पर्यावरण पर निबंध | Paryavaran Essay in Hindi

Essay on Environment

इस पेज पर आप पर्यावरण पर निबंध की समस्त जानकारी पढ़ना चाहते हैं तो आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़िए।

पिछले पेज पर हमने पर्यावरण की जानकारी शेयर की हैं तो उस आर्टिकल को भी पढ़े।

चलिए आज हम पर्यावरण पर निबंध की जानकारी को पढ़ते और समझते हैं।

पर्यावरण पर निबंध 100 शब्दों में

पर्यावरण जीवित जीवों के रहने का स्थान होता है। मनुष्य पर्यावरण का हिस्सा हैं, लेकिन उनकी गतिविधियां नहीं हैं, क्योंकि वह प्राकृतिक पर्यावरण से मेल नहीं खाते हैं। इसलिए ऐसे पर्यावरण को कृत्रिम पर्यावरण कहा जाता है। 

दवा से लेकर भोजन तक पर्यावरण कई संसाधन प्रदान करता है। इसके अलावा, पर्यावरण जीवों की अनगिनत प्रजातियों का घर है, जिनमें से कुछ विलुप्त होने के कगार पर हैं। 

जीवों के विलुप्त होने में तेजी लाने वाला एक अन्य कारक उनके पर्यावरण का विनाश है। अधिकांश जीवों को पनपने के लिए अपने प्राकृतिक आवास की आवश्यकता होती है। इसके बिना जीवों का नाश हो सकता है।

मानव गतिविधियों ने कई समस्याओं को जन्म दिया है। यदि इन गतिविधियों को नियंत्रित नहीं किया जाता है तो हमारा पर्यावरण खत्म हो जाएगा।

पर्यावरण पर निबंध 200 शब्दों में

पर्यावरण वह प्राकृतिक परिवेश है जिसमें सभी पौधे, जानवर, मनुष्य और अन्य जीवित प्राणी रहते हैं। प्रत्येक जीवित और निर्जीव वस्तु पर्यावरण से संबंधित है। 

एक नए जीवन को जन्म देने, जीवन के विकास, जीवन के अस्तित्व और किसी भी जीवन के समग्र कल्याण में पर्यावरण एक प्रमुख भूमिका निभाता है। यह हमें ताजी हवा प्रदान करता है जिसमें हम सांस लेते हैं, पानी जो हम पीते हैं, भोजन जो हम खाते हैं और हमारे अस्तित्व के लिए लगभग सभी संसाधन प्रदान करता हैं।

पर्यावरण हमें कई अन्य प्राकृतिक संसाधन भी प्रदान करता है जो बहुत महत्वपूर्ण हैं। प्राकृतिक संसाधन वह संसाधन हैं जो पर्यावरण हमें बिना बनाए प्राकृतिक रूप से देता है। 

इसमें सूर्य का प्रकाश, वातावरण, भूमि, जल, पौधे, जानवर, समुद्री जीवन, खनिज, विभिन्न प्रजातियां और पृथ्वी पर प्राकृतिक रूप से होने वाली सभी चीजें शामिल हैं। यह हमें ईंधन, धातु और उपयोग करने के लिए ऊर्जा के अधिकांश रूपों जैसे संसाधन प्रदान करता है।

फिर भी हम पर्यावरण का शोषण उन गतिविधियों से कर रहे हैं जो पर्यावरण को नुकसान पहुँचाती हैं। मानवीय गतिविधियाँ भवनों, उद्योगों, फर्मों के निर्माण और विकास के उद्देश्य से भू-दृश्यों का उपयोग करके प्राकृतिक पर्यावरण को मानवीय पर्यावरण में बदल देती हैं। 

प्राकृतिक संसाधनों का सावधानीपूर्वक उपयोग करना और स्वस्थ और प्राकृतिक रूप से समृद्ध जीवन के लिए प्रकृति को नुकसान पहुंचाने से बचाना महत्वपूर्ण है।

पर्यावरण पर निबंध 300 शब्दों में

पर्यावरण से तात्पर्य उस परिवेश से है, जिसमें जीव रहते हैं। यह वह अनुकूल परिस्थितियाँ हैं जिनमें मनुष्य, पशु या पौधा रहता है। इसमें अजैविक (भौतिक या निर्जीव) और जैविक (जीवित) दोनों शामिल हैं। पर्यावरण मानव सहित जीवों के जीवन को नियंत्रित करता है। 

यह परिवेश या परिस्थितियाँ जिनमें कोई जीव रहता है, हवा, पानी, भूमि आदि जैसे विभिन्न घटकों से बने होते है। यह घटक जीव के रहने के लिए पर्यावरण में एक संतुलन बनाने के लिए निश्चित अनुपात में पाए जाते हैं।

स्वच्छ पर्यावरण क्यों आवश्यक है

एक स्वस्थ और समृद्ध समाज और राष्ट्र के लिए स्वच्छ और सुरक्षित वातावरण बहुत महत्वपूर्ण है। यह पृथ्वी पर जीवन के अस्तित्व के लिए मूलभूत आवश्यकताओं में से एक है। स्वच्छ पर्यावरण क्यों महत्वपूर्ण है, इसके निम्नलिखित कारण हैं।

पौधों, जानवरों और मनुष्यों सहित कोई भी जीवित जीव दूषित परिवेश में जीवित नहीं रह सकता है। सभी जीवित प्रजातियों को जीवित रहने के लिए एक स्वस्थ और अनुकूल वातावरण की आवश्यकता होती है। 

एक अशुद्ध वातावरण एक असंतुलित पारिस्थितिकी तंत्र और विभिन्न प्रकार की बीमारियों की ओर ले जाता है। प्राकृतिक संसाधनों का ह्रास जीवन के अस्तित्व को बहुत कठिन बना देता है।

पर्यावरणीय क्षति के कारण

मानव आबादी की तीव्र वृद्धि पर्यावरण क्षरण के प्रमुख कारणों में से एक है। भूमि, भोजन, जल, वायु, जीवाश्म ईंधन और खनिजों जैसे प्राकृतिक संसाधनों का उपभोग भी इसके कारण है।

वनों की कटाई एक अन्य प्रमुख कारक है जो पूरे पारिस्थितिकी तंत्र को अस्वस्थ बना रहा है। वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण और मृदा प्रदूषण जैसे पर्यावरण के प्रदूषण का पूरे पारिस्थितिकी तंत्र पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। 

ओजोन क्षरण, ग्लोबल वार्मिंग, ग्रीनहाउस प्रभाव, जलवायु और मौसम की स्थिति में परिवर्तन, ग्लेशियरों के पिघलने आदि जैसी समस्याएं पर्यावरणीय क्षति से उत्पन्न होने वाले कुछ मुद्दे हैं।

पर्यावरण को स्वच्छ और स्वस्थ रखने के उपाय

पारिस्थितिक तंत्र को संतुलित करने और ग्रीनहाउस प्रभावों को नियंत्रित करने के लिए अधिक से अधिक पेड़ लगाए जाने चाहिए।

3R के सिद्धांत का प्रयोग करना चाहिए ; Reuse, Reduce और Recycle.

प्लास्टिक की थैलियों का उपयोग बंद करना चाहिए। जनसंख्या वृद्धि को नियंत्रित करना चाहिए।

निष्कर्ष

एक स्वस्थ और संतुलित पारिस्थितिकी तंत्र को बनाए रखने के लिए, मनुष्य को पर्यावरण के प्रति जिम्मेदार होने की आवश्यकता है। इसलिए अपने जीवन के अस्तित्व के लिए अपने परिवेश की देखभाल करना सर्वोच्च प्राथमिकता है।

पर्यावरण पर निबंध 400 शब्दों में

वो सभी प्राकृतिक चीजें जो पृथ्वी पर जीवन संभव बनाती है पर्यावरण के अंतरगत आती है। जैसे की जल, वायु, सूर्य का प्रकाश, भूमि, अग्नि, वन, पशु, पौंधें, इत्यादि।

ऐसा माना जाता है की केवल पृथ्वी ही पुरे ब्रह्माण्ड में एक मात्र ऐसा गृह है जहा जीवन के अस्तित्व के लिए आवश्यक पर्यावरण है।

पर्यावरण के बिना यहाँ हम जीवन का अनुमान नहीं लगा सकते इसीलिए हमें भविष्य में जीवन की संभावना सुनिश्चित करने के लिए अपने पर्यावरण को स्वस्थ्य और सुरक्षित रखना चाहिए। 

यह पृथ्वी पर रहने वाले प्रत्येक व्यक्ति की जिम्मेदारी है। हर किसी को आगे आना चाहिए और पर्यावरण की सुरक्षा के अभियान में शामिल होना चाहिए।

प्रकृति का संतुलन बनाए रखने के लिए पर्यावरण और जीवित चीजो के बीच नियमित रूप से विभिन्न चक्र घटित होते रहते है। हालांकि, अगर किसी भी कारण से यह चक्र बिगड़ जाते हैं तो प्रकृति का भी संतुलन बिगड़ जाता है जो की अंततः मानव के जीवन को प्रभावित करता है। 

हमारा पर्यावरण हजारो वर्षो से हमें और अन्य प्रकार के जीवो को धरती पर बढ़ने, विकसित होने और पनपने में मदद कर रहा है। मनुष्य पृथ्वी पर प्रकृति द्वारा बनाई गई सबसे बुद्धिमान प्राणी के रूप में माना जाता है इसीलिए उनमे ब्रह्मांड के बारे में पता करने की उत्सुकता बहुत ज्यादा है जो कि उन्हें तकनीकी उन्नति की दिशा में ले जाता है।

हर व्यक्ति के जीवन में इस प्रकार की तकनीकी उन्नति दिन-पर-दिन पृथ्वी पर जीवन के संभावनाओं को खतरे में डाल रहा है क्योकि हमारा पर्यावरण धीरे-धीरे नष्ट हो रहा है।

ऐसा लगता है की एक दिन जीवन बहुत हानिकारक हो जाएगी क्योकि प्राकृतिक हवा, मिट्टी और पानी प्रदूषित होते जा रहे है। हालाँकि यह इंसान, पशु, पौधे और अन्य जीवित चीजों के स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव दिखाना शुरू कर दिया है।

हानिकारक रसायनों के उपयोग द्वारा कृत्रिम रूप से तैयार उर्वरक जो की मिट्टी को खराब कर रहे हैं। वह प्रत्यक्ष रूप से हमारे दैनिक खाने के माध्यम से हमारे शरीर में एकत्र हो रहे हैं। 

औद्योगिक कंपनियों से उत्पन्न हानिकारक धुँआ दैनिक आधार पर प्राकृतिक हवा को प्रदूषित कर रहे हैं जो की काफी हद तक हमारे स्वास्थ्य को प्रभावित कर रहे हैं क्योकि इसे हम हर पल साँस के रूप में लेते हैं।

इस व्यस्त, भीड़ और उन्नत जीवन में हमे दैनिक आधार पर छोटी छोटी बुरी आदतों का ख्याल रखना चाहिए। यह सच है की हर किसी के छोटे से छोटे प्रयास से हम हमारे बिगड़ते पर्यावरण की दिशा में एक बड़ा सकारात्मक बदलाव ला सकते हैं। 

हमें हमारे स्वार्थ के लिए और हमारे विनाशकारी इच्छाओं को पूरा करने के लिए प्राकृतिक संसाधनों का गलत उपयोग नहीं करना चाहिए।

हमें हमारे जीवन को बेहतर बनाने के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी विकास करना चाहिए लेकिन हमेशा यह सुनिश्चित रहे की भविष्य में हमारे पर्यावरण को इससे कोई नुकसान न हो। हमें सुनिश्चित होना चाहिए की नई तकनीक हमारे पारिस्थितिकी संतुलन को कभी गड़बड़ न करे।

पर्यावरण पर निबंध 500 पर्यावरण

इस पृथ्वी पर रहने वाले सभी जीव पर्यावरण के अंतर्गत आते हैं। चाहे वह जमीन पर रहते हों या पानी पर, वह पर्यावरण का हिस्सा हैं। पर्यावरण में हवा, पानी, धूप, पौधे, जानवर आदि भी शामिल हैं।

इसके अलावा, पृथ्वी को ब्रह्मांड का एकमात्र ऐसा ग्रह माना जाता है जिस पर जीवन संभव है। 

पर्यावरण का महत्व

हम वास्तव में पर्यावरण के वास्तविक मूल्य को नहीं समझ सकते हैं। लेकिन हम इसके कुछ महत्व का अनुमान लगा सकते हैं जो हमें इसके महत्व को समझने में मदद कर सकते हैं। 

पर्यावरण जीवित अर्थात सजीव चीजों को स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसी तरह, यह पारिस्थितिक संतुलन बनाए रखता है। यह भोजन, आश्रय, वायु प्रदान करता है और मानव की सभी जरूरतों को पूरा करता है चाहे वह बड़ा हो या छोटा।

इसके अलावा, मनुष्यों का संपूर्ण जीवन पूरी तरह से पर्यावरणीय कारकों पर निर्भर करता है। पर्यावरण पृथ्वी पर विभिन्न जीवन चक्रों को बनाए रखने में भी मदद करता है।

पर्यावरण के लाभ

पर्यावरण हमें अनगिनत लाभ देता है जिसे हम जीवन भर चुका नहीं सकते। जंगल और पेड़ हवा को फिल्टर करते हैं और हानिकारक गैसों को अवशोषित करते हैं। पौधे पानी को शुद्ध करते हैं, बाढ़ की संभावना को कम करते हैं, प्राकृतिक संतुलन बनाए रखते हैं।

इसके अलावा, पर्यावरण उन महत्वपूर्ण प्रणालियों को नियंत्रित करता है जो पारिस्थितिकी तंत्र के लिए आवश्यक हैं। इसके अलावा, यह पृथ्वी पर जीवन की गुणवत्ता को बनाए रखता है।

पर्यावरण प्रतिदिन होने वाले विभिन्न प्राकृतिक चक्रों को नियंत्रित करता है। यह चक्र जीवित चीजों और पर्यावरण के बीच प्राकृतिक संतुलन बनाए रखने में मदद करते हैं। 

पर्यावरण ने हमें और अन्य जीवित प्राणियों को हजारों वर्षों से फलने-फूलने और बढ़ने में मदद की है। पर्यावरण हमें उपजाऊ भूमि, पानी, हवा, पशुधन और जीने के लिए कई आवश्यक चीजें प्रदान करता है।

पर्यावरण क्षरण का कारण

मानवीय गतिविधियाँ पर्यावरण के क्षरण का प्रमुख कारण हैं क्योंकि अधिकांश गतिविधियाँ किसी न किसी तरह से पर्यावरण को नुकसान पहुँचाते हैं। 

पर्यावरण के क्षरण का कारण बनने वाले मनुष्यों की गतिविधियाँ प्रदूषण, दोषपूर्ण पर्यावरण नीतियां, रसायन, ग्रीनहाउस गैसें, ग्लोबल वार्मिंग, ओजोन क्षरण आदि हैं।

यह सभी पर्यावरण को बुरी तरह प्रभावित करते हैं। इसके अलावा, प्राकृतिक संसाधनों के अत्यधिक उपयोग से भविष्य में ऐसी स्थिति पैदा होगी कि उपभोग के लिए संसाधन नहीं होंगे। 

साथ ही, हम प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग इस गति से कर रहे हैं कि कुछ ही वर्षों में वह पृथ्वी से गायब हो जाएंगे।

पर्यावरण संरक्षण के उपाय

पर्यावरण संरक्षण के लिए हमे उन कारणों को बढ़ने से रोकना होगा जिनके कारण पर्यावरण को नुकसान हो रहा है। हमें प्राकृतिक संसाधनों के अतिदोहन को सीमित करना होगा और इन सबके लिए हमें लोगों में जागरूकता लानी होगी।

निष्कर्ष

अंत में, हम कह सकते हैं कि यह पर्यावरण ही है जो हमें जीवित रख रहा है। पर्यावरण के आवरण के बिना, हम जीवित नहीं रह पाएंगे।

इसके अलावा, जीवन में पर्यावरण के योगदान को चुकाया नहीं जा सकता है। फिर भी पर्यावरण ने हमारे लिए जो कुछ किया है, उसके बदले में हमने उसे केवल क्षतिग्रस्त किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to top