आतंकवाद पर निबंध | Essay on Terrorism in Hindi

essay on terrorism

इस पेज पर आप आतंकवाद पर निबंध की समस्त जानकारी पढ़ना चाहते हैं तो आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़िए।

पिछले पेज पर हमने विज्ञान के चमत्कार पर निबंध की जानकारी शेयर की हैं तो उस आर्टिकल को भी पढ़े।

चलिए आज हम आतंकवाद पर निबंध की जानकारी को पढ़ते और समझते हैं।

आतंकवाद पर निबंध

आतंकवाद एक ऐसी भावना है, जिसका उद्देश्य अवैध तरीकों से आम लोगों में भय पैदा करना होता है। यह मानवता के लिए खतरा है। 

इसमें हिंसा फैलाने वाले व्यक्ति या समूह, दंगे, चोरी, बलात्कार, अपहरण, लड़ाई, बम विस्फोट आदि शामिल हैं। आतंकवाद कायरता का कार्य है। 

साथ ही, आतंकवाद का धर्म से कोई लेना-देना नहीं है। आतंकवादी केवल आतंकवादी होता है, हिंदू या मुसलमान नहीं।

आतंकवाद के प्रकार

आतंकवाद दो तरह का होता है, एक है राजनीतिक आतंकवाद जो बड़े पैमाने पर दहशत पैदा करता है और दूसरा आपराधिक आतंकवाद जो फिरौती के पैसे लेने के लिए अपहरण का काम करता है। 

राजनीतिक आतंकवाद आपराधिक आतंकवाद से कई अधिक महत्वपूर्ण है क्योंकि यह अच्छी तरह से प्रशिक्षित व्यक्तियों द्वारा किया जाता है। कानून लागू करने वाली एजेंसियों के लिए इस प्रकार के आतंकवादियों को समय पर गिरफ्तार करना मुश्किल हो जाता है।

आतंकवाद राष्ट्रीय स्तर के साथ-साथ अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी फैला हुआ है। क्षेत्रीय आतंकवाद सबसे अधिक हिंसक है। क्योंकि आतंकवादी सोचते हैं कि एक आतंकवादी के रूप में मरना पवित्र है। 

आतंकवाद के कारण

आतंकवाद के विकास या बड़ी मात्रा में मशीन गनों, परमाणु बमों, हाइड्रोजन बमों, परमाणु हथियारों, मिसाइलों आदि के उत्पादन के कुछ मुख्य कारण हैं। 

तीव्र जनसंख्या वृद्धि, राजनीति, सामाजिक, आर्थिक समस्याएं, देश की व्यवस्था के प्रति लोगों का असंतोष, शिक्षा का अभाव, भ्रष्टाचार, जातिवाद, आर्थिक असमानता, भाषाई अंतर, यह सभी आतंकवाद के प्रमुख कारण हैं, और उनके बाद आतंकवाद पनपता है। 

लोग अपनी बात को साबित करने और उसे सही ठहराने के लिए आतंकवाद को हथियार की तरह इस्तेमाल करते हैं। हिंदुओं और मुसलमानों के बीच दंगे सबसे प्रसिद्ध हैं लेकिन जातिवाद और आतंकवाद में अंतर है।

आतंकवाद के प्रभाव

आतंकवाद लोगों में भय फैलाता है, देश में रहने वाले लोग आतंकवाद के कारण असुरक्षित महसूस करते हैं। आतंकवादी हमलों से लाखों का माल नष्ट हो जाता है, हजारों बेगुनाहों की जान चली जाती है, जानवर भी मारे जाते हैं। 

एक आतंकवादी गतिविधि को देखकर मानवता में अविश्वास पैदा होता है, यह एक और आतंकवादी को जन्म देता है। देश और विदेश के अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग तरह के आतंकवाद मौजूद हैं।

आज आतंकवाद केवल भारत की ही समस्या नहीं है, बल्कि हमारे पड़ोसी देश की भी समस्या है और इससे निपटने के लिए दुनिया भर की सरकारें बहुत प्रयास कर रही हैं। 

11 सितंबर 2001 को वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हुए हमले को दुनिया का सबसे बड़ा आतंकी हमला माना जाता है। ओसामा बिन लादेन ने दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश की सबसे ऊंची इमारत पर हमला किया, जिसमें लाखों लोग मारे गए और हजारों लोग मारे गए।

भारत में आतंकवादी हमले

भारत ने कई आतंकवादी हमलों का सामना किया है जिससे जनता में भय पैदा हुआ और भारी विनाश हुआ। 

पिछले कुछ वर्षों में भारत में हुए कुछ प्रमुख आतंकवादी हमले 1991 की पंजाब हत्याएं, 1993 में बॉम्बे बम विस्फोट, चेन्नई में RSS बमबारी, 2000 की चर्च बमबारी, लाल किला आतंकवादी हमला, 2001 का भारतीय संसद हमला, 2002 में मुंबई बस बम विस्फोट, अक्षरधाम मंदिर पर हमला, 2003 में मुंबई बमबारी, 2004 में असम में धेमाजी स्कूल बमबारी, 2005 में दिल्ली बम विस्फोट, भारतीय विज्ञान संस्थान शूटिंग, 2006 में वाराणसी बम विस्फोट, मुंबई ट्रेन बम विस्फोट, मालेगांव बम विस्फोट, 2007 का समझौता एक्सप्रेस बम विस्फोट, मक्का मस्जिद बमबारी, हैदराबाद बमबारी, अजमेर दरगाह बमबारी, 2008 में जयपुर बम विस्फोट, बैंगलोर सीरियल विस्फोट, अहमदाबाद बम विस्फोट, दिल्ली बम विस्फोट, मुंबई हमले, 2010 का पुणे बमबारी, वाराणसी बमबारी इत्यादि हैं।

भारत में आतंकवाद से लड़ने वाली एजेंसियां

भारत में कई पुलिस, खुफिया और सैन्य संगठनों ने देश में आतंकवाद से लड़ने के लिए विशेष एजेंसियों का गठन किया है। भारत में आतंकवाद के खिलाफ लड़ने वाली प्रमुख एजेंसियां ​​​​Anti-Terrorism Squad (ATS), Research and Analysis Wing (RAW), National Investigation Agency (NIA) हैं।

निष्कर्ष

आतंकवाद एक वैश्विक खतरा बन गया है जिसे प्रारंभिक स्तर से नियंत्रित करने की आवश्यकता है। केवल कानून लागू करने वाली एजेंसियां आतंकवाद को नियंत्रित नहीं कर सकतीं। आतंकवाद के इस बढ़ते खतरे का सामना करने के लिए दुनिया के लोगों को भी एक होना होगा।

आतंकवाद पर निबंध 100 शब्दों में

आतंकवाद पूरी दुनिया में एक बड़ी राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय समस्या बन गया है। यह एक वैश्विक मुद्दा है जिसने प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से दुनिया भर के लगभग सभी देशों को प्रभावित किया है। 

हालांकि कई देशों द्वारा आतंकवाद का विरोध करने की कोशिश की गई है। आतंकियों को अभी भी किसी का समर्थन मिल रहा है। आतंकवाद दिन या रात में कभी भी आम जनता को डराने का एक हिंसक कार्य है। 

आतंकवादियों के कई उद्देश्य होते हैं जैसे समाज में हिंसा का खतरा फैलाना, राजनीतिक उद्देश्यों को पूरा करना आदि। वह देश के नागरिकों को अपना प्राथमिक लक्ष्य बनाते हैं।

आतंकवाद के प्रसिद्ध उदाहरण हिरोशिमा और नागासाकी पर परमाणु बम हमले आदि हैं। आतंकवादियों का मुख्य लक्ष्य एक विशेष देश की सरकार द्वारा उनकी मांगों को पूरा करना है।

वह जनता और सरकार तक अपनी आवाज पहुंचाने के लिए ऑनलाइन सोशल मीडिया या अखबार, पत्रिका आदि से संपर्क करते हैं। कभी-कभी आतंकवादी हमले धार्मिक और वैचारिक लक्ष्य को पूरा करने के लिए किए जाते हैं।

आतंकवाद पर निबंध 200 शब्दों में

आतंकवाद एक अवैध कार्य है, जिसका उद्देश्य आम लोगों में भय पैदा करना होता है। आतंकवाद सिर्फ एक शब्द नहीं है बल्कि यह मानवता के लिए सबसे बड़ा खतरा है। 

अगर कोई व्यक्ति या समूह हिंसा, दंगा, चोरी, बलात्कार, अपहरण, लड़ाई, बम विस्फोट फैलाता है, तो यह सब आतंकवाद है। 

भारत में पहली बार आतंकवाद को नक्सली माना गया। 1967 में पहली बार बंगाल क्षेत्र के कुछ निवासी उग्र हुए थे जो अपनी बात रखने के लिए नक्सली बनकर सामने आए थे।     

आतंकवाद के कुछ मुख्य कारण बड़ी मात्रा में मशीन गनों, परमाणु बमों, हाइड्रोजन बमों, परमाणु हथियारों, मिसाइलों आदि का उत्पादन, तीव्र जनसंख्या वृद्धि, राजनीति, सामाजिक, अर्थव्यवस्था, देश की व्यवस्था से असंतुष्ट, शिक्षा की कमी, खराब संगति इत्यादि हैं।

उग्रवादी के अंदर एक समाज होता है, देश के खिलाफ बगावत, असंतोष, भ्रष्टाचार, जातिवाद, आर्थिक असमानता, भाषाई भेद, यह सभी आतंकवाद के मूल तत्व हैं, इनके बाद आतंकवाद पनपता है। 

हिंदुओं और मुसलमानों के बीच दंगे सबसे प्रसिद्ध हैं। लेकिन जाति और आतंकवाद में अंतर है। पैसा कमाने की हड़बड़ी में भी लोग आतंकवाद करते हैं और बुरा काम करके रातों-रात अमीर बनना चाहते हैं।

आतंकवाद लोगों में भय पैदा करता है। लोग अपने राज्य, अपने देश में असुरक्षित महसूस करते हैं। आतंकवाद के कारण लाखों का माल नष्ट हो जाता है और हजारों निर्दोष लोगों की जान चली जाती है। जानवर भी मारे जाते हैं।

विश्व का सबसे बड़ा आतंकवादी हमला वर्ल्ड ट्रेड सेंटर माना जाता है। 11 सितंबर 2001 को ओसामा बिन लादेन ने दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश की सबसे ऊंची इमारत पर हमला किया, जिससे लाखों लोग हताहत हुए और हजारों लोग मलबे में दब गए। अमेरिका ने अपने सबसे बड़े दुश्मन पर फिल्मी तरीके से प्रहार किया था।

आतंकवाद पर निबंध 300 शब्दों में

आतंकवाद हमारे आसपास के क्रूर लोगों द्वारा किए गए मूर्खतापूर्ण कार्य का प्रतिनिधित्व करता है। लोगों का समूह अपनी शक्ति दिखाने के लिए निश्चित क्षेत्र पर शासन करने की कोशिश करता है। 

आतंकवाद का समाज के साथ-साथ व्यक्तिगत जीवन पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ा। उनके कार्यों के कारण कई परिवार खत्म हो जाते है। 

भारत में यह कहना दुखद है, लेकिन अपराधों की संख्या दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है। प्राचीन भारत राजशाही में था जहाँ शासन करना राजा के लिए गर्व की बात थी, लेकिन बाद में भारत ने लोकतंत्र को स्वीकार कर लिया और भारत में सभी के साथ समान व्यवहार किया जाता है। 

फिर भी कुछ कायर गरीब और असहाय लोगों पर अपना दबदबा बनाए रखने की कोशिश करते हैं। 26 नवंबर की तारीख को कौन भूल सकता है, जिसे 26/11 के नाम से जाना जाता है! जहां 10 आतंकियों ने देश में घुसकर भारत के आर्थिक शहर पर हमला बोल दिया।

ग्रेनेड, पिस्तौल, राइफल और अन्य विनाशकारी हथियार लाकर उन्होंने शहर को लगभग नष्ट कर दिया और आधी रात को भारतीयों को चौंका दिया। लोग रेलवे स्टेशन, होटलों और सड़कों पर मजे से अपनी जिंदगी जी रहे थे और अचानक उनके जीवन में एक ऐसा खतरा आ गया, जिसकी उन्हें उम्मीद नहीं थी। 

दुनिया का सबसे बड़ा आतंकवादी था ओसामा बिन लादेन! उनका नाम सुनकर आज भी लोग डरे हुए हैं। उसने ‘वर्ल्ड ट्रेड सेंटर’ नाम की एक इमारत को हवाई जहाज की मदद से नष्ट कर दिया था। 

आतंकवाद की उत्पत्ति छोटी-छोटी बातों से शुरू होती है। दोस्त से चुराया गया पहला पेन भी काम कर सकता है। हर चीज की शुरुआत छोटे चीज से होती है और अगर इसे छोड़ दिया जाए, तो ऐसे में लोग भटक सकते हैं और सही रास्ता खो सकते हैं। 

आतंकवाद को खत्म करने की शुरुआत घर से होती है, अगर आपका कोई बच्चा है तो उसे अच्छी आदतों के साथ सबसे अच्छा इंसान बनने के तरीके सिखाएं, बजाय इसके कि जब वह कुछ चुराने लगे तो उसका साथ दें। 

आतंकवाद पर निबंध 500 शब्दों में

आतंकवादी कहे जाने वाले प्रशिक्षित लोगों के समूह के द्वारा अन्यायपूर्ण और हिंसात्मक गतिविधियों को अंजाम देने की प्रक्रिया को आतंकवाद कहते हैं। 

वहाँ केवल एक मालिक होता है जो समूह को किसी भी खास कार्य को किसी भी तरीके से करने का सख्त आदेश देता है। अपने अन्यायी विचारों की पूर्ति के लिये उन्हें पैसा, ताकत और प्रचार की जरुरत होती है। 

ऐसी परिस्थिति में, यह मीडिया होती है जो किसी भी राष्ट्र के समाज में आतंकवाद के बारे में खबर फैलाने में मदद करती है। अपनी योजना, विचार और लक्ष्य के बारे में लोगों तक पहुँच बनाने के लिये आतंकवाद भी मीडिया का सहारा लेता है।

अपने उद्देश्य और लक्ष्य के अनुसार विभिन्न आतंकी समूह का नाम पड़ता है। आतंकवाद की क्रिया मानव जाति को बड़े पैमाने पर प्रभावित करती है और लोगों को इतना डरा देती है कि लोग अपने घरों से बाहर निकलने में डरते हैं। 

वह सोचते हैं कि आतंक हर जगह है जैसे घर के बाहर रेलवे स्टेशन, मंदिर, सामाजिक कार्यक्रमों, राष्ट्रीय कार्यक्रमों आदि में जाने से घबराते हैं। 

लोगों के दिमाग पर राज करने के साथ ही अपने कुकृत्यों कों प्रचारित और प्रसारित करने के लिये अधिक जनसंख्या के खास क्षेत्रों के तहत आतंकवादी अपने आतंक को फैलाना चाहते हैं। 

आतंकवाद के कुछ हालिया उदाहरण अमेरिका का 9/11 और भारत का 26/11 हमला है। इसने इंसानों के साथ ही बड़े पैमाने पर देश की अर्थव्यवस्था को भी चोट पहुँचायी है।

राष्ट्र से आतंकवाद और आतंक के प्रभाव को खत्म करने के लिये, सरकार के आदेश पर कड़ी सुरक्षा का प्रबंध किया गया है। वह सभी जगह जो किसी भी वजह से भीड़-भाड़ वाली जगह होती या बन जाती है जैसे सामाजिक कार्यक्रम, राष्ट्रीय कार्यक्रम जैसे गणतंत्र दिवस, स्वतंत्रता दिवस, मंदिर आदि को मजबूत सुरक्षा घेरे में रखा जाता है। 

सभी को सुरक्षा नियमों का पालन करता पड़ता है और ऑटोमैटिक बॉडी स्कैनर मशीन से गुजरना पड़ता है। इस तरह के उपकरणों का इस्तेमाल करने के द्वारा सुरक्षा कर्मियों को आतंकवादी की मौजूदगी का पता लगाने में मदद मिलती है। 

इस तरह की कड़ी सुरक्षा प्रबंधन के बाद भी हम लोग अभी-भी आतंकवाद के खिलाफ प्रभावशाली रुप से नहीं खड़े हो पा रहें हैं।

आतंकी समूह को खत्म करने के साथ ही आतंक के खिलाफ लड़ने के लिये हर साल हमारा देश ढ़ेर सारे पैसे खर्च करता है। हालाँकि, यह अभी-भी एक बीमारी की तरह बढ़ रही है क्योंकि रोजाना नये आतंकवादी तैयार हो रहें हैं। 

वह हमारी तरह ही बहुत सामान्य लोग हैं लेकिन उन्हें अन्याय करने के लिये तैयार किया जाता है और अपने एक समाज, परिवार और देश के खिलाफ लड़ने के लिये दबाव बनाया जाता है। 

वह इस तरह से प्रशिक्षित होते हैं कि उन्हें अपने जीवन से भी प्यार नहीं होता, वह लड़ते समय हमेशा कुर्बान होने के लिये तैयार रहते हैं। एक भारतीय नागरिक के रुप में, आतंकवाद को रोकने के लिये हम सभी पूरी तरह से जिम्मेदार हैं और यह तभी रुकेगा जब हम कुछ बुरे लोगों की लालच भरी बातों में कभी नहीं आयेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to top