Computer Basic Languages की जानकारी | C, C++, JAVA etc.

Computer basic language सही मायने में general purpose और high level programming languages का एक गठन है।

Programming languages बहुत सी हैं जिनमें से कुछ को हम समझते हैं और कुछ languages को सिर्फ Computer ही समझता है।

जो languages हमारे लिए होती हैं उन्हे Low level language  कहा जाता है, तो वहीं जो languages computer के लिए होते हैं उन्हे High level language कहा जाता है। 

Low level language क्या है?

जो languages  अपने संकेतो को machine संकेतो में बदलने के लिए किसी भी Translator को सम्मिलित नही करता है, उसे low level language कहते हैं। low level language को translate करने की कोई जरुरत नही होती है। लेकिन program में इनका उपयोग करना बहुत मुश्किल है।

इसका  इस्तेमाल करने के लिए computer hardware की पूरी जानकारी होना बेहद जरूरी है। यह काम करने में काफी समय लेता है तो साथ ही इसमें errors होने के chances ज्यादा होते हैं। इसके execution के लिए high level language को ज्यादा बेहतर माना जाता है। 

Low level language के प्रकार

Low level language के 2 प्रकार है, जो निम्न लिखित हैं

  • Machine language 
  • Assembly language 

1. Machine language क्या है?

Computer system केवल digits को ही समझता है जो कि 1 या 0 के बीच में होते हैं और इन्हें ही Binary language कहा जाता है। Computer को किसी भी तरह का निर्देश देने के लिए binary digits का ही इस्तेमाल किया जाता है। जो निर्देश binary code देते हैं उसे ही machine language के नाम से जाना जाता है। Machine level language, machine के लिए जितना आसान होता है तो वहीं programmer के लिए काफी मुश्किल होता है क्योंकि इसमें error की संभावना ज्यादा होती है। Machine language हर एक computer system पर अलग अलग काम करता है। यही कारण है कि एक computer code दूसरे computer में नहीं चल सकता है।

2. Assembly language क्या है?

Assembly language में निर्देश देने के लिए English words का इस्तेमाल किया जाता है जैसे , NOV, ADD, SUB आदि। इसे mnemonic code के नाम से जाना जाता है। Machine language की तुलना में assembly language को समझना ज्यादा आसान होता है, लेकिन जैसे कि हम जानते हैं कि computer सिर्फ machine language को ही समझता है, इसलिए assembly language को binary language में translate किया जाता है। एक ऐसा Translator जो कि Machine language को Assembly language में translate कर दे उसे Assembler कहा जाता है।

High level language क्या है

High level language को दूसरों की सुविधा को ध्यान में रख कर बनाया गया है। यह पूरी तरह से machine language पर निर्भर करती है , तो साथ ही इसे समझना या कोड करना काफी आसान है क्योंकि यह code बिल्कुल English language जैसा ही होता है। इसके लिए translator की ज़रूरत होती है जो इस program को  machine code में convert कर दे। 

इस category की language को 2 generation में विभाजित किया गया है।

  • Third generation language 
  • Fourth generation language

1. Third generation language

Third generation languages पहली ऐसी languages थी जिसने programmers को machine और assembly languages में program लिखने से आज़ाद किया। बता दें कि Third generation language, machine पर आश्रित नहीं थीं इसलिए program लिखने के लिए machine के Architecture को समझने की ज़रूरत नहीं पड़ी।

इसके अलावा programs portable हो गए जिसकी वजह से program को उनके compiler और Interpreter के साथ एक computer से दूसरे computer में copy करना आसान था। Third generation language के कुछ जानी मानी languages में फॉरटरैन, बेसिक ,  कोबोल, पास्कल, C, C++ आदि सम्मिलित है।

2. Fourth generation language

Fourth generation language को third generation language के मुकाबले इस्तेमाल करना ज्यादा आसान है। Fourth generation languages में visual वातावरण होता है , जबकि Third generation languages में Textual वातावरण होता है। जहां Textual वातावरण में programmer source code को निर्मित करने के लिए English words का इस्तेमाल करते हैं।

तो वहीं visual वातावरण में programmer button, label और text Bosco जैसे Items को Drag and drop करने के लिए toolbar का इस्तेमाल किया जाता है। इसकी विशेषता IDE (Integrated development environment) हैं जिनके Application compiler और  run time को support करते हैं। Microsoft visual studio और Java studio इसके examples हैं।

Major Programming languages

Computer में 5 major programming languages हैं।

1. Java

Java एक class based, object oriented programming language है। जिसे sun Microsystems द्वारा 1990s में discover किया गया था। इसे सबसे ज्यादा demanding programming languages में से एक माना जाता है। जो को enterprise software, web based content, games, mobile apps और Android operating system में भी use किया जाता है। Java को इस तरह से design किया गया है कि इसे multiple software platforms में भी use कर सकते हैं। 

उदाहरण – Mac OS X के लिए बनाया गया program, window में भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

2. C Language

C Language, general purpose के लिए imperative programming language है जिसे early 70s में बनाया गया था। C Language सबसे पुराना और सबसे ज्यादा इस्तेमाल किये जाने वाला language है जो कि दूसरे popular languages को blocks provide करती है। 

जैसे – C#, Java, JavaScript, python. C mostly operating systems और embedded applications को implement करने के लिए इस्तेमाल किया गया है। 

 3. C++

C++ एक intermediate level language है जिसमे object oriented programming features है। यह originally designed है और साथ ही C Language को support करता है। C++ major software जैसे Firefox और adobes programs को power देती है। इसका use system software, Application software, high performance servers, client applications, और video games को develop काटने में किया जाता है। इसमें C और C++ को combine किया जाता है। 

4. C#

C#, C sharp के नाम से pronounce किया जाता है। C# एक multi-paradigm language है जिसे Microsoft ने discover किया है। ये NET initiative के एक part है। C# एक general purpose language है जिसमे Microsoft और window platforms के software develop किये जाते है।

5. Objective C

Objective C एक general purpose, object oriented programming language है जो Apple operating system use करते हैं। इसमें Apple OS और iOS और API’s भी power किये जाते हैं। इसी में iPhone apps भी create किये जाते हैं जिसके कारण इस outmoded programming language की demand बढ़ जाती है।

दोस्तों उम्मीद है यह article Computer Basic Language आपको पसंद आया होगा और Computer languages & programming language से related आपके सभी doubts clear हो पाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *