अगरबत्ती बिजनेस

अगरबत्ती का बिजनेस कैसे करें

Last Updated on October 13th, 2020 by Bhupendra Singh

भारत एक कृषि प्रधान देश होने के साथ-साथ धर्म प्रधान देश भी है यहां पर सुबह-शाम मंदिरों में आरती होती है, दरगाह में अजान होती है, गिरिजा घरों में प्रार्थना होती है तथा गुरुद्वारों में सभा होती है। इन सभी धर्मों के धर्मस्थल पर एक चीज कॉमन होती है और वह अगरबत्ती है।

इसके अलावा अन्य देश जैसे अमेरिका, रशिया, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, श्रीलंका, म्यानमार, पाकिस्तान, बांग्लादेश में घर को सुगंधित करने और भगवान की पूजा करने के लिए अगरबत्ती की आवश्यकता पड़ती है।

इन सभी चीजों की ध्यान में रखते हुए अगरबत्ती का बिजनेस शुरू करना बहुत ही बुद्धिमानी का कार्य है। इसलिए इस पेज पर हमने अगरबत्ती के बिजनेस से संबंधित समस्त जानकारी शेयर की है जिसको पढ़कर आप आसानी से अगरबत्ती के व्यापार को शुरू कर पाएंगे।

तो चलिए अगरबत्ती के व्यापार की जानकारी को पढ़कर समझे है।

अगरबत्ती का बिजनेस कैसे करें

अगरबत्ती का बिजनेस अधिकतर महिला चलाती है परंतु अब इसमें पुरुष भी प्रोफेशनल तरीके से अपना हाथ आजमा रहे हैं।

अगरबत्ती का व्यापार ऐसा व्यापार है जिसे आप अपने घर से ही शुरू कर सकते हैं और इसमें लगने वाले रो मटेरियल काफी सस्ते दामों में उपलब्ध हो जाते हैं।

बढ़ती हुई महंगाई के साथ-साथ अगरबत्तियों के दामों में भी वृद्धि हुई है।

जहां पहले अगरबत्ती ₹5 की मिलती थी वही अब अगरबत्ती का पैकेट ₹20 से लेकर ₹100 तक में मिलता है, इसलिए इस व्यापार की आय में भी वृद्धि हुई है।

अगरबत्ती का व्यापार शुरू करके ने के लिए आपको नीचे के कुछ प्रश्नो और उत्तर को समझना होगा।

अगरबत्ती का बिजनेस करने के लिए योग्यता

Aggrbatti udhyog को शुरू करने के लिए आप को किसी भी प्रकार की डिग्री अथवा डिप्लोमा की आवश्यकता नहीं है।

इसके लिए बस आपका व्यवहारिक ज्ञान, आपकी मार्केट की अच्छी पकड़ और इस क्षेत्र से जुड़े हुए कुछ लोगों से आपका संबंध इस बिजनेस में आपके बहुत ही काम आ सकता है।

अगरबत्ती व्यवसाय शुरू करने से पहले किसी ऐसे व्यक्ति से भी एक बार अवश्य मिल ले, जो पहले से ही इस व्यवसाय को कर रहा है ताकि वह आपको इस व्यवसाय की बारीकियां समझा सके।

अगरबत्ती के बिज़नेस में निवेश

Aggrbatti Business को चालू करने के लिए आप ₹13000 की लागत के साथ घरेलू तौर पर भी हाथों से निर्माण कार्य शुरू कर सकते हैं।

परंतु अगर आप अगरबत्ती के बिजनेस को मशीनें के द्वारा करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको इसे शुरू करने में लगभग ₹500000 तक की लागत आ सकती है।

अगरबत्ती बनाने की मैनुअल मशीन का दाम ₹14000 है और सेमी ऑटोमेटिक मशीन का दाम ₹90000 है, वहीं हाई स्पीड मशीन का दाम लगभग ₹1,15000 के आसपास है। हम इस आर्टिकल में आपको घरेलू तौर पर अगरबत्ती बनाने के बारे में बताएंगे।

Agarbatti Making Machine खरीदना चाहते हैं तो निम्न जगह से खरीद सकते हैं।

  • Stainless Steel Dhoop Cone Making Machine,
  • Single phase, 2 HP
  • Nishan product
  • Naroda, abmdabad

अगरबत्ती बिजनेस के लिए कच्चा माल

अगरबत्ती बनाने की प्रक्रिया काफी सरल है। इसे बनाने में जो प्रमुख कच्चे माल आते हैं वह निम्न प्रकार है।

  • लकड़ी
  • सफेद चंदन
  • लकड़ी का कोयला
  • राल
  • गूगल इत्यादि

अगरबत्ती बनाने का रो मटेरियल कोलकाता में कृष्णा ग्रुप, दुर्गा इंजीनियरिंग, लोकनाथ अगरबत्ती इत्यादि नामक कई कम्पनी इन सामग्रियों को उपलब्ध कराती है।

अहमदाबाद में एम के पंचाल इंडस्ट्रीज, अमूल अगरबत्ती वर्क्स और शांति एंटरप्राइज जैसी कई कम्पनिया है जो प्रत्येक शहर में इन सामग्रियों को उपलब्ध कराती है।

अगरबत्ती कैसे बनाए

अगरबत्ती बनाने के लिए आपको पहले इसका मसाला बनाना होता है और जो नीचे दिए गए Points को फॉलो करके बनाया जा सकता है।

  • अगरबत्ती का निर्माण करने के लिए सबसे पहले सफेद चंदन और लकड़ी के कोयलों को कैसे भी करके अच्छी तरह पीस लें।
  • इसके बावजूद गूगल को पानी मिलाकर खरल करके उसे लेई जैसा बना ले।
  • फिर इसके बाद इसमें पिसा हुआ चंदन सफेद, राल तथा लकड़ी का कोयला मिला दे।
  • इस प्रकार अगरबत्ती बनाने का मसाला तैयार हो जाता है।

इसके बाद इस गूथे हुए मसाले को बांस की तीलियों पर लगाने की बारी आती है।

मसालों को तीलियों पर लगाने के लिए एक हाथ में हथेली पर मसाला लेकर उस पर तीली घुमाते हुए मसाला हथेली पर चढ़ा दिया जाता है।

इसी प्रकार एक दूसरे तरीके में मसाले में जरा सी गोली को बेलते हुए सिक पर मसाला चढ़ाया जाता है और इसके बाद इसे धूप में सूखने के लिए रख दिया जाता है।

अच्छी और सुगंधित अगरबत्तीया बनाने के लिए अगरबत्ती के मसाले में 1/8 भाग चंदन का बुरादा मिला लेना उचित रहता है।

अगरबत्ती बनाने में जो बांस की तीलियों का इस्तेमाल होता है वह बांस की तिलिया बाजार में आसानी से उपलब्ध हो जाती है।

आमतौर पर इन बांस की तीलियों की साइज 8 इंच से लेकर 12 इंच तक होती है।

ज्यादातर 1 किलो में लगभग 1300 तीलिया (मसाला लगाने के बाद आती हैं। इस प्रकार इन तीलियों पर लगाए गए मसाले को सुखाए।

बाजार में अलग-अलग तरह के मॉडल के साथ अगरबत्ती सुखाने वाली मशीन उपलब्ध है आप उन मशीनों को लगाकर 8 घंटे में 160 किलोग्राम तक अगर बत्तियों को सुखा सकते हैं

अगर आप अगरबत्ती सुखाने की मशीन नहीं खरीदना चाहते हैं तो आप अपने घर के पंखे के नीचे भी इन्हें फैला कर रखते हैं।

इस बात का ध्यान रखें कि कभी भी अगर बत्तियों को धूप में ना सुखाएं।

अगरबत्तियां सुख जाने पर इन्हें सुगंधित अगरबत्ती बनाने के लिए मसाला सूखने के बाद इन अगरबत्तियों को इत्र के सुगंधित मिश्रण में डुबाया जाता है अथवा इन अगरबत्ती के ऊपर इत्र छिड़क दिया जाता है।

अगर आप ऑटोमेटिक मशीन द्वारा अगर बत्तियों का निर्माण करते हैं तो आप 1 मिनट में 200 अगरबत्तीया तक बना सकते हैं।

अगरबत्तियों पर छिड़कने के लिए सुगंधित इत्र का फार्मूला हम आपको नीचे बता रहे हैं।

अगरबत्ती के लिए सुगंधित इत्र

1. बेंजिन एसिटेट – 25 ग्राम

2. चंदन का तेल – 30 ग्राम

3. बेंजिन अल्कोहल – 5 ग्राम

4. लिनासूस – 10 ग्राम

5. लिनालिल एसिटेट – 5 ग्राम

6. अल्का एमाइल एल्डिहाइड- 2 ग्राम का अल्कोहल में 10 फीसदी घोल

7. इंडोल 10 फीसदी घोल – 5 ग्राम

इस प्रकार आप अगर बत्तियों पर छिड़कने के लिए सुगंधित इत्र बना सकते हैं।

इसके अलावा आप चाहे तो अन्य कोई इतर भी अगरबत्तियों के ऊपर छिड़क सकते हैं।

आप चाहे तो बाजार से तैयार इतर भी ला सकते हैं वहां पर आपको अलग-अलग सुगंध वाले और अच्छे इत्र आसानी से मिल जाएंगे।

अगरबत्तियों की पैकिंग

अगरबत्तीया बनाने के बाद अब पैकिंग की बारी आती है

इसका आपको विशेष ध्यान रखना है कि आप अगर बत्तियों की पैकिंग ऐसी करें जिससे लोग उसे देखकर आकर्षित हो।

आप चाहे तो अपने अगर बत्तियों के बॉक्स की डिजाइन किसी ग्राफिक डिजाइनर से बनवा सकते हैं।

अगरबत्ती के पैकेट पर कुछ टैगलाइन भी अवश्य लिखें जिससे लोग अट्रैक्ट हो और अगरबत्ती के पैकेट पर उसकी मैन्युफैक्चरिंग डेट, एक्सपायरी डेट, कीमत, अगरबत्ती कहां बनाई गई है उसका स्थान और अन्य लाइसेंस संबंधित जानकारी भी अवश्य लिखें।

अगरबत्तीया कहां और कैसे बेचे

आप अपनी अगरबत्तियां बेचने के लिए अपने एरिया के जितने भी दुकानदार है उनके पास जाएं और अपनी अगरबत्तीओं के बारे में उन्हें बताए, साथ ही आप उन्हें अगरबत्ती कितने में देंगे, यह भी बताएं।

अगर उन दुकानदारों को आपका ऑफर जमता है तब वह आपसे अगरबतिया ले लेंगे और उन्हें अपनी दुकान पर बेचेंगे, जिसके बाद कुछ ही सालों अथवा महीनों में आपकी अगरबत्ती की ब्रांड प्रसिद्ध हो जाएगी।

इसके अलावा आप कुछ फ्री की अगरबत्तीया अपने जानने पहचाने वालों को भी दे जिससे वह आपकी अगर बत्तियों के बारे में अपने अन्य लोगों को बता सके।

अगरबत्ती की मार्केटिंग

यह हर बिजनेस का सबसे अहम पहलू होता है कि वह अपने बिजनेस के ब्रांड की मार्केटिंग करें।

इसके साथ ही आप किसी व्यस्त चौराहे अथवा बाजार में अपने अगरबत्ती के ब्रांड का पोस्टर लगवा सकते हैं।

इससे होगा यह कि वहां पर जो भी आएगा जाएगा उसकी नजर कहीं न कहीं आपके ब्रांड पर जरूर पड़ेगी और लोग आपके ब्रांड के बारे में जानने लगेंगे।

आप चाहे तो कुछ अतिरिक्त रुपए खर्च करके अपने शहर के टेलीविजन में भी अपने अगरबत्ती के ब्रांड का विज्ञापन दे सकते हैं, साथ ही आप चाहे तो मार्केटिंग करने वाले कुछ नए युवा लोगों को अपनी अगरबत्ती के ब्रांड की मार्केटिंग करने के लिए नौकरी पर रख सकते हैं।

अगरबत्ती के व्यापार की अन्य जानकारी

हमारी आपको यह सलाह है कि शुरुआत में आप अपनी अगर बत्तियों के दाम कम रखें और अपने अगरबत्ती के पैकेट में अगर बत्तियों की संख्या ज्यादा रखें।

ऐसा करने से लोग ज्यादा के लालच में आकर आपकी अगरबत्तियों को खरीदेंगे, यह एक मार्केटिंग और सेलिंग स्ट्रैटजी है।

इसके बाद जब आपकी अगरबत्तीया अच्छे से बिकने लगे तब आप उसका दाम बढ़ा सकते हैं।

जरूर देखे :

उम्मीद करते हैं कि आपको हमारे द्वारा लिखी गई ये post जरूर पसंद आई होगी

यदि आपको यह पोस्ट पसंद आई हैं तो इस पोस्ट को Social Media जैसे Facebook, Instagram, Twitter पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करना ना भूलिए।

Agarbatti Making Business संबंधित किसी भी तरह की प्रश्न के लिए नीचे कमेंट करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.