतियोगिता में प्रथम आने पर बधाई दी गयी हो

29, समता कालोनी
रायपुर

प्रिय मित्र
सप्रेम ह्दय स्पर्

कनिष्क से मुझे मालूम हुआ की तुम शिक्षा विभाग द्वारा सम्पन्न की गई मंडलीय प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पाने मे सछम हुए हो तुम्हारी इस सफलता से मेरा मन पुलकित हो रहा हैं अत; इस हेतु मेरी हार्दिक बधाई स्वीकार कीजिए मेरी यह अभिलाषा हैं कि आगे आने वाले दिनों में भी तुम इसी प्रकार सफलता के सोपानो पर आरूढ़ होते चले जाओ

मेरे परिवारीजन भी तुम्हारी सफलता से गदगद हैं अपनी पूज्यनीय माताजी तथा पिताजी को मेरा सादर प्रणाम कहना पत्रोत्तर की प्रतीक्षा में

भवदीय
प्राचार्य
शा. उ. मा. शाला,
पाटनकर बाजार, ग्वालियर

जरूर देखे – सामान्य ज्ञान

7. परीक्षा के समय ध्वनि विस्तारक यंत्रो पर प्रतिबंध लगाने हेतु जीलाधिश को एक पत्र लिखिए

सेवा में,
जिलाधीश महोदय,
रायपुर

विषय – परीक्षा के समय ध्वनि विस्तारक यंत्रो पर प्रतिबन्ध

मान्यवर,

जैसा कि आपको विदित हैं कि आजकल विधालयो में वार्षिक परीक्षाएंसम्पन्न हो रही हैं इस समय ध्वनि विस्तारक यंत्रो से जो तीव्र आवाज आ रही हैं, वह कर्ण –कुहरो को भेद रही हैं ऐसे वातावरण में अध्ययन करना अत्यंत दुष्कर हैं

आशा हैं आप इस समस्या का समाधान कर छात्रों के भविष्य निर्माण में समुचित सहयोग प्रदान करेंगें

सधन्यवाद
निवेदक
छात्रगण
समता कालोनी,
रायपुर

दिनाँक – 01/01/2019

8. हाई स्कूल में प्रथम आने पर अपने मित्र को बधाई पत्र लिखिए

50, हिल्स रोड
सागर
दिनाँक – 8-1-20

प्रिय मित्र पल्लव,
सप्रेम हदय – स्पर्श

आज तुम्हारा पत्र मिला एंव आज ही देनिक ‘नवभारत ‘में तुम्हारा परीक्षा – परिणाम देखे /ज्यो ही मैंने प्रथम श्रेणी की तालिका में तुम्हारा अनुक्र्न्माक देखे तो मेरे हर्ष का  ठीकाना नन्ही रहा /मन उल्लास के असीम सागर में तिरोहित हो गया / इस उपलक्ष में मेरी हार्दिक बधाई स्वीकार कीजिए मेरी भगवान् से यही प्रार्थना हैं की तुम अपने जीवन में सफ लता के शिखर पर  आरुढ़ होकर प्रगति करते रहो /

भविष्य की योजना से भी अवगत कराये/माता एवं पिता को सादर आभिवादन

तुम्हारा शुभेच्छु,
अक्षय कुलश्रेष्ठ

पिता को पत्र

प्रिय पिताजी,
सादर चरण स्पर्श
आपकी कृपा से में यहां आनंद से हूँ। यहां के सभी नवीन साथी बड़े ही मिलनसार हैं। छात्रावास के अध्यक्ष भी बड़े ही अच्छे स्वभाव के हैं। यह हम लोगों का सौभाग्य है की हमें उनका सानिध्य प्राप्त हुआ। यहां पर भी मुझे घर के सामान सभी साधन उपलब्ध हैं। किन्तु छोटे भाई अनंत की याद मुझे हमेशा सताती रहती है।

माताजी को एवं प्रिय दादी को मेरा चरण स्पर्श व अनंत को मेरा प्यार। कृपया इसी प्रकार पत्र प्रेषित रहिये।

आपका आज्ञाकारी
पुत्र
नवीन शुक्ला
कक्षा 8

मित्र को पत्र

4/35,कौशल खंड
केशव नगर
कानपुर – 208007

8 सितम्बर 2017

विषय : अपने मित्र को उसकी सफलता पर बधाई पत्र

प्रिय मित्र पवन,

प्रतियोगिता में शानदार सफलता प्राप्त करने के लिए हार्दिक शुभकामनाएं। मुझे पूर्ण विश्वास है की तुम और भी अधिक सफलता प्राप्त करोगे। मैंने इस विषय में अपनी माता को भी बताया था।
यह खुशखबरी हमारे एक मित्र रघुनाथ ने मुझे सुबह दी। मै यह सुनकर अत्यंत खुश हुआ। लम्बे समय से तुम्हारे इस समाचार को सुनने का इच्छुक था। मुझे विश्वास है की भविष्य में तुम इससे भी अधिक सफलता प्राप्त करोगे।
एक बार फिर से तुम्हारी इस सफलता पर तुम्हे हार्दिक शुभकामनाएं।
तुम्हारा मित्र
कृष्ण कुमार

मित्र को परीक्षा में प्रथम स्थान प्राप्त करने पर बधाई पत्र 

51/150 वायुविहार
20-जून-2017

प्रिय मित्र दीपक

नमस्ते

तुम्हारे पिता को फोन किया, उन्ही से ज्ञात हुआ की तुम बोर्ड परीक्षा में मुरादाबाद जिले में प्रथम आये हो। इस समाचार को सुनकर मन ख़ुशी से भर गया। मुझे तो पहले से ही विश्वास था की तुम प्रथम श्रेणी में अच्छे अंकों से उत्तीर्ण होंगे लेकिन यह जानकार की तुमने परीक्षा में प्रथम श्रेणी के साथ-साथ जिले में प्रथम स्थान भी प्राप्त किया है ,मेरी प्रसन्नता की सीमा न रही। इस परीक्षा के लिए तुम्हारे परिश्रम और नियमितता ने ही वास्तव में उचाई तक पहुंचाया है। मुझे पूरी आशा थी की तुम्हारा परिश्रम रंग दिखायेगा और मेरा अनुमान सच साबित हुआ। तुमने प्रथम स्थान प्राप्त कर यह सिद्ध कर दिया की दृढ संकल्प और कठिन परिश्रम से कुछ भी प्राप्त  सकते है।

मई सदैव यह कामना करूँगा की युम्हे जीवन में हर परीक्षा में प्रथम आने का सौभाग्य प्राप्त हो और तुम इसी प्रकार परिवार और विद्यालय का गौरव बढ़ाते रहो। इस प्रकार मेहनत करते रहो और अधिक अंक प्राप्त करने में सफल हो।

तुम्हारा मित्र
आकाश

आशा है htips की यह पोस्ट पत्र लेखन आपको पसंद आएगी और आप सभी तरह के पत्र लेखन इस पोस्ट के माध्यम से सीख पाएंगे

इस पोस्ट से संबंधित किसी अन्य प्रश्न के लिए कमेंट जरूर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to top