Candle Making Business

Candle Making Business कैसे शुरू करे?

नमस्कार दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम आपको Candle making business के बारे में बताने वाले हैं कुछ सालों पहले भारत में इंटरनेट की कम पहुंच और लोगों में अशिक्षित के कारण कई बार लोगों को कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा था। इसमें से एक समस्या रोजगार से जुड़ी हुई समस्या भी थी। कई व्यवसाय के बारे में लोगों को आधी अधूरी जानकारी थी इसलिए वह अपना कोई व्यवसाय चालू नहीं कर पा रहे थे।

परंतु आज इंटरनेट पर हजारों ऐसी वेबसाइट है जहां पर भारत में करने वाले सभी प्रकार के बिजनेस के साथ साथ उनके बारे में संपूर्ण जानकारी दी जाती है इसके द्वारा कई लोगों ने इंटरनेट के माध्यम से ही अपने व्यापार की रूपरेखा तैयार की है और आज अपने अपने क्षेत्र में सफलता के झंडे गाड़ रहे हैं।

पहले के जमाने में मोमबत्तीयो का इस्तेमाल घर को रोशनी देने के लिए किया जाता था परंतु आजकल मोमबत्तीओ का इस्तेमाल घर की सजावट करने के लिए, बर्थडे पार्टी में भी होने लगा है इसलिए अब मोमबत्ती के बिजनेस में भी तेजी आई है। इसके मद्देनजर पूरे भारत में कई युवा लोग मोमबत्ती का व्यापार कर रहे हैं तो वहीं कई ऐसे हैं जो इसे करना चाहते हैं पर उन्हें इनके बारे में संपूर्ण जानकारी नहीं है।

परंतु आज के इस आर्टिकल में हम आपको मोमबत्ती बनाने के व्यवसाय के बारे में संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं। अगर आप कम लागत में अपना खुद का स्वरोजगार चालू करना चाहते हैं तो मोमबत्ती का बिजनेस आपके लिए लाभदायक हो सकता है क्योंकि इसमें पूरी कम लगती है और मुनाफा ज्यादा होता है।

यह ऐसा धंधा है जिसे आप अपने बजट के अनुसार कम या ज्यादा मात्रा में कर सकते हैं। इसके साथ ही अगर आप यह व्यापार करते हैं तो दिवाली और क्रिसमस के समय इस व्यापार में सबसे ज्यादा फायदा होता है क्योंकि इन दिनों घरों में मोमबत्ती का सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है।

चलिए अब आपको Mombatti Making business कैसे शुरू करें, मोमबत्ती का रो मटेरियल कहां से लाए, मोमबत्ती की लागत, मोमबत्ती में कैरियर इत्यादि के बारे में संपूर्ण जानकारी इस आर्टिकल के द्वारा देते हैं।

Candle Making Business कहां शुरू करें

आप मोमबत्ती का व्यवसाय ऐसी जगह पर शुरू करें जहां पर रोड अच्छी हो और वहां पर यातायात के साधन 24 घंटे उपलब्ध हो।इसके साथ ही इस बात का ध्यान भी रखें कि वहां पर इलेक्ट्रिसिटी की सप्लाई 24 घंटे हो।

क्युकी अगर आप व्यवसाय के तौर पर इसे चालू कर रहे हैं तब आपको मशीनों को चलाने के लिए बिजली की आवश्यकता 24 घंटे पड़ेगी और अगर आपको 24 घंटे बिजली प्राप्त होगी तब ही आप अपने मशीनों से अधिक से अधिक उत्पादन ले पाएंगे।

Candle Making Business के लिए रो मटेरियल

मोमबत्ती का निर्माण करने के लिए आपको निम्न सामग्री चाहिए।

1.  मोम
2. एक बर्तन मोम को पिघलने के लिए
3. एक छलनी
4. मोमबत्ती बनाने के लिए सांचा
5. बती के लिए सूती धागा
6. एक थर्मामीटर
7. प्रकृतिक गंध का तेल

Candle Making Business के लिए कच्चा माल कहां से खरीदें

मोमबत्ती बिजनेस के लिए कच्ची सामग्री आपके एरिया के लोकल दुकानदार भी दे सकते हैं।इसके अलावा आप चाहे तो ऑनलाइन भी कच्ची सामग्रियां ऑर्डर कर सकते हैं, पर इसमें इस चीज का ध्यान रखें कि आप कच्ची सामग्री जहां से भी मंगाए वह थोक में हो।

क्युकी ऐसा करने से आपको कच्ची सामग्री सस्ते में पड़ेगी। आप चाहे तो इंडियामार्ट वेबसाइट का सहारा भी ले सकते हैं, ऑनलाइन मोमबत्ती बिजनेस के रो मटेरियल के लिए।

जरूर पढ़िए: Google क्या हैं और कैसे काम करता हैं

Candle कैसे बनाए?

मोमबत्ती का निर्माण करने के लिए सबसे पहले मॉम को छोटे-छोटे भाग में करके उसे बर्तन में डालकर चूल्हे पर पिघलाएं। ऐसा करते समय इस बात का ध्यान अवश्य रखें कि मोम पिघलाने का काम बहुत ही सावधानी से हो।

क्योंकि अगर इसमें से चिंगारी निकलती है तो पिघला हुआ मॉम आग पकड़ सकता है। इसलिए इसमें विशेष सावधानी रखें।आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मॉम के छोटे-छोटे टुकड़े इसलिए किए जाते हैं ताकि वह आसानी से पिघल सके।

इसके साथ ही थर्मामीटर के द्वारा पिघलते हुए मॉम के तापमान की जांच करते रहे।हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अलग-अलग मॉम को अलग-अलग तापमान पर पिघलाया जाता है क्युकी अलग-अलग मॉम की अलग प्रकार की डेंटिसिटी होती है।

जैसे:-

  1. पुरानी मोमबत्तियों को लगभग 185 डिग्री तक पिलाना चाहिए।
  2. सोय मोम को 170 से 180 डिग्री तक पिलाना चाहिए।
  3. मधूमोम को 145 डिग्री फॉरेनहाइट तक पिलाना चाहिए
  4. पैराफिन मोम को 145 डिग्री फॉरेनहाइट तक पिलाना चाहिए।

इसके बाद पिघले हुए मॉम में कलर मिलाने की बारी आती है ताकि वह रंग बिरंगी दिख सकें और लोगों को अपनी तरफ आकर्षित करें।इसमें इस बात का ध्यान रखें कि कलर का रंग गाढ़ा ही हो क्योंकि मोमबत्ती ठंडी होने पर उसका कलर हल्का हो जाता है।

अगर आप सुगंधित मोमबत्ती बनाना चाहते हैं तो आप प्राकृतिक तेल भी मिला सकते हैं। इसके अलावा आप चाहे तो किसी सुगंधित इत्र का इस्तेमाल भी मोमबत्ती को सुगंधित बनाने में कर सकते हैं।

इसके बाद बारी आती है सूती धागे को सांचे में लगाने की। ऐसा करते समय इस बात का ध्यान रखें कि धागा सांचे के ठीक बीच में ही रहना चाहिए। साथ ही यह भी सुनिश्चित कर लें कि सांचा ऐसा हो जो पिघले हुए मॉम का तापमान सहन कर सके।

इसके बाद अब किसी कपड़ानुमा बर्तन से पिघले हुए मॉम को सांचे में डालें। ध्यान रखें कि यह काम बहुत ही सावधानी से करें क्योंकि पिघला हुआ मॉम आपको जला सकता है।

अब आपका सारा काम हो गया है। अब बस इसे ठंडा होने दें। इसे ठंडा होने में 18 से 20 घंटे का समय लग सकता है। जब यह ठंडा हो जाएगा तब आपकी मोमबत्ती तैयार हो जाएगी।

Candle Making Business में लागत

अगर आप घरेलू तौर पर मोमबत्तीओ का निर्माण करना चाहते हैं तो इसमें आपको शुरुआती लागत लगभग 20000 के आसपास तक हो सकती है। वहीं अगर आप मशीनों के द्वारा बिजनेस करने के लिए मोमबत्तीयो का निर्माण करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको मोमबत्ती की मशीन 50000 से लेकर 100000 तक की पड़ जाएगी।जितनी बड़ी मशीन होगी उतना ही ज्यादा उत्पादन होगा।

जरूर पढ़िए: नए ATM का PIN कैसे बनाये

Candle Making Business के लिए कैसे License प्राप्त करें

अगर आप घरेलू तौर पर मोमबत्ती बनाने का व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको कोई लाइसेंस की जरूरत नहीं है।

परंतु अगर आप कैंडल मेकिंग बिजनेस को व्यवसाय के रूप में चालू करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको अपने बिजनेस फार्म के नाम से पैन कार्ड का आवेदन देना होगा। इसके साथ ही करंट अकाउंट भी खुलवाना होगा। इसके साथ ही आपको अपनी लोकल अथॉरिटी से ट्रेड लाइसेंस भी लेना होगा।

लाइसेंस किसी भी बिजनेस को करने के लिए लेना ही होता है। इसके अलावा चुकीं आपका उद्योग सामान खरीदने और बेचने का है तो उसके लिए आपको सेल्स टैक्स रजिस्ट्रेशन भी लेना आवश्यक रहेगा। आप अपने ब्रांड को चमकाने के लिए ट्रेडमार्क का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

Candle Making Business की Marketing कैसे करे?

पहले की तरह हर बिजनेस का यह सबसे अहम पहलू होता है कि वह अपने बिजनेस को फैलाए। अगर आप व्यवसाय के तौर पर मोमबत्ती मेकिंग बिजनेस कर रहे हैं तो आपको इसकी मार्केटिंग पर विशेष ध्यान देना होगा।

क्योंकि मार्केटिंग से ही आपका सामान ज्यादा बिकेगा।इसके लिए आपको अपने शहर के किसी व्यस्त चौराहे पर अपने ब्रांड नाम से बैनर और पोस्टर लगवाना होगा ताकि वहां आने जाने वाले लोग उसे देख सके और आपके व्यवसाय के बारे में जान सकें।

इसके अलावा आप अपने शहर के अखबार का सहारा भी ले सकते हैं। आप अपने शहर के किसी भी अखबार में अपने मोमबत्ती बिजनेस का विज्ञापन दे सकते हैं।

इसके अलावा सोशल मीडिया साइट पर आप अपने मोमबत्ती बिजनेस का फेसबुक पेज बनाकर भी शेयर कर सकते हैं। ऐसा करने से कम समय में ही लोग आपके व्यवसाय के बारे में जानने लगेंगे।

तैयार Candles कहां बेचे?

अपनी तैयार मोमबत्तियां आप अपने लोकल एरिया के दुकानदारों को बेच सकते हैं। इसके लिए आप अपने एरिया में पड़ने वाले सभी दुकानदारों के पास जाएं और उन्हें अपने प्रोडक्ट के बारे में बताएं,साथ ही उन्हें शुरुआत में किफायती रेट पर मोमबत्तियां सप्लाई करें।

क्योंकि अगर जब उन्हें कुछ लाभ होगा तभी वह आपकी मोमबत्तियां खरीदेंगे और एक बार जब दुकानदार आपकी मोमबत्तियां खरीदने लगे तब धीरे-धीरे आप की सेलिंग बढ़ती जाएगी।

इसके अलावा आप ऑनलाइन यह भी पता करिए की कौन-कौन सी कंपनी अथवा दुकानदार थोक में मोमबत्तियां खरीदते हैं आप उन्हें भी सप्लाई कर सकते हैं।

Candles की पैकिजिंग

मोमबत्ती की पैकिंग आप ऐसी बनाए जिससे वह लोगों को अपनी तरफ आकर्षित कर सकें।इसके लिए आप बर्थडे पार्टी में इस्तेमाल होने वाले चमकीले और चमकीली झिल्लियों का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके अलावा आप अपनी मोमबत्ती की पैकिंग पर अपने ब्रांड का नाम भी अवश्य लिखें ताकि आगे चलकर लोग आपके ब्रांड को जानने लगे।

जरूर पढ़िए: Human Body Parts Names

Candle Making Business में सावधानियां

जब भी मोमबत्ती पिलाई जाती है तब उसका तापमान अधिक रहता है। इसलिए उसे पिघलाते समय सावधानियां बरते क्योंकि अगर पिघलती मोमबत्ती आपके ऊपर गिर जाएगी तब आप जल सकते हैं इसलिए अपने हाथों में सेफ्टी ग्लव्स जरूर पहन ले।

संक्षेप में,

दोस्तों इस post में आपने Candle making business के बारे में सम्पूर्ण जानकारी को पड़ा मुझे उम्मीद हैं कि आपको हमारे द्वारा लिखी गई ये post जरूर पसंद आई होगी यदि आपको ये पोस्ट पसंद आई हैं तो इस पोस्ट को Social Midea जैसे Whatsapp, Facebook, Instagram, Twitter पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करना ना भूलिए धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *