जल प्रदूषण क्या हैं इसके कारण, प्रभाव एवं उपाय

Water Pollution

इस पेज पर आज हम जल प्रदूषण की समस्त जानकारी पढ़ने वाले हैं तो पोस्ट को पूरा जरूर पढ़िए।

हमारे ग्रह का दो-तिहाई हिस्सा पानी से बना है जो 1 ऑक्टिलियन लीटर जितना हैं। मानव शरीर का 70 प्रतिशत हिस्सा पानी से बना हैं। यह एकमात्र पदार्थ हैं जो इस ग्रह पर सभी 3 रूपों (ठोस, द्रव और गैस) में मौजूद हैं। 

इतनी अधिक मात्रा में मौजूद होने के बावजूद भी हमारे पृथ्वी पर पीने के पानी की बहुत कमी हैं। जिसका मुख्य कारण जल प्रदूषण हैं। आज इस लेख में हम आपको जल प्रदूषण के बारे में बताएंगे।

जल प्रदूषण क्या हैं

Water Pollution
जल प्रदूषण

जल प्रदूषण एक जल भंडारों में प्रदूषकों (खतरों) के अत्यधिक मात्रा की उपस्थिति हैं। जिससे कि यह अब मानव उपयोग जैसे नहाने, खाना पकाने या पीने के लिए सही नहीं है। 

दूसरे शब्दों में जल में अवांछित पदार्थों की उपस्थिति/मिलाव को जल प्रदूषण कहा जाता हैं। प्राकृतिक, अकार्बनिक, रासायनिक, रेडियोलॉजिकल और थर्मल प्रदूषक पानी के संतुलन को बिगाड़ देते हैं। जिससे यह पीने या उपयोग के लिए असुरक्षित हो जाता हैं।  

प्रदूषण से पानी की गुणवत्ता में गिरावट आती है और जलीय जीवन प्रभावित होता है। जब मनुष्य या जानवर प्यास बुझाने के लिए इस पानी का सेवन करते हैं, तो इससे उनके स्वास्थ्य पर भयंकर प्रभाव पड़ता है। पृथ्वी का केवल 0.3% से भी कम पानी पीने के लिए सही हैं।

विभिन्न स्रोतों के आधार पर जल प्रदूषण के प्रकार

अलग अलग स्रोतों के आधार पर जल प्रदूषण निम्नलिखित प्रकार के होते हैं।

1. सतही जल प्रदूषण

इस प्रकार के प्रदूषण में नदियों, झीलों और महासागरों में प्रदूषण शामिल है। यहां जल विभिन्न माध्यमों से दूषित होते हैं। जैसे औद्योगिक कचरे, सीवेज कचरे का निकलना आदि।

2. समुद्री प्रदूषण

समुद्र में प्रवेश करने वाले सामान्य तरीकों में से एक नदियाँ हैं। यहां सीवेज और औद्योगिक कचरे को सीधे समुद्र में छोड़ने से महासागरों में प्रदूषण होता हैं।

प्लास्टिक का मलबा समुद्र के प्रदूषण से जहरीले रसायनों को सोख सकता है जिस कारण इसे खाने वाले किसी भी जीव की मृत्यु हो सकती हैं।

3. भूजल प्रदूषण

कीटनाशकों के प्रयोग से भूजल दूषित होता है। भूजल प्रदूषण का सीधा संबंध मृदा प्रदूषण से हैं।

जल प्रदूषण के कारण

जल प्रदूषण के कारणों को मुख्यताः दो भागो में बांटा गया हैं।

  • प्राकृतिक कारण 
  • मानवीय कारण

1. प्राकतिक कारण 

प्राकतिक कारण चार प्रकार के होते हैं।

(a). ज्वालामुखी

  • ज्वालामुखी विस्फोट से न केवल लावा और राख बल्कि गैसें भी निकलती हैं। एक बार जब यह गैसे स्ट्रैटोस्फियर में पहुंच जाती है तो ज्वालामुखी से निकलने वाली सल्फर डाइऑक्साइड पानी के साथ मिल जाती है, जिससे छोटे सल्फेट के कण बनते हैं। 
  • जब ज्वालामुखी विस्फोट होता है तो इसकी राख बहुत दूर तक जाती है और सब्जियों, सतह के पानी और मिट्टी और भूजल के संपर्क में आने पर यह कैडमियम, आर्सेनिक, और तांबा जैसे फ्लोरीन जैसी धातुओं से दूषित हो जाती हैं।

(b). पशुओ के अपशिष्ठ या कचरे

  • डेयरी और पोल्ट्री फार्म से निकलने वाला पशु अपशिष्ट जल प्रदूषण को बढ़ाता है। यह अक्सर पानी को दूषित करते हैं जिसका उपयोग मनुष्यों द्वारा विभिन्न उद्देश्यों के लिए और यहां तक ​​कि फसलों की सिंचाई के लिए भी किया जाता है। 
  • कई उर्वरकों में पशु अपशिष्ट का उपयोग स्रोत के रूप में भी किया जाता है। कुछ तो फायदेमंद होते हैं और कुछ हानिकारक।

(c). शैवाल

  • जल प्रदूषण में शैवाल मनुष्यों, जानवरों और मछलियों के लिए जहरीले हो सकते हैं जो प्रदूषित पानी का सेवन करते हैं। 
  • शैवाल पानी में स्वाद और गंध पैदा करने के लिए जाने जाते हैं। कुछ शैवाल ऐसे होते हैं जो अच्छी खुशबू उत्पन्न करते हैं जो कुछ सब्जियों और फूलों में देखी जाती है।  

(d). बाढ़

  • बाढ़ के पानी में कई चीज बह जाती है और सतह के पानी जैसे नदियों, तालाबों, झीलों और महासागरों में मिल जाते हैं। अंत में, यह गंदगी पानी में जमा हो जाती है, जिससे पानी का प्रदूषण होता है। 
  • बाढ़ के पानी का दूषित कचरे के संपर्क में आने से पीने के पानी की भी काफी हानि होती है। इससे जीवों के स्वास्थ्य पर भारी प्रभाव पड़ता है। 

2. मानवीय कारण

मानवीय कारण छः प्रकार के होते हैं।

(a). रसायन

  • किसानों द्वारा खेतों में उर्वरकों का उपयोग करने पर, उनके द्वारा उपयोग किए जाने वाले रसायनों को बारिश से धीरे-धीरे भूजल या सतह के पानी में ले जाया जाता है जिससे पानी दूषित हो जाता है।
  • चिमनी द्वारा छोड़े गए रसायन वायुमंडल में प्रवेश करते हैं और फिर बारिश के रूप में वापस पृथ्वी पर गिर जाते हैं। यह समुद्र, नदियों और झीलों में प्रवेश करता है जिससे जल प्रदूषण होता है जिसे वायुमंडलीय जमाव कहा जाता है। 
  • कई अलग-अलग प्रकार के रसायन होते हैं जिन्हें नदियों में डाला जाता है जिससे भी जल प्रदूषण होता है।

(b). सीवेज

सीवेज शब्द का उपयोग पानी के कचरे को बताने  के लिए किया जाता है जिसमें मल, कपड़े धोने का कचरा और मूत्र होता है। अगर सीवेज अच्छे ढंग से नहीं बना हो तो उससे आसपास की हवा और पानी दूषित हो जाती है।   

(c). प्लास्टिक

यह सबसे आम पदार्थ है जो लहरों के साथ बह जाता है और यह समुद्री पक्षियों, मछलियों और अन्य समुद्री जीवों के लिए एक बड़ा खतरा पैदा करता है और साथ ही जल प्रदूषण का कारण भी बनता है।

(d). खनन

आज की पीढ़ी में खनन झील और नदी प्रदूषण का प्रमुख कारण है। यह प्रक्रिया हानिकारक रसायनों को बाहर निकालती है जो पृथ्वी की सतह के नीचे दबे होते हैं।

जब यह पानी के संपर्क में आते है, तो इसका प्रभाव किसी भी जीवित प्राणी के लिए खतरनाक होता है।

(e). शहरीकरण और जनसंख्या वृद्धि

शहर में बढ़ती आबादी की पानी की मांग और अत्यधिक उपयोग से जल प्रदूषण के साथ साथ जल संकट की समस्या भी उत्पन हुए हैं। 

(f). वनों की कटाई

वनों की कटाई से शुद्ध पानी की मात्रा समाप्त हो सकती है और भूमिगत जल का स्तर गिर सकता हैं।  

जल प्रदूषण के प्रदूषक

जल प्रदूषण के प्रदूषक का मतलब वैसी चीजो से हैं जो जल प्रदूषण का कारण बनते हैं।  

जल प्रदूषणप्रदूषक
सूक्ष्मजीवबैक्टीरिया और वायरस
टॉक्सिक ऑर्गेनिक्सडीडीटी, एल्ड्रिन, एंडोसल्फान, क्लोर्डेन और मैलाथियान।
धातुएंआर्सेनिक, क्रोमियम, सीसा, तांबा और लोहा।
रोजमर्रा के उपयोग की वस्तुएंतेल, डिटर्जेंट, प्लास्टिक और शैम्पू
कृषिरसायनिक उर्वरक

जल प्रदूषण के प्रभाव

जल प्रदूषण के निम्नलिखित हानिकारक प्रभाव हैं।

1. बीमारियां

मनुष्यों में प्रदूषित जल को पीने या उपयोग से हमारे स्वास्थ्य पर अनेकों विनाशकारी प्रभाव पड़ते हैं। यह टाइफाइड, हैजा, हेपेटाइटिस और कई अन्य बीमारियों का कारण बनता हैं।

2. यूट्रोफिकेशन

नदियों या महासागरों में रसायन, शैवाल के विकास का कारण बनते हैं। यह शैवाल तालाब या झील के ऊपर एक परत बनाते हैं।

बैक्टीरिया इस शैवाल पर फ़ीड करते हैं और इससे नदियों में ऑक्सीजन की मात्रा कम हो जाती है, जिससे वहां का जलीय जीवन बुरी तरह प्रभावित होता हैं।

3. खाद्य श्रृंखला

खाद्य श्रृंखला पर असर तब पड़ता है जब पानी में विषैले पदार्थों और प्रदूषकों को जलीय जानवरों (मछली, शंख आदि) द्वारा खा लिया जाता हैं।

4. पीने योग्य पानी का अभाव

सयुक्त राष्ट्र का कहना है कि दुनिया भर में अरबों लोगों के पास पीने के लिए साफ पानी नहीं है।

5. शिशु मृत्यु-दर

संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, स्वच्छता की कमी से जुड़ी डायरिया संबंधी बीमारियां दुनिया भर में एक दिन में लगभग 1,000 बच्चों की मौत का कारण बनती हैं।

जल प्रदूषण को कैसे नियंत्रित करें

जल प्रदूषण को रोकने के कई तरीके हैं, उनमें से कुछ नीचे हैं।

  • औद्योगिक कचरे में मौजूद हानिकारक रसायनों को कम करने के बाद ही नदियों में फेके। जिससे जल प्रदूषण कम होगा।
  • कीटनाशकों और खरपतवार नाशी के उपयोग को कम करके हम भूमिगत जल प्रदूषण को कम कर सकते हैं। 
  • जल प्रदूषण को कम करने के लिए सीवेज कचरे को सीधे नदियों में छोड़ने के बजाय इसे अलग सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट में ट्रीट किया जा सकता है।
  • जलाशयों के आसपास नहाने और कपड़े धोने जैसी मानवीय गतिविधियां नही करनी चाहिए।
  • सरकार को जल प्रदूषण को रोकने के लिए कई कानून बनाने चाहिए और लोगो को उन नियमों का पालन करना चाहिए।
  • जल निकायों के आसपास अधिक पेड़ लगाना चाहिए। 

प्रदूषित जल का उपचार

हम पानी की कमी को प्रदूषित जल का शुद्धीकरण करके खत्म कर सकते है। शुद्धिकरण प्रक्रिया में पहला कदम एक स्टोरेज टैंक में पानी को स्टोर करना है जो आगे विभिन्न चरणों से गुजरता है।

1. स्क्रीनिंग

यह जल शुद्धिकरण का पहला चरण है। इस प्रक्रिया में प्रदूषित जल से बड़ी वस्तुओं को हटा दिया जाता हैं।

2. प्राथमिक उपचार

स्क्रीनिंग से गुजरने के बाद पानी को प्राथमिक उपचार के लिए ले जाया जाता है, जहां पानी में मौजूद सभी जैविक कचरे को हटा दिया जाता है और इस प्रक्रिया को प्रदूषित जल को एक बड़े टैंक में डालकर किया जाता हैं।

3. माध्यमिक उपचार

प्राथमिक उपचार के बाद पानी को दूसरे टैंक में भेजा जाता है जहां पानी में एरोबिक बैक्टीरिया के विकास को बढ़ाने के लिए हवा को पानी में डाला जाता है। यह बैक्टीरिया कीचड़ के छोटे-छोटे कणों को तोड़ते हैं जो प्राथमिक उपचार के दौरान नहीं टूटे होते हैं।

3. अंतिम उपचार

कीचड़ को रेत सुखाने की मशीन के एक बिस्तर के माध्यम से सुखाया जाता है और पानी से फ़िल्टर किया जाता है। इस पानी को छानकर नदी में छोड़ा जाता हैं।

भारत में सबसे प्रदूषित नदी

ऐसी कई नदियाँ हैं जो कचरे के कारण प्रदूषित हो रही हैं जो नदी को गंभीर रूप से प्रभावित करती हैं।

गंगा और यमुना जैसी कुछ प्रमुख नदियाँ और कई मानवीय गतिविधियों के कारण बहुत बुरी तरह प्रभावित होती हैं जो नदियों में प्रदूषण का कारण बनती हैं।

गंगा वह नदी है जिसके किनारे कई लोग रहते हैं और लगभग 20,00,000 लोग स्नान करते हैं, क्योंकि इसे हिंदुओं की पवित्र नदी माना जाता हैं। जो लोगों के लिए बहुत ही अस्वस्थ और जोखिम भरा हैं।

यमुना एक और पवित्र नदी है जो 2012 में अनुमान के अनुसार दिल्ली में होने वाले प्रदूषण के लिए लोकप्रिय है। इसमें प्रति 100 CC पानी में 7500 कोलीफॉर्म बैक्टीरिया होते हैं।

जरूर पढ़िए :

उम्मीद हैं आपको जल प्रदूषण की जानकारी पसंद आयीं होगीं।

यदि आपको यह पोस्ट पसंद आयी हो तो दोस्तों के साथ शेयर कीजिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to top