SD Card क्या है इसके प्रकार, लाभ और हानि

SD Card in Hindi

सभी डाटा को स्टोर करने के लिए हमें किसी स्टोरेज माध्यम की जरूरत होती है जिसे हम Storage Device कहते हैं। वैसे तो स्टोरेज डिवाइस के बहुत प्रकार होते हैं

जैसे Floppy Disk Drive, Hard Disk Drive, Optical Disk Drive, Pen drive, और SD Card इत्यादि और इस पेज आप SD Card की जानकारी को विस्तार में पढ़कर समझेंगे।

SD Card क्या है

SD Card का पूरा नाम Secure Digital Card है। यह डाटा को स्टोर करने वाला एक इलेक्ट्रॉनिक स्टोरेज डिवाइस है। इसे हमे सामान्य भाषा में मेमोरी कार्ड भी कहते है

यह एक Ultra Small Size Storage Device है जिसे छोटे उच्च क्षमता वाली मेमोरी प्रदान करने के लिए डिजाइन किया गया है। आकार में छोटे होने के बावजूद इसमें अधिक मात्रा में डाटा को स्टोर किया जा सकता है। इसे खासकर पोर्टेबल डिवाइस के लिए बनाया गया है। यह एक Non Volatile Memory Card है।

मेमोरी कार्ड का अविष्कार कब हुआ

सन 1990 में SD Card का निर्माण हुआ जो शायद पहला मेमोरी कार्ड था। 1990 में SD Card से आकार में छोटे कई दूसरे मेमोरी कार्ड भी आए। जिनमें Compact Flash, Smart media और Mini-card थे। 

1990 से 2000 के दशक तक नए तरीके के कई मेमोरी कार्ड आए। जिनमें Memory stick, XD Picture जैसे कार्ड मुख्य थे। वर्तमान कंप्यूटर और मोबाइल फोन में मेमोरी कार्ड के लिए Slot होते है। कुछ डिवाइस में एक से अधिक मेमोरी कार्ड का भी प्रयोग किया जा सकता है।

मेमोरी कार्ड कैसे काम करता है

SD Card पर डाटा को एक Digital Format के रूप में स्टोर किया जाता है। कार्ड के प्लास्टिक कवर के अंदर Solid State Chip में कई छोटे Electrical Circuit होते हैं।

जब कार्ड उपयोग में नहीं होता तो Circuit बिना किसी अतिरिक्त पावर के अपने चार्ज को बरकरार रखते हैं। जब एक कार्ड को किसी सक्रिय डिवाइस जैसे कैमरा या सेल फोन में रखा जाता है तो डिवाइस से एक छोटा Electric Current फ्लैश मेमोरी चिप में Electrons को ट्रांसफर करता है।

चिप में स्टोर Digital Pattern वहां Store Data से संबंधित होते हैं। SD Card Memory को ब्लॉक या सेक्शन में लिखते और मिटाते हैं।

मेमोरी कार्ड के प्रकार 

मेमोरी कार्ड को उनके भौतिक आकार, भंडारण क्षमता और गति के आधार पर अलग-अलग भागों में बांटा गया है : 

भौतिक आकार (Physical Shape)

SD Card उनके भौतिक आकार के आधार पर तीन प्रकार के होते हैं:

1. Standard

Standard SD Card भौतिक आकार में सबसे बड़े हैं हालांकि यह अन्य मेमोरी कार्ड से छोटे होते हैं। इनका माप 32×24×2.1 मिमी और वजन सिर्फ 2 ग्राम होता है। इसका उपयोग डिजिटल कैमरे में किया जाता है। इसकी स्टोरेज क्षमता 128mb से 4GB तक होती है।

2. Mini

Mini SD Card को 2003 में जारी किया गया था। यह Standard SD Card से छोटे होते है। इनका माप 21.5×20×1.4‌ मिमी और वजन लगभग 0.8 ग्राम होता है। इसका उपयोग अलग-अलग प्रकार के Files, संगीत, वीडियो और सॉफ्टवेयर को स्टोर करने के लिए किया जाता है।

3. Micro

Micro SD Card को 2005 में जारी किया गया था यह सबसे छोटा SD Card है। इस का माप 11×15×1 मिमी और वजन लगभग आधा ग्राम होता है। इनका आकार लगभग एक नाखून के बराबर होता है। इसका उपयोग भी डाटा को स्टोर करने के लिए किया जाता है। इसे विशेष रूप से मोबाइल फोन के लिए डिज़ाइन किया गया था।

भंडारण क्षमता (Storage Capacity)

मेमोरी कार्ड के भंडारण क्षमता के आधार पर विभिन्न प्रकार के होते हैं:-

1. SDSC Memory Card

SDSC का पूरा नाम Secure Digital Standard Capacity है। यह मेमोरी कार्ड का मूल रूप है इसका माप 32×24×2.1 मिमी और वजन सिर्फ 2 ग्राम होता है। इस की भंडारण क्षमता 128Mb से 4GB तक होती है।

2. SDHC Memory Card

SDHC का पूरा नाम Secure Digital High Capacity  है। इस टाइप के मेमोरी कार्ड में नॉर्मल मेमोरी कार्ड से स्टोरेज Capacity ज्यादा होती है। जो 4GB से लेकर 32GB तक होती है।

3. SDXC Memory Card

SDXC का पूरा नाम Secure Digital Extended Capacity है। इसकी स्टोरेज क्षमता SDSC और SDHC से अधिक होती है। जो 64GB से शुरू होती है और 2TB तक बढ़ सकती है।

4. SDUC Memory Card

SDUC का पूरा नाम Secure Digital Ultra Capacity है। यह एक नया SDCard है जिसे 2018 में घोषित किया गया था। इसकी स्टोरेज क्षमता 2TB से 128TB तक होती है।

Bus की गति

अलग-अलग SD Card में अलग-अलग डाटा ट्रांसफर की गति होती है। Bus की गति इस बात को प्रभावित करेगी कि आप Post Production में डाटा को कितनी जल्दी प्राप्त कर सकते हैं।

SD Card की स्पीड का पता लगाने के लिए उनके ऊपर उनकी Class दी हुई होती है। यह उनके स्पीड को दर्शाता है कि आपके कार्ड की स्पीड कितनी है। यहां पर स्पीड का मतलब यह है कि आपका कार्ड कितनी तेजी से डाटा को रीड या राइट करता है।

  • Class 2 SD Card : इस कार्ड में आप 2 MB/S की स्पीड से डाटा ट्रांसफर कर सकते हैं यह बहुत ही Slow Speed Card है।
  • Class 4 SD Card : इसकी डाटा ट्रांसफर स्पीड 4 MB/S की है।
  • Class 6 SD Card :  इसकी डाटा ट्रांसफर स्पीड 6 MB/S की है। इस कार्ड में आप HD Video Recording भी कर सकते हैं।
  • Class 10 SD Card :  इसकी डाटा ट्रांसफर स्पीड 10 MB/S है। इस कार्ड में आप High HD Video Recording भी कर सकते हैं।
  • UHS-I  का पूरा नाम Ultra High Speed I है और यह SDHC और SDXC मेमोरी कार्ड के लिए स्पीड क्लास है। इसकी BUS इंटरफ़ेस गति 104 MB/S तक है। यह कार्ड धीमी गति प्रदान करते हैं लेकिन खरीदने के लिए बहुत सस्ते हैं।
  • UHS-II का पूरा नाम Ultra High Speed II है। यह कार्ड तेजी से पढ़ने और लिखने की गति प्रदान करता हैं और उन Videographers के लिए डिजाइन किया गया हैं जिन्हें डाटा को बड़ी क्षमता में लिखने और बैकअप लेने की आवश्यकता होती है। इसकी अधिकतम BUS गति 312 MB/S है।
  • UHS-III का पूरा नाम Ultra High Speed III है। इसको 2017 में 624 MB/S की अधिकतम गति के साथ पेश किया गया था।

जब मेमोरी कार्ड की Capacity या फिर उनकी क्लास ज्यादा होती है तो उनका दाम भी ज्यादा होता है तो आप जब भी आपका कार्ड खरीदने जाए अपनी जरुरत के हिसाब से कार्ड खरीदें कि आपको कितने डाटा ट्रांसफर स्पीड का कार्ड चाहिए।

मेमोरी कार्ड के लाभ

1. स्टोरेज में वृद्धि

किसी भी स्टोरेज डिवाइस का पहला लाभ यह है कि आप आसानी से बढ़े हुए स्टोरेज को प्राप्त कर सकते हैं। स्मार्टफोन हमेशा सीमित स्टोरेज स्पेस के साथ आता है जिसमें आप अधिक मात्रा में डेटा को स्टोर नहीं कर पाते हैं तो आप SD Card का उपयोग करके अपने स्मार्टफोन के Storage Capacity बढ़ा सकते हैं।

2. कम मूल्य

जब आप कम स्टोरेज वाला मोबाइल लेते हो तो आपको स्टोरेज की कमी होती है। आप अधिक स्टोरेज वाला मोबाइल नहीं ले पाते हो क्योंकि यह अधिक महंगा होता है इसलिए आप अपने बजट के अनुसार SD Card का इस्तेमाल कर सकते हो जो कि आपको सस्ता पड़ता है।

3.‌ फोन मेमोरी की खपत कम करें

फोन में SD Card जोड़ने के बाद आप बाकी फाइल जैसे मूवी या संगीत आदि को फोन मेमोरी से SD Card में ट्रांसफर कर सकते हैं। साथ ही कई फ़ोन Card में Apps Install करने की अनुमति देते हैं। इस तरह आप फोन की Internal Memory की खपत को कम कर सकते है।

4. Portable

छोटे आकार के कारण SD Card अधिक पोर्टेबल है। इसलिए इसे स्मार्ट फोन से बाहर निकालना, किसी और डिवाइस में फिट करना या कहीं और ले जाना आसान होता है।

5. कम बिजली खपत

मेमोरी कार्ड को बहुत कम बिजली की आवश्यकता होती है। इसका उपयोग करने से आपके स्मार्टफोन में ज्यादा बिजली की बर्बाद नहीं होगी।

6. PC पर आसानी से पहुंचा जा सकता है।

कंप्यूटर पर SD Card तक पहुंचना बहुत आसान है। आप पहले Card Reader को लें। फिर कार्ड को रीडर में डालें और रीडर को PC के USB Port में प्लग करें।

7. Non Volatile Memory Card 

मेमोरी कार्ड Non Volatile Memory Card का उपयोग करता है जो कार्ड पर डेटा को स्थिर रख सकता है। मेमोरी कार्ड के डाटा को बिजली के आने जाने से कोई खतरा नहीं है।

मेमोरी कार्ड के नुकसान

  • अन्य स्टोरेज मीडिया की तरह मेमोरी कार्ड भी आसानी से टूट सकता है।
  • मेमोरी कार्डके अलग-अलग ब्रांड है। यदि आप सस्ते दाम का SD Card खरीदते हैं और स्मार्टफोन पर इसका इस्तेमाल करते हैं तो आपका फोन खराब हो सकता है। उदाहरण के लिए इससे Apps बहुत धीमी गति से चलने लगते हैं।
  • मेमोरी कार्ड कम लागत में अधिक स्टोरेज प्रदान करता है। फिर भी इसकी गति फोन के Internal Memory के समान नहीं हो सकती। इसलिए SD Card डेटा को Access करते समय थोड़ा धीमा हो सकता है।

क्या हम Micro SD Card को Standard SD Card के Slot में प्लग कर सकते हैं?

SD Card केवल Matching Slot में फिट होते हैं।

आप Micro SD Card को Standard SD Card के Slot में प्लग नहीं कर सकते है। हालांकि आप Adapter खरीद सकते हैं जो आपको एक छोटे मेमोरी कार्ड को एक बड़े मेमोरी कार्ड के रूप में प्लग करने और स्लॉट में फिट करने की अनुमति देता है।

मेमोरी कार्ड से कंप्यूटर में डाटा ट्रांसफर करने के लिए क्या करना चाहिए?

यदि आपका कंप्यूटर मेमोरी कार्ड से लैस है तो आप SD Memory Card डालकर डाटा ट्रांसफर कर सकते हैं लेकिन यदि आपके कंप्यूटर में SD Slot नहीं है तो आप USB Read/Write या कंप्यूटर का Adapter का उपयोग कर सकते हैं।

आशा है मेमोरी कार्ड की जानकारी आपको पसंद आयी होगी।

मेमोरी कार्ड से सम्बन्धित किसी भी प्रश्न के लिए Comment करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.