प्रदूषण (Pollution) क्या हैं इसके प्रकार एवं बचाने के उपाय

Pollution

इस पेज पर आज हम प्रदूषण की जानकरी पढ़ने वाले हैं तो पोस्ट को पूरा जरूर पढ़िए।

पिछले पेज पर हमने वायुमण्डल की जानकारी शेयर की हैं तो उस पोस्ट को भी पढ़े।

चलिए आज हम प्रदूषण की जानकारी को पढ़ते और समझते हैं।

प्रदूषण क्या हैं (Pollution in Hindi)

प्रदूषण शब्द लैटिन भाषा के ‘प्रदूषक’ से आया है जिसका सीधा सा अर्थ है दूषित होना। इसलिए सरल शब्दों में प्रदूषण एक ऐसी चीज है जो पर्यावरण को दूषित करती हैं।

वायु, भूमि और जल में हानिकारक पदार्थों की उपस्थिति जो जीवों और पर्यावरण पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकती है प्रदूषण कहलाती हैं।

हानिकारक गैसों, तरल पदार्थ या अन्य हानिकारक पदार्थों का जिक्र जो प्राकृतिक वातावरण में छोड़े जाते हैं या पेश किए जाते हैं। 

यह विषैली सामग्री है जो मिट्टी और वायु को अशुद्ध, प्रदूषक, संदूषक या खतरनाक पदार्थ बनाती है जो पर्यावरण को असुरक्षित बनाती है। यह पर्यावरण की स्थिरता के लिए भी खतरा हैं।  

प्रदूषण के प्रकार

प्रदूषण के विभिन्न प्रकार इस प्रकार हैं।

1. वायु प्रदूषण

air pollution
वायु प्रदूषण

यह प्राकृतिक वायु को हानिकारक धुएं और रसायनों जैसे विभिन्न प्रदूषकों के साथ मिलाकर दूषित कर देता हैं।

इस प्रकार का संदूषण जलती हुई सामग्री या वाहनों द्वारा उत्सर्जित गैसों या उद्योगों के उप-उत्पाद के रूप में उत्सर्जित हानिकारक धुएं के कारण हो सकता हैं।

विशेषज्ञों के अनुसार ग्लोबल वार्मिंग वायु प्रदूषण के सबसे बड़े दुष्प्रभावों में से एक हैं।

वायु प्रदूषण के कारण

वायु प्रदूषण के कुछ सामान्य कारण हैं।

  • ज्वालामुखी विस्फोट
  • वाहनों से निकलने वाला धुआँ।
  • औद्योगिक इकाइयों से निकलने वाला धुँआ।
  • आणविक संयत्रों से निकलने वाली गैसें तथा धूल-कण।
  • जंगलों में पेड़ पौधें के जलने से निकलने वाला धुआँ।
  • कोयले के जलने से तथा तेल शोधन कारखानों आदि से निकलने वाला धुआँ।

2. जल प्रदूषण

Water Pollution
जल प्रदूषण

पृथ्वी ग्रह पर जल का दूषित होना जल प्रदूषण कहलाता हैं। इसमें बैक्टीरिया, रसायन और पार्टिकुलेट जैसे प्रदूषकों द्वारा पानी का संदूषण शामिल हैं। जो पानी की शुद्धता को कम करता हैं।

तेल रिसाव, साथ ही कूड़ा डालना प्रदूषण के सबसे सामान्य रूपों में से एक है। यह मुख्य रूप से झीलों, महासागरों, नदियों और यहां तक ​​कि भूमिगत जलाशयों में होता हैं।

जल प्रदूषण के कारण

जल प्रदूषण के विभिन्न कारण निम्नलिखित है।

  1. मानव मल का नदियों, नहरों आदि में सम्मिलित होना।
  2. सीवर के सफाई का उचित प्रबंधन न होना।
  3. विभिन्न औद्योगिक इकाइयों द्वारा अपने कचरे तथा गंदे पानी का नदियों, नहरों में विसर्जन।
  4. कृषि कार्यों में उपयोग होने वाले जहरीले रसायनों तथा खादों का पानी में घुलना।
  5. नदियों में कूड़े-कचरे, मानव-शवों और पारम्परिक प्रथाओं का पालन करते हुए उपयोग में आने वाले प्रत्येक घरेलू सामग्री का समीप के जल स्रोत में विसर्जन।
  6. गंदे नालों, सीवरों के पानी का नदियों मे छोङा जाना।
  7. कच्चा पेट्रोल, कुँओं से निकालते समय समुद्र में मिल जाता है जिससे जल प्रदूषित होता है।
  8. कुछ कीटनाशक पदार्थ जैसे डीडीटी, बीएचसी आदि के छिड़काव से जल प्रदूषित हो जाता है तथा समुद्री जानवरों एवं मछलियों आदि को हानि पहुँचाता है। अंतत: खाद्य श्रृंखला को प्रभावित करते हैं।

3. मृदा प्रदूषण

soil pollution
मृदा प्रदूषण

मृदा प्रदूषण को भूमि प्रदूषण के रूप में भी जाना जाता हैं। यह मिट्टी या भूमि का संदूषण है जो प्राकृतिक जीवन के विकास को रोकता हैं।

इसमें सिंचाई, वन्य जीवन के साथ-साथ आवास के लिए भूमि उपयोग शामिल हैं।

मृदा प्रदूषण के बहुत ही सामान्य कारणों में खनन के साथ-साथ कूड़ेदान, गैर-टिकाऊ कृषि, मिट्टी में रिसना आदि शामिल हैं।

मृदा प्रदूषण के कारण

मृदा प्रदूषण के मुख्य कारण हैं।

  1. कृषि में उर्वरकों, रसायनों तथा कीटनाशकों का अधिक प्रयोग।
  2. औद्योगिक इकाईयों, खानों तथा खादानों द्वारा निकले ठोस कचरे का विसर्जन।
  3. भवनों, सड़कों आदि के निर्माण में ठोस कचरे का विसर्जन।
  4. कागज तथा चीनी मिलों से निकलने वाले पदार्थों का निपटान, जो मिट्टी द्वारा अवशोषित नहीं हो पाते।
  5. प्लास्टिक की थैलियों का अधिक उपयोग, जो जमीन में दबकर नहीं गलती।
  6. घरों, होटलों और औद्योगिक इकाईयों द्वारा निकलने वाले अवशिष्ट पदार्थों का निपटान, जिसमें प्लास्टिक, कपड़े, लकड़ी, धातु, काँच, सेरामिक, सीमेंट आदि सम्मिलित हैं।

मृदा प्रदूषण का प्रभाव

मृदा प्रदूषण के निम्नलिखित हानिकारक प्रभाव है।

  1. कृषि योग्य भूमि की कमी।
  2. भोज्य पदार्थों के स्रोतों को दूषित करने के कारण स्वास्थ्य के लिए हानिकारक।
  3. भूस्खलन से होने वाली हानियाँ।
  4. जल तथा वायु प्रदूषण में वृद्धि ।

4. ध्वनि प्रदूषण

noise pollution
ध्वनि प्रदूषण

ध्वनि प्रदूषण तेज आवाजें होती हैं जो मानवीय गतिविधियों से उत्पन्न होती हैं। जो प्रभावित क्षेत्र में जीवन स्तर को बिगाड़ती हैं।

यह रेलमार्ग, यातायात, तेज संगीत, हवाई जहाज, आतिशबाजी आदि जैसी चीजों से उत्पन्न हो सकती है।

इसके परिणामस्वरूप सुनने की स्थायी या अस्थायी हानि के साथ-साथ वन्यजीवों को भी परेशानी हो सकती है।

ध्वनि प्रदूषण का कारण

  1. शहरों एवं गाँवों में किसी भी त्योहार व उत्सव में, राजनैतिक दलों के चुनाव प्रचार व रैली में लाउडस्पीकरों का अनियंत्रित इस्तेमाल/प्रयोग।
  2. अनियंत्रित वाहनों के विस्तार के कारण उनके इंजन एवं हार्न के कारण।
  3. औद्योगिक क्षेत्रों में उच्च ध्वनि क्षमता के पावर सायरन, हॉर्न तथा मशीनों के द्वारा होने वाले शोर।
  4. जनरेटरों एवं डीजल पम्पों आदि से ध्वनि प्रदूषण।

5. रेडियोधर्मी प्रदूषण

यह प्रदूषण के सबसे खतरनाक रूपों में से एक हैं। यह बेहद हानिकारक है और यहां तक ​​कि इससे मौत भी हो सकती हैं।

हम 20वीं सदी से इस प्रकार के प्रदूषण को देख रहे हैं। यह परमाणु भौतिकी और परमाणु हथियारों के अविष्कार के साथ विकसित हुआ।

रेडियोधर्मी प्रदूषण के परिणामस्वरूप वायु और भूमि का प्रदूषण होता है। इस प्रदूषण के कारण जन्म दोष, कैंसर, स्वास्थ्य का बिगड़ना और यहां तक ​​कि मृत्यु भी हो जाती है।

6. पारा प्रदूषण

यह एक अन्य महत्वपूर्ण प्रकार का प्रदूषण है जो वन्यजीवों और पारिस्थितिक तंत्र को नुकसान पहुंचाता हैं।

पारा पृथ्वी की परतों में पाया जाता है, लेकिन मानव गतिविधियों, जैसे कि खनन और जीवाश्म ईंधन के जलने से पारा प्रदूषण हुआ हैं।

पारा के प्राकृतिक स्रोतों में ज्वालामुखी विस्फोट और समुद्र से उत्सर्जन शामिल हैं।

दूसरी ओर, भूमि, पानी और अन्य सतहें वातावरण में एक बार छोड़े जाने के बाद बार-बार पारा को वातावरण में उत्सर्जित कर सकती हैं।

इस प्रकार, कहीं न कहीं हम समझ सकते हैं कि सभी प्रकार के प्रदूषण आपस में जुड़े हुए हैं और एक दूसरे के लिए एक कारण हो सकते हैं।

7. प्रकाश प्रदूषण

बढ़ती बिजली की जरुरत और काम के लिए बढ़ती प्रकाश की जरुरत इस प्रकाश प्रदूषण का कारण बन सकता है।

प्रकाश प्रदूषण का कारण

  1. बढ़ती गाड़ियों के कारण हाई वोल्ट के बल्ब का इस्तेमाल।
  2. किसी कार्यक्रम में जरुरत से ज्यादा डेकोरेशन करना।
  3. एक कमरे में अधिक बल्ब को लगाना।

प्रकाश प्रदूषण का प्रभाव

  1. आँखो के आगे अंधकार का छा जाना।
  2. जो गाड़ी चलते समय एक्सीडेंट का कारण बन सकता है।
  3. दिमाग में दर्द होना।
  4. मनुष्य का अँधा होना।
  5. शहरी भाग में तारो का न दिखना इसी प्रदुषण का परिणाम है।

पर्यावरण प्रदूषण के प्रमुख कारण

पर्यावरण प्रदूषण के प्रमुख कारण हैं।

1. वायु प्रदूषण :- वायु प्रदूषण की समस्या निम्न कारणों से उत्पन्न होती हैं।

  • वाहनों के लिए जीवाश्म ईंधन का अत्यधिक उपयोग।
  • कार से निकलने वाला गैसीय धुआँ।
  • कृषि उर्वरकों, कीटनाशको का बड़े पैमाने पर उपयोग।

2. जल प्रदूषण :- जल प्रदूषण के पीछे कारण हैं।

  • शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में अनुचित जल निकासी या सीवेज सिस्टम।
  • विषैले पदार्थों का जैव आवर्धन।
  • अपवाह जल।
  • औद्योगिक कचरे का जल में मिलना।

3. भूमि और मृदा प्रदूषण :– भूमि और मृदा प्रदूषण के प्रमुख कारण हैं।

  • वनों की कटाई और आवास में वृद्धि।
  • कृषि फार्मों में कीटनाशको का उपयोग।
  • वायु प्रदूषण के कारण अम्लीय वर्षा होती है जिससे मिट्टी की गुणवत्ता में कमी आती हैं।
  • अत्यधिक चराई या कृषि को काटने और जलाने की प्रथा।
  • लैंडफिल से जहरीले रसायनों का आस-पास की मिट्टी में रिसाव।

4. ध्वनि प्रदूषण :- ध्वनि प्रदूषण की घटना पूरी तरह से मानवीय गतिविधियों का परिणाम हैं।

जैसे :-

  • लाउडस्पीकरों पर ध्वनि का अत्यधिक उत्पादन।
  • सामाजिक आयोजनों में तेज आवाज।
  • वाहनों से शोर उत्पादन।

भारत में हृदय से संबंधित और श्वसन संबंधी स्थितियों में वृद्धि देखी जा रही है, जिसका प्रमुख कारण वायु प्रदूषण से भरा हुआ हैं।

दिल्ली में हर साल वायु प्रदूषण से होने वाले नुकसान के बारे में किसी ने सुना नहीं हैं। पर्यावरण प्रदूषण की समस्या को दूर करने के लिए हमें पहले इनके स्रोत को हटाना होगा।

पर्यावरण प्रदूषण के स्रोत

पर्यावरण प्रदूषण में योगदान करने वाले विभिन्न प्रकार के प्रदूषकों को परिभाषित करने के लिए कई प्रकार के वर्गीकरण का उपयोग किया जाता हैं।

इनमें से एक पर्यावरण प्रदूषण के स्रोतों पर आधारित वर्गीकरण है। इस वर्गीकरण के अनुसार, पर्यावरण प्रदूषकों को इस प्रकार बाटा जा सकता हैं।

1. गैर-बिंदु स्रोत :- इस प्रकार के प्रदूषण के स्रोतों के तहत किसी क्षेत्र में हुए पर्यावरण प्रदूषण के कारण को पहचानना मुश्किल होता है। इस प्रकार के प्रदूषण को फैलाना प्रदूषण के रूप में भी जाना जाता हैं।

2. बिंदु स्रोत :- जैसा कि नाम से पता चलता है, इस प्रकार के प्रदूषण के लिए, कारण का पता लगाना आसान होता है जिसके परिणामस्वरूप पर्यावरण को नुकसान होता हैं।

बिंदु स्रोतों से होने वाले प्रदूषण को नियंत्रित करना आसान है क्योंकि हम केवल कारण को दूर कर सकते हैं। पर्यावरण प्रदूषण के सामान्य स्रोत हैं।

3. कृषि :- उच्च जनसंख्या के कारण कृषि गतिविधियों में वृद्धि हुई है। इससे उर्वरकों, कीटनाशकों के उपयोग में वृद्धि होती है जिसके परिणामस्वरूप भूमि प्रदूषण होता हैं।

4. प्राकृतिक स्रोत :- प्रदूषण को प्राकृतिक और मानव निर्मित के रूप में बाटा जा सकता है। पर्यावरण प्रदूषण के प्राकृतिक स्रोत कार्बनिक यौगिकों और अमोनिया जैसे पौधों से चयापचय उत्पाद होते हैं।

जबकि प्राकृतिक घटना जैसे ज्वालामुखी विस्फोट या जंगल की आग भी वायु प्रदूषण के प्राकृतिक स्रोत के रूप में सामने आती है। जुगाली करने वाले जानवरों द्वारा उत्पादित मीथेन भी वायु प्रदूषण का एक बढ़ता स्रोत हैं।

5. उद्योग :- दुनिया भर में चल रहे बड़े पैमाने के उद्योग भारी मात्रा में कचरा उत्पन्न करते हैं।

जब इनका सही ढंग से निपटान नहीं किया जाता हैं। तो यह कचरे जल में मौजूद जलीय जीवों के लिए खतरा बन जाते हैं। तेल रिसाव के कुछ उदाहरण भी हैं जो समस्या में योगदान करते हैं।

6. घरेलू अपशिष्ट :- घरेलू कचरे का उचित निपटान भी उतना ही महत्वपूर्ण है क्योंकि इससे भूमि प्रदूषण हो सकता है क्योंकि इस तरह के कचरे के एक बड़े हिस्से में गैर-बायोडिग्रेडेबल उत्पाद शामिल होते हैं।

7. अन्य मानव निर्मित स्रोत :- प्रदूषण के अन्य स्त्रोत ट्रांसपोर्ट के लिए उपयोग किए जाने वाली गाड़ी हैं जो हानिकारक जहरीली गैसों जैसे सीसा और नाइट्रिक ऑक्साइड का उत्सर्जन करते हैं जो वायु प्रदूषण का कारण बन सकते हैं।

इन सभी गतिविधियों के प्रभाव से पर्यावरण प्रदूषण होता है। हमारी लापरवाह और गैर जिम्मेदाराना हरकतें पर्यावरण को नुकसान पहुंचा रही हैं।

हम यह महसूस करने में असफल रहते हैं कि हम अपने पर्यावरण को जो नुकसान पहुंचाते हैं, वह बदले में हमें और हमारे स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाएगा।

प्रदूषण के प्रभाव क्या हैं

वातावरण में मौजूद प्रदूषण से पर्यावरण बुरी तरह प्रभावित होता हैं।

  • वायु प्रदूषण नाक में जलन और सूजन पैदा कर सकते हैं। यह बहती नाक का कारण भी बन सकता हैं।
  • वायु प्रदूषण फेफड़ों को क्षति पहुंचा सकते हैं।
  • वायु प्रदूषण का हृदय पर एक प्रभाव भी हो सकता है – यह रक्तचाप को बढ़ा सकता है और हृदय की पहले से मौजूद स्थितियों को बढ़ा सकता हैं।
  • प्रदूषित हवा के लंबे समय तक संपर्क में रहने से मौत का खतरा काफी बढ़ जाता है। उदाहरण के लिए, हृदय रोगों के प्रति संवेदनशील लोगों को अधिक जोखिम होता हैं।
  • प्रदूषित भूमि और मिट्टी के कारण त्वचा की विभिन्न समस्याएं, श्वसन संबंधी समस्याएं और यहां तक ​​कि विभिन्न प्रकार के कैंसर भी हो सकते हैं।
  • प्रदूषित मिट्टी में उगने वाले फल और सब्जियां खाने, त्वचा के सीधे संपर्क में आने और धूल से प्रदूषित हवा में सांस लेने से यह जहरीले पदार्थ मानव शरीर के सीधे संपर्क में आते हैं।
  • जब भूमि के नुकसान और मिट्टी के कटाव की बात आती है, तो वनों की कटाई सबसे बड़ी समस्या है। पेड़ों की कटाई और वृक्षों के आवरण से कठोर परिस्थितियाँ पैदा होती हैं जो जंगलों और पारिस्थितिक तंत्र को नष्ट कर देती हैं। 
  • वायु प्रदूषण के उच्च स्तर के कारण हृदय रोग, घरघराहट, खाँसी और सांस की समस्याओं और त्वचा, नाक और गले में जलन का खतरा बढ़ सकता हैं।
  • वायु प्रदूषण मानव स्वास्थ्य को विभिन्न तरीकों से प्रभावित करता है, वायु प्रदूषण से दिल का दौरा, अस्थमा और अन्य श्वसन संबंधी दिक्कतें भी हो सकती हैं।
  • मनुष्यों की तरह पशु भी वायु प्रदूषण के कारण कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं से पीड़ित हो सकते हैं, जिनमें जन्म दोष, प्रजनन विफलता और रोग शामिल हैं।
  • मनुष्यों और पशुओं पर प्रभाव के अलावा, वायु प्रदूषण विभिन्न प्रकार के पर्यावरणीय प्रभावों का कारण बनता है। अम्लीय वर्षा में नाइट्रिक और सल्फ्यूरिक एसिड के उच्च स्तर शामिल होते हैं जो हवा में छोड़े गए ऑक्साइड और सल्फर ऑक्साइड द्वारा जीवाश्म ईंधन के जलने से बनते हैं।
  • अम्लीय वर्षा पेड़ों को मार देती है और मिट्टी और पानी के शरीर को अम्लीय कर देती है, जिससे मछलियों और अन्य समुद्री जीवों का जीवित रहना मुश्किल हो जाता हैं।
  • समुद्री जानवरों की मृत्यु, जो पूरी Food Chain को नष्ट कर सकती है, जल प्रदूषण का अब तक का सबसे बड़ा परिणाम हैं।
  • जब पीने के पानी का इलाज करने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले कीटाणुनाशक जहरीले शैवाल से दूषित पानी में प्रवेश करते हैं और डाइऑक्सिन के उत्पादन के लिए प्रतिक्रिया करते हैं, तो एक अन्य समस्या विकसित होती हैं।
  • हाइड्रोक्लोरोफ्लोरोकार्बन, क्लोरोफ्लोरोकार्बन और हैलोन के साथ मानव निर्मित रसायनों से ओजोन परत समाप्त हो गई हैं।
  • प्रदूषण के अधिकांश कारणों को अक्सर मुख्य रूप से मानवजनित कारणों के लिए जिम्मेदार ठहराया जाता है। इसका मतलब है कि प्रदूषण पैदा करने के लिए मनुष्य जिम्मेदार हैं।

पर्यावरण को प्रदूषण से बचाने के उपाय

पर्यावरण को प्रदूषण से बचाने के लिए आप निम्नलिखित उपाय कर सकते हैं।

1 परिवहन (Transport) :- पर्यावरण के अनुकूल गाड़ियों जैसे साइकिल, ई-बाइक का उपयोग प्रदूषण को कम करने के लिए सुविधाजनक विकल्प हैं। 

2. ऊर्जा स्रोतों में बदलाव :- ऊर्जा के नवीकरणीय संसाधनों का सहारा लेना पर्यावरण प्रदूषण को नियंत्रित करने के महत्वपूर्ण उपायों में से एक हैं।

बिजली के उत्पादन के लिए जल, वायु और सौर ऊर्जा जैसे ऊर्जा स्रोतों का उपयोग संसाधनों के संरक्षण में भी मदद करता हैं।

3. रासायनिक उपयोग :- कृषि उपज आदि में विभिन्न हानिकारक रसायनों का उपयोग किया जाता है। यह सभी पर्यावरण को अत्यधिक नुकसान पहुंचाते हैं।

इसीलिए आप रसायनिक उर्वरक के उपयोग के जगह जैविक खाद या जैविक उर्वरक का उपयोग कर सकते हैं।

4. जल संरक्षण :- जल का अनावश्यक रूप से उपयोग सूखे क्षेत्रों के निवासियों को पानी की आवश्यकता से भी वंचित कर देता हैं।

इसलिए पानी को नियंत्रित तरीके से इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है ताकि दूसरे भी इसका इस्तेमाल कर सकें। 

5. अधिक लोगों को दायरे में लाए :- जैसा कि पहले ही बताया गया है, आपको दूसरों को प्रदूषण को नियंत्रित करने के तरीके सुझाने चाहिए।

पर्यावरण प्रदूषण संरक्षण के लिए विचारों को लागू करने के लिए अभियान शुरू करना चाहिए।

इसके अलावा, सोशल मीडिया भी है जहां आप अपने विचारों को अपने साथियों के साथ साझा कर सकते हैं।

याद रखें, जब आप आगे आते हैं तो ही अधिक लोग इन नए विचारों से प्रभावित होते हैं।

पर्यावरण प्रदूषण को रोकने के तरीके के बारे में बच्चों को पढ़ाना और दूसरों को भी संदेश फैलाने में उनकी मदद करना भी एक आवश्यकता हैं।

पूरी प्रक्रिया अधिक लोगों को प्रकृति संरक्षण के दायरे में ला सकती हैं।

प्रदूषण के बारे में मजेदार तथ्य

  • ग्रीन स्कूल एलायंस के अनुसार, अमेरिकी हर साल 30 बिलियन फोम कप, 220 मिलियन टायर और 1.8 बिलियन डिस्पोजेबल डायपर बनाते हैं।
  • WHO के अनुसार, दुनिया भर में होने वाली सभी मौतों में वायु प्रदूषण का योगदान 6.7% हैं।
  • मिसिसिपी नदी संयुक्त राज्य के लगभग 40% भूमि पर बहती है। यह हर साल मैक्सिको की खाड़ी में लगभग 1.5 मिलियन मीट्रिक टन नाइट्रोजन प्रदूषण भी करता हैं।
  • चीन में प्रदूषण संयुक्त राज्य अमेरिका में मौसम के मिजाज को बदल सकता हैं। जेट स्ट्रीम को चीन से संयुक्त राज्य अमेरिका में भारी वायु प्रदूषण ले जाने में सिर्फ पांच दिन लगते हैं, जहां यह बादलों को बारिश और बर्फ पैदा करने से रोकता हैं।
  • WHO के अनुसार, वायु प्रदूषण से साल में लगभग 70 लाख अकाल मौतें होती हैं। 

जरूर पढ़िए :

उम्मीद हैं आपको प्रदूषण की जानकारी पसंद आयीं होगीं।

यदि आपको यह पोस्ट पसंद आयी हो तो दोस्तों के साथ शेयर कीजिए।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.