प्यार क्या हैं प्यार के प्रकार और अन्य जानकारी

Pyar Kya Hai

प्यार दुनिया का सबसे खूबसूरत शब्द हैं। जिस इंसान को प्यार हो जाता हैं वो ख्यालों की दुनिया में खो जाता हैं। लेकिन आधुनिकता के चक्कर में प्यार की परिभाषा ही बदलती जा रही है इसलिए इस पेज पर हमने प्यार क्या हैं और प्यार कैसे होता हैं आदि जानकारी शेयर की है जिसको सबको पढ़कर समझना चाहिए।

पिछले पेज पर हमने Love Marriage और Arrange Marriage में अंतर की जानकारी शेयर की हैं उसे जरूर पढ़े।

चलिए इस पेज पर सिर्फ प्यार की बात करते हैं प्यार क्या हैं पढ़कर समझते है।

प्यार क्या हैं

प्यार या प्रेम एक खूबसूरत एहसास हैं जो मनुष्य दिमाक से नहीं सिर्फ दिल से करता हैं। यदि हमें किसी से प्यार होता हैं तो हमारी ज़िंदगी ही बदल जाती हैं सबकुछ अच्छा लगने लगता हैं

प्यार ज़िन्दगी की वो खुशी हैं जिसको मिल जाती हैं उसकी लाइफ ही बदल जाती हैं। प्यार में वो ताकत होती हैं जो लोगों के बीच की दूरी खत्म कर देता हैं और नजदीकियां बढ़ा देता हैं।

जब किसी को प्यार होता हैं तो उसकी लाइफ बदल जाती हैं। इंसान प्यार में कोमल, विन्रम, भावुक और संवेदनशील हो जाता हैं। प्यार के आगे किसी का बस नहीं चलता।

प्यार ज़िंदगी का वो घूट हैं जिसे पिया जाए तो आत्मा अमर हो जाती हैं और ना पिया जाए तो जिंदगी नरक से बत्तर बन जाती हैं।

इंसान के पास चाहे कितनी भी धन दौलत ऐसों आराम क्यों ना हो यदि उसकी लाइफ में प्यार नहीं तो वो कभी खुश नहीं रह पाएगा। प्यार में वो ताकत होती हैं जो संसार की किसी भी प्रॉब्लम से लड़ने की हिम्मत देती हैं।

यदि लाइफ को एन्जॉय के साथ जीना हैं तो इंसान की लाइफ में प्यार का होना जरूरी हैं यदि लाइफ में प्यार ना होगा तो लाइफ बोरिंग हो जाएंगी।

सच्चा प्यार वह होता हैं जो सभी हालातों में अपने प्यार का साथ दे चाहे दुःख हो या सुख हर परिस्थिति में जीवन भर आपका साथ निभाए और हर दुःख सुख को अपना दुःख-सुख समझे वही सच्चा प्यार हैं।

किसी से प्यार जबरदस्ती नहीं किया जा सकता प्यार के लिए तो अंदर से फीलिंग आती हैं। प्यार सिर्फ दिल की आवाज सुनता हैं और दिल की धड़कनों को महसूस करता हैं।

प्यार का मतलब यह नहीं हैं कि हम हमेशा एक-दूसरे के साथ ही रहें प्यार तो एक-दूसरे से दूर रहने पर भी खत्म नहीं होना चाहिए।

प्यार दो आत्माओं के बीच एक पवित्र बंधन हैं तो दिल से जुड़ा हुआ होता हैं। प्यार का दर्जा दुनिया में नहीं बल्कि भगवान के दर पर भी सबसे ऊंचा माना जाता हैं।

प्यार कैसे होता हैं

जब हमें किसी से प्यार होता हैं तो सिर्फ उसी का ख्याल हमारे दिमाक में चलता हैं। रातों को उसी के सपने आते हैं।

यदि आपको किसी से सच्चा प्यार होता हैं तो आपका दिल हर जगह सिर्फ उसी को देखना चाहता हैं हर जगह सिर्फ वही नजर आता हैं।

उसकी हर अदा पर सिर्फ प्यार आता हैं उसकी हर हरकतें प्यारी लगती हैं। उसकी गलतियों को आप माफ कर देते हैं। और गलतियों को भूल जाते हैं।

यदि आपके प्यार को दर्द होता हैं तो आपके दिल में भी दर्द होता हैं। सच्चा प्यार वही हैं जो बिन बोले, बिन कुछ कहें एक-दूसरे की बातों को, इशारों को समझ जाएं।

कैसे पता लगाएं की आपको प्यार हुआ हैं

  • आप खुशी से झूमने लगते हैं।
  • मन ही मन मुस्कुराते हैं।
  • शीशा में खुद को निहारते हैं।
  • खूब सजते-सभरते हैं।
  • अपना पसंदीदा गाना सुनते हैं।
  • डांस करते हैं।
  • अपनी पसंद के ख्वाबों में खो जाते हैं।
  • उसी की बातों को याद करते रहते हैं।
  • एक बार मिलने को तरसते हैं।
  • साथ घूमने को बेकरार हैं।

यदि आपके साथ किसी के प्रति ऐसा सब हो रहा हैं तो यकीन मानिए मेरे दोस्तों आप पक्का ही किसी से सच्चा वाला प्यार करने लगे हैं और आपको अपनी फीलिंग समझ नहीं आ रही हैं।

अपनी फीलिंग को समझिए और अपने सच्चे प्यार को अपने दिल की बात बताइए और वो आपके बारे में क्या फील करता हैं यह पता कीजिए। यदि आप लड़की कैसे पटाए जानना चाहते हैं तो लिंक पर क्लिक करके लड़की पटाए के आसान तरीके पढ़कर लड़की पटा सकते हैं।

यदि सामने वाला आपसे प्यार नहीं करता हैं तो उससे बोलिए – क्या हुआ यदि आप मुझ से प्यार नहीं करते एक मौका तो दीजिए आपको भी हमसे प्यार हो जाएगा।

सच्चा प्यार क्या होता हैं

सच्चा प्यार ईश्वर की तरह होता है जिसके बारे में बातें तो सब लोग करते हैं लेकिन महसूस बहुत कम लोग करते हैं। सच्चे प्यार में हम एक-दुसरे की परवाह अपनी जान से भी ज्यादा करते है।

सच्चे प्यार में एक दुसरे को खोने का डर हमेशा लगा रहता है। सच्चे प्यार का एहसास बुरे से बुरे इंसान को भी सुधार सकता हैं। यदि किसी से सच्चा प्यार हो जाए तो उसे भुलाना मुश्किल होता हैं इसलिए सच्चे प्यार को भुलाने के तरीके पढ़िए और अपना सच्चा प्यार भुलाइए।

यदि आप दोनों एक दूसरे से सच्चा प्यार करते हो तो फिर किसी बात की कोई टेंसन ही नहीं हैं आराम से जिंदगी का मजा लीजिए और खुश रहिए।

झूठा प्यार क्या हैं

झूठा प्यार करने वाले लोग सिर्फ अपने बारे में सोचते हैं ऐसे लोग स्वार्थी क़िस्म के होते हैं।

झूठे प्यार करने वालों को सिर्फ अपने आप से मतलब होता हैं सामने बारे की परेशानी, दर्द, तकलीफ से कोई लेना देना नहीं होता।

झूठे प्यार करने वाले लोग प्यार में धोखा देते हैं अधिकतर लड़कियां प्यार में धोका देती हैं जरूरी नहीं कि प्यार में धोखा लड़कियां ही दे कभी धोखा झूठा प्यार करने वाले लड़के भी दे जाते हैं।

यदि आपको भी प्यार में धोखा मिला हैं और आप जानना चाहते हैं कि बेवफा लड़की या लड़के के साथ क्या करना चाहिए तो लिंक पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं।

प्यार के प्रकार

1. सच्चा प्यार

सच्चा प्यार किसी एक से होता हैं अनेकों से नहीं होता। सच्चा प्यार जीवन भर के लिए होता हैं यह कभी समाप्त नहीं होता।

सच्चे प्यार में लोग एक-दूसरे के दिल के साथ-साथ दिमाक से जुड़े होते हैं क्योंकि सच्चा प्यार एक-दूसरे को जानने और समझने के बाद ही होता हैं।

सच्चे प्यार करने वाले बिना कुछ बोले समझे बिना ही एक दूसरे की फीलिंग समझ जाते हैं। उनके दिमाक में क्या चल रहा हैं पता लगा लेते हैं। क्योंकि सच्चा प्यार दिल की गहराई से जुड़ा हुआ होता हैं।

सच्चा प्यार तो मनुष्य का जीवन सवार देता हैं। सच्चे प्यार में मनुष्य की दुनिया ही बदल जाती हैं। सच्चे प्यार में दूसरे का सुख-दुःख अपना सुख-दुःख लगने लगता हैं।

जब किसी को किसी से सच्चा प्यार होता हैं तो उसकी जीत में अपनी जीत महसूस होती हैं। “मैं और तुम ना होकर सिर्फ हम हो वहीं सच्चा प्यार हैं।”

2. पहली नजर का प्यार

पहली नजर में हमें किसी का चेहरा, किसी की आँखें, किसी का बोलने का तरीका, किसी का व्यवहार, किसी की सुंदरता मन को भा जाती हैं और हम उसके प्रति आकर्षित हो जाते हैं इसे पहली नजर का प्यार कहाँ जाता हैं।

3. आकर्षण से होने वाला प्यार

प्यार एक आकर्षण हैं तो हर किसी को किसी के प्रति आकर्षित होता हैं। प्यार किसी भी उम्र में हो सकता हैं प्यार की कोई उम्र नहीं होती।

प्यार किसी की ओर आकर्षित (Attractive) की वजह से होता हैं। आप जिससे आकर्षित होते हैं वह इतना अच्छा लगने लगता हैं की सिर्फ उसी का चेहरा नजर आता हैं। हमारा दिमाक सिर्फ उसी को देखना चाहता हैं।

जिस व्यक्ति से हम प्यार करते हैं उसकी हर एक अदा पर सिर्फ प्यार आता हैं। उसकी बातें, पसंद दिल में बस जाती हैं।

आकर्षण से होने वाला प्यार कुछ क्षण का होता हैं क्योंकि ऐसा प्यार सिर्फ आकर्षण से होता हैं।

आकर्षण वाला प्यार जल्दी खत्म होने लगता हैं “आकर्षण खत्म प्यार खत्म” क्योंकि ऐसे प्यार में लोग ऊब जाते हैं आकर्षण वाले प्यार में सिर्फ भय, अनिश्चिता, असुरक्षा और उदासी ही होती हैं।

4. सुख सुविधा से होने वाला प्यार

सुख सुविधा से होने वाला प्यार घनिष्ठता लाता हैं। यदि आप सुख सुविधा देख कर प्यार करते हैं तो वो प्यार नहीं हैं सिर्फ पैसों का बुखार हैं तो कभी भी चला जाता हैं।

प्यार तो रूप रंग, जात पात, पैसा घर ज़िंदगी की सभी सुख सुविधा से ऊपर हैं यदि यह सब देख कर आप किसी से प्यार करते हैं तो वो प्यार नहीं हैं क्योंकि प्यार तो इन सब से परे हैं।

5. दिव्य प्यार

सांसारिक प्रेम सागर के जैसा हैं, परन्तु सागर की भी सतह होती है। लेकिन दिव्य प्रेम आकाश के जैसा हैं जिसकी कोई सीमा नहीं है।

सागर की सतह से आकाश के ओर की ऊँची उड़ान को भरे। प्राचीन प्रेम इन सभी संबंधो से परे हैं और इसमें सभी सम्बन्ध सम्मलित होते है।

प्यार में सबसे ज्यादा जरुरी क्या है?

प्यार में सबसे ज्यादा जरुरी है विश्वास हैं जहाँ विश्वास होता है जिस प्यार में विश्वास रहता हैं वहीं प्यार सबसे ज्यादा चलता है।

प्यार की नींव सिर्फ विश्वास पर टिकी होती हैं विश्वास के बिना प्यार की कल्पना भी नहीं की जा सकती क्योंकि विश्वास के बिना प्यार करना सम्भव ही नहीं हैं।

विश्वास के बाद प्यार निभाने के लिए टाइम की जरूरत पढ़ती हैं। लाइफ में अपना इम्पोटेंट टाइम किसी को देना बहुत मुश्किल हैं। जब हम किसी से सच्चा प्यार करते हैं उसी को अपनी ज़िंदगी का कीमती समय दे पाते हैं।

अपनी बिजी लाइफ मैं से जितना समय आपके पास हो आप निकालिए और अपने प्यार के साथ एन्जॉय कीजिए। यदि आप किसी को टाइम नहीं देगें तो उसकी पसंद नापसंद कैसे पता करेंगे।

सच्चा प्यार करने के लिए एक दूसरे को जानना समझना बहुत जरूरी हैं। इसलिए एक दूसरे को जानने समझने के लिए टाइम तो देना ही पड़ेगा।

प्यार की सुंदर कविताएं

प्यार वो नही हैं जो कह कर दिखाया जाए।।
प्यार तो वो है जो छुप कर निभाया जाए।।

प्यार वो ज़मीन है।।
जिसे कभी गिराया ना जाए।।

प्यार वो आग है।।
जिसे कभी बुझाया ना जाए।।

प्यार वो सुकून है।।
जिसे कभी छोड़ा ना जाए।।

प्यार वो एहसास है।।
जो हमेशा महसूस किया जाए।।

प्यार वो गीत है।।
जिसे ज़िन्दगी भर गुनगुनाया जाए।।

प्यार वो जीत है।।
जिसे हमेशा मनाया जाए।।

प्यार वो रीत है।।
जिसे ज़िन्दगी भर निभाया जाए।।

प्यार वो कमजोरी है।।
जिसे कभी आजमाया ना जाए।।

प्यार वो ताकत है।।
जिसे कभी भुलाया ना जाए।।

प्यार वो वचन है।।
जिसे कभी तोड़ा ना जाए।।

प्यार वो आदत है।।
जिसे कभी भुला ना जाए।।

प्यार वो इज़्ज़त है।।
जिसे कभी ठुकराया ना जाए।।

प्यार वो भगवान है।।
जिसे कभी रूठा ना जाए।।

प्यार वो बचपना है।।
जिसे कभी भुलाया ना जाए।।

प्यार वो ज़मीर है।।
जिसे कभी बेचा ना जाए।।

प्यार वो ज़िद है।।
जिसमें कभी रोका ना जाए।।

प्यार वो सुख है।।
जिसमें कभी रोया ना जाए।।

प्यार वो मंदिर है।।
जिसे रोज पूजा जाए।।

प्यार प्राकृतिक है जो किसी से ज़बरदस्ती नहीं होता।।
वो तो एक खूबसूरत एहसास है जो एक पल में ही हो जाता हैं।।

जरूर पढ़िए : Girlfriend को क्या Gift दे

इस आर्टिकल में आपने प्यार क्या हैं एवं प्यार कैसे होता हैं को पढ़ा, उम्मीद हैं आपको यह पोस्ट पसंद आयी होंगी।

यदि आपको प्यार वाली यह पोस्ट पसंद आयी हो तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर करना मत भूलिए धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to top