स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध

इस पेज पर आप स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध की समस्त जानकारी पढ़ने वाले हैं तो पोस्ट को पूरा जरूर पढ़िए।

पिछले पेज पर हमने पर्यावरण पर निबंध की जानकारी शेयर की हैं तो उस पोस्ट को भी पढ़े।

चलिए आज हम स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध की समस्त जानकारी को पढ़ते और समझते हैं।

स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध 100 शब्दों में

स्वच्छ भारत अभियान भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 2 अक्टूबर 2014 को शुरू की गई एक पहल थी। इस मिशन का मुख्य उद्देश्य शौचालय और स्नान क्षेत्रों जैसी स्वच्छ और स्वच्छता सुविधाओं के निर्माण के माध्यम से लोगों में स्वच्छता के महत्व के बारे में जागरूकता पैदा करना और ग्रामीण क्षेत्रों में खुले में शौच की प्रथा को समाप्त करना था।

मिशन का उद्देश्य प्रत्येक नागरिक को उचित सीवेज सिस्टम, सुरक्षित और पर्याप्त पेयजल आपूर्ति, स्नान सुविधा, शौचालय, हैंडपंप, तरल और ठोस अपशिष्ट निपटान प्रणाली और ग्रामीण स्वच्छता के साथ बुनियादी स्वच्छता प्रदान करना है।

लगभग 30 लाख छात्रों और सरकारी कर्मचारियों की भागीदारी के साथ स्वच्छ भारत अभियान अब तक का सबसे महत्वपूर्ण भारतीय अभियान है। स्वच्छ भारत अभियान का उद्देश्य 2 अक्टूबर, 2019 से पहले भारत को खुले में शौच मुक्त बनाना था।

स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध 200 शब्दों में

भारत को स्वच्छ देश बनाना महात्मा गांधी का सपना था। बापू के सपने को प्राप्त करने और उनकी 145 वीं वर्षगांठ मनाने के लिए, 2 अक्टूबर 2014 को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा ‘स्वच्छ भारत अभियान’ की शुरुआत की गई थी। इस अभियान का उद्देश्य 2 अक्टूबर, 2019, 150 वीं जयंती से पहले भारत को एक स्वच्छ देश बनाना है।

स्वच्छ भारत अभियान के माध्यम से, भारत सरकार का उद्देश्य स्वच्छता और स्वच्छता संबंधी समस्याओं को हल करना था। इस अभियान का मुख्य लक्ष्य शौचालय और स्नान कक्ष का निर्माण, खुले में शौच की समस्या का उन्मूलन, ठोस और तरल कचरे का उचित निपटान, स्वच्छ और सुरक्षित पेयजल था।

देश के समग्र विकास और सभी नागरिकों के स्वास्थ्य और कल्याण के लिए एक स्वच्छता अभियान बनाना बेहद जरूरी है। चूंकि भारत की अधिकांश आबादी ग्रामीण क्षेत्र में रहती है, इसलिए स्वास्थ्य और स्वच्छता के प्रति जागरूकता पैदा करना बहुत महत्वपूर्ण है। 

अधिकांश भारतीय गांवों में सुरक्षित सड़कों, स्वच्छ शौचालय, स्वच्छ और सुरक्षित पेयजल की कमी है। इसलिए स्वच्छ भारत अभियान लोगों के जीवन स्तर को बेहतर बनाने की एक पहल है।

इस प्रकार, स्वच्छ भारत अभियान स्वास्थ्य और स्वच्छता के माध्यम से भारतीय नागरिकों के जीवन स्तर में सुधार लाने का एक अभियान है। इस अभियान का उद्देश्य भारत को स्वच्छ और बेहतर बनाना है।

स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध 300 शब्दों में

स्वच्छ भारत अभियान पूरे भारत में 4041 वैधानिक शहरों और कस्बों को कवर करने के उद्देश्य से चलाया गया एक स्वच्छता अभियान है। इसे 2 अक्टूबर 2014 को लॉन्च किया गया था।

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने एक बार कहा था कि भारत की स्वतंत्रता से पहले अपने समय के दौरान “स्वच्छता स्वतंत्रता से अधिक महत्वपूर्ण है”। जैसा कि उन्होंने भारत में बहुत से लोगों को स्वच्छता के साथ-साथ दैनिक जीवन में इसके कार्यान्वयन पर जोर दिया। लेकिन वह असफल रहे क्योंकि लोगों की अधूरी भागीदारी के कारण यह इतना प्रभावी नहीं था।

आजादी के इतने सालों के बाद भारत की स्वच्छता के लिए सबसे प्रभावी अभियान शुरू किया गया है ताकि लोगों को उनकी सक्रिय भागीदारी के लिए बुलाया जा सके और देश को साफ करके मिशन को पूरा किया जा सके।

इसकी शुरुआत भारत के माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने राजघाट, दिल्ली में जमीन पर झाड़ू लगाकर की थी। इसे भारत सरकार का सबसे महत्वपूर्ण अभियान माना जाता है।

सरकार ने उन लोगों को भी 12000 रुपये देकर प्रोत्साहित किया, जिन्होंने खुद शौचालय बनाने के लिए कदम आगे बढ़ाया। विश्व बैंक ने स्वच्छ भारत अभियान को सफलतापूर्वक संचालित करने के लिए राशि भी प्रदान की।

इस अभियान के लिए प्रधान मंत्री द्वारा नामित पहले नौ लोगों में सलमान खान, अनिल अंबानी, कमल हसन, कॉमेडियन कपिल शर्मा, प्रियंका चोपड़ा, बाबा रामदेव, सचिन तेंदुलकर, शशि थरूर और तारक मेहता का उल्टा चश्मा की टीम है।

कुछ अन्य हस्तियों ने भी इस मिशन या अभियान को बढ़ावा देने में मदद की जैसे अखिलेश यादव, स्वामी रामभद्राचार्य, मोहम्मद कैफ, द्विवेदी, मनोज शर्मा, कैलाश खेर, राजू श्रीवास्तव, सुरेश रैना, अमिताभ बच्चन, आदि।

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, 2018 तक भारत के करीब 3.25 लाख गांव खुले में शौच से मुक्त हो गए थे। इस अभियान के बहुत सकारात्मक निष्कर्ष हमारे सामने आए हैं। फिर भी इसमें और सुधार लाया जा सकता है।

स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध 400 शब्दों में

स्वच्छ भारत अभियान या स्वच्छ भारत मिशन भारत सरकार द्वारा शुरू किया गया एक स्वच्छता अभियान है, जिसे भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वच्छ भारत के अपने सपने को साकार करने के लिए महात्मा गांधी की 145 वीं जयंती पर शुरू किया था।

इस अभियान के तहत सरकार द्वारा तरह-तरह के प्रयास किए जा रहे हैं और प्रधानमंत्री मोदी ने देश के नागरिकों से अपना पूरा योगदान देने को कहा है ताकि भारत जल्द से जल्द एक स्वच्छ देश बन सके।

इस अभियान की शुरुआत में खुद प्रधानमंत्री ने सड़क साफ कर इस अभियान की शुरुआत की थी।

स्वच्छ भारत अभियान क्या है

स्वच्छ भारत अभियान अब तक का सबसे बड़ा अभियान है जिसमें लगभग 30 लाख सरकारी कर्मचारियों और छात्रों ने भाग लिया है। यह अभी भी लगातार चल रहा है और लोग अपने स्तर पर दिन-ब-दिन देश को स्वच्छ बनाने का प्रयास कर रहे हैं।

इस अभियान के शुभारंभ के दिन, प्रधान मंत्री मोदी ने 9 प्रसिद्ध हस्तियों को इस अभियान में योगदान देने के लिए कहा था और आगे 9 लोगों को इसमें भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया था।

उन्होंने इस सिलसिला को तब तक जारी रखने को कहा जब तक यह संदेश देश के हर नागरिक तक नहीं पहुंच जाता। नतीजा यह हुआ कि इसमें बॉलीवुड जगत के बड़े सितारों ने हिस्सा लिया और आम लोगों को भी इसमें शामिल होने के लिए प्रेरित किया।

यह कैसे मनाया जाता है

स्वच्छता अभियान के बाद आम लोग भी अपने घर और मोहल्ले में साफ-सफाई रख रहे हैं और कर्मचारियों से शिकायत कर रहे हैं कि कहीं कूड़ा तो नहीं है, जिससे देश कुछ हद तक साफ हो गया है।

कई बार हमारे प्रधान मंत्री ने देश की आम जनता को इस अभियान में शामिल होने और उनके द्वारा की गई सफाई को फेसबुक, ट्विटर आदि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर डालने के लिए कहा है ताकि अधिक से अधिक लोग भी इस तरह से प्रेरित होकर अपना योगदान दे सकें।

इनके अलावा, इस अभियान के समर्थन में, मार्च 2017 में, यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने सरकारी आधिकारिक भवनों में स्वच्छता सुनिश्चित करने के लिए पूरे यूपी में पान, गुटखा और अन्य तंबाकू उत्पादों पर प्रतिबंध लगा दिया।

निष्कर्ष

स्वच्छता अभियान ने भारतीय नागरिकों के जीवन स्तर में सुधार के साथ-साथ शौच, स्वच्छता आदि के बारे में जागरूकता फैलाने का काम किया है।

इस अभियान का असर यह हुआ है कि देश के कोने-कोने से हर व्यक्ति इसमें हिस्सा ले रहा है, जिससे देश पहले से ज्यादा साफ होने लगा है। यदि सभी नागरिक इसी तरह के प्रयास करते रहें तो पूर्ण स्वच्छ भारत का लक्ष्य शीघ्र ही प्राप्त हो जाएगा।

स्वच्छ भारत अभियान निबंध 500 शब्दों में

स्वच्छ भारत अभियान भारत में होने वाले सबसे महत्वपूर्ण और लोकप्रिय मिशनों में से एक है। स्वच्छ भारत अभियान का अर्थ है स्वच्छ भारत मिशन। यह अभियान भारत के सभी शहरों और कस्बों को स्वच्छ बनाने के लिए चलाया गया था।

यह अभियान भारत सरकार द्वारा प्रशासित किया गया था और प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा पेश किया गया था। इसे 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी के स्वच्छ भारत के दृष्टिकोण का सम्मान करने के लिए लॉन्च किया गया था। 

स्वच्छ भारत अभियान का स्वच्छता अभियान राष्ट्रीय स्तर पर चलाया गया और इसमें ग्रामीण और शहरी सभी कस्बों को शामिल किया गया। इसने लोगों को स्वच्छता के महत्व के बारे में जागरूक करने में एक बड़ी पहल के रूप में कार्य किया।

स्वच्छ भारत मिशन के उद्देश्य

स्वच्छ भारत अभियान ने प्राप्त करने के लिए बहुत सारे उद्देश्य निर्धारित किए ताकि भारत स्वच्छ और बेहतर बन सके। साथ ही इसने न केवल सफाईकर्मियों और श्रमिकों को बल्कि देश के सभी नागरिकों से अपील की। 

इसका उद्देश्य सभी घरों में स्वच्छता सुविधाओं का निर्माण करना है। ग्रामीण क्षेत्रों में सबसे आम समस्याओं में से एक खुले में शौच की है। स्वच्छ भारत अभियान का उद्देश्य इसे खत्म करना है।

इसके अलावा, भारत सरकार का इरादा सभी नागरिकों को हैंडपंप, उचित जल निकासी व्यवस्था, स्नान की सुविधा और बहुत कुछ प्रदान करना है। इससे नागरिकों में स्वच्छता को बढ़ावा मिलेगा ।

इसी तरह जागरूकता कार्यक्रमों के माध्यम से लोगों को स्वास्थ्य और शिक्षा के प्रति जागरूक किया गया। उसके बाद, एक नागरिकों को कचरे से निपटना सिखाया गया था।

भारत को स्वच्छ भारत अभियान की आवश्यकता क्यों है

भारत को गंदगी को मिटाने के लिए स्वच्छ भारत अभियान जैसे स्वच्छता अभियान की सख्त जरूरत है। यह स्वास्थ्य और कल्याण की दृष्टि से नागरिकों के समग्र विकास के लिए महत्वपूर्ण है। चूंकि भारत की अधिकांश आबादी ग्रामीण क्षेत्रों में रहती है, इसलिए यह एक बड़ी समस्या है।

आमतौर पर इन क्षेत्रों में लोगों के पास शौचालय की उचित सुविधा नहीं होती है। वह मलमूत्र के लिए खेतों या सड़कों पर निकल जाते हैं। यह प्रथा नागरिकों के लिए बहुत सारी स्वच्छता समस्याएं पैदा करती है। इसलिए, स्वच्छ भारत मिशन इन लोगों के जीवन स्तर को बेहतर बनाने में बहुत मददगार हो सकता है।

दूसरे शब्दों में, स्वच्छ भारत अभियान उचित अपशिष्ट प्रबंधन में भी मदद करेगा। जब हम कचरे का सही तरीके से निपटान करेंगे और कचरे को रीसायकल करेंगे, तो यह देश का विकास करेगा। चूंकि इसका मुख्य फोकस एक ग्रामीण क्षेत्र है, इसके माध्यम से ग्रामीण नागरिकों के जीवन की गुणवत्ता को बढ़ाया जा सकेगा।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि यह अपने उद्देश्यों के माध्यम से सार्वजनिक स्वास्थ्य को बढ़ाता है। भारत दुनिया के सबसे गंदे देशों में से एक है और यह मिशन इसे बदल सकता है। इसलिए, भारत को इसे प्राप्त करने के लिए स्वच्छ भारत अभियान जैसे स्वच्छता अभियान की आवश्यकता है।

संक्षेप में, स्वच्छ भारत अभियान भारत को स्वच्छ और हरा-भरा बनाने की एक शानदार शुरुआत है। यदि सभी नागरिक एक साथ आएं और इस अभियान में भाग लें, तो भारत जल्द ही समृद्ध होगा। 

इसके अलावा, जब भारत की स्वच्छता की स्थिति में सुधार होगी, तो हम सभी को समान रूप से लाभ होगा। भारत में हर साल अधिक पर्यटक आएंगे और नागरिकों के लिए एक खुशहाल और स्वच्छ वातावरण तैयार होगा।

स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध 600 शब्दों में

हमारे बापू, महात्मा गांधी विशेष रूप से अंग्रेजों के साथ-साथ हमारे देश और उसके नागरिकों को सभी गंदगी और अशुद्धियों से दूर करने में रुचि रखते थे। वह प्राचीन दिनों से जानते थे कि स्वच्छता से तन और मन स्वस्थ रहता है।

बापू के दृष्टिकोण से प्रेरित होकर 2 अक्टूबर 2014 को श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत सरकार ने खुले में शौच का उन्मूलन, अपशिष्ट प्रबंधन में सुधार और नागरिकों को स्वच्छता के महत्व से अवगत कराकर 2019 तक भारत को स्वच्छ बनाने का मिशन बनाया। इस मिशन का नाम स्वच्छ भारत मिशन या स्वच्छ भारत आंदोलन था।

स्वच्छ भारत मिशन के कारण क्या थे

स्वच्छ भारत मिशन का प्राथमिक उद्देश्य खुले में शौच की प्रथा को रोकना और नागरिकों की व्यक्तिगत स्वच्छता में सुधार करना था। UNICEF के अनुसार, खुले शौच में लाखों वायरस और परजीवी हो सकते हैं। यह वायरस और परजीवी ही कारण हैं कि हर साल एक लाख बच्चे डायरिया से मर जाते हैं।

2014 तक भारत को खुले शौच से मुक्त बनाना इस मिशन का मुख्य उद्देश्य था, इसका उद्देश्य लोगों को ठोस और तरल कचरे से पैदा होने वाली समस्याओं के बारे में अधिक जागरूक करना भी था। स्वच्छ भारत मिशन का उद्देश्य हमारी नदियों, जल निकासी व्यवस्था, बसों, कार्यालयों और सड़कों को साफ-सुथरा बनाना है।

स्वच्छ भारत अभियान का शुभारंभ

स्वच्छ भारत अभियान कोई ऐसी चीज नहीं है जो रातों-रात हो गई हो। भारत एक बड़ा देश है और इसमें सुधार के लिए सावधानीपूर्वक योजना बनाने की आवश्यकता है। स्वच्छ भारत मिशन से पहले, भारत में पिछले दो स्वच्छता मिशनों ने 2014-2019 के सबसे सफल स्वच्छता अभियान का मार्ग प्रशस्त किया। 

मार्च 2014 में UNICEF और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान द्वारा आयोजित एक सम्मेलन में इस अभियान की कल्पना की गई थी। उस वर्ष के बाद, हमारे राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जन्मदिन पर, स्वच्छ भारत मिशन को हरी झंडी दिखाई गई। 

यह एक कठिन परियोजना थी जिसके लिए पूरे देश में 90 मिलियन शौचालयों के निर्माण की आवश्यकता थी। मिशन की गंभीरता का अंदाजा तब लगाया जा सकता है जब हम देखते हैं कि सरकार ने परियोजना के लिए 1.96 करोड़ रुपये निर्धारित किए थे।

परिणाम

स्वच्छ भारत मिशन एक बड़ी सफलता थी। भारत एक ऐसा देश था जिसकी छवि खुले में शौच की व्यापक प्रथा के कारण खराब हुई थी। स्वच्छ भारत मिशन के बाद, UNICEF ने पुष्टि की है कि मिशन ने वास्तव में सकारात्मक तरीके से प्रभाव डाला है। लोग अब साफ-सफाई और शौचालय की बात करने से नहीं हिचकिचाते।

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक स्वच्छ भारत मिशन की शुरुआत के बाद से अब तक 1028.67 लाख शौचालय बन चुके हैं। 736 में से 706 जिले खुले शौच से मुक्त हो गए हैं। 

जिन गांवों में खुले में शौच एक बड़ी समस्या थी, उन्होंने भी इस मिशन के सकारात्मक प्रभावों की सूचना दी है। भारत में 6,03,175 गांव अब खुले में शौच से मुक्त हैं।

चुनौतियाँ 

हालांकि स्वच्छ भारत मिशन ने अभूतपूर्व सफलता हासिल की है, फिर भी कुछ चीजें हैं जो अभी भी किए जाने की जरूरत है। भारत सरकार ने लाखों शौचालय बनाकर बहुत अच्छा काम किया है। हालांकि, भारतीयों की मानसिकता को बदलना समय की मांग है। 

घरों में शौचालय होने के बावजूद कई लोगों को खुले में शौच करना फायदेमंद लगता है। वह घर के अंदर शौचालय में शौच करके अपने घरों की पवित्रता को ‘खराब’ नहीं करना चाहते हैं। इन लोगों को यह याद रखने की जरूरत है कि बाहरी दुनिया और कुछ नहीं बल्कि उनके घरों का विस्तार है। पृथ्वी उनका घर है। ग्रह को सुंदर बनाना लोगों का कर्तव्य है।

एक बेहतर कल की ओर एक कदम

स्वच्छ भारत अभियान एक महत्वाकांक्षी परियोजना है। जब अन्य देश लोगों के जीवन में सुधार किए बिना चंद्रमा और मंगल को निशाना बना रहे हैं, तो हमारी सरकार ने लोगों के पहले दृष्टिकोण को अपनाया है।

स्वच्छ भारत अभियान के साथ-साथ हमारे दिलों को साफ-सुथरा बनाना भी जरूरी है। हमें एक-दूसरे का सम्मान करना चाहिए, महिलाओं का सम्मान करना चाहिए और धर्म या जाति के नाम पर एक-दूसरे पर हमला नहीं करना चाहिए। उसके बाद ही हम कह सकते हैं कि हम शारीरिक के साथ-साथ आध्यात्मिक रूप से भी स्वच्छ हैं।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.