पर्सनल कंप्यूटर क्या है इसके प्रकार, घटक और उपयोग

पर्सनल कंप्यूटर

इस पेज पर हम कंप्यूटर के महत्पूर्ण टॉपिक पर्सनल कंप्यूटर की जानकारी को समझेंगे।

पिछले पेज पर हम सुपर कंप्यूटर की जानकारी को शेयर कर चुके है उसे जरूर पढ़े।

पर्सनल कंप्यूटर क्या है

PC एक प्रकार का कंप्यूटर है जिसका पूरा नाम पर्सनल कंप्यूटर होता है। इसे एकल उपयोगकर्ता मतलब एक व्यक्ति द्वारा उपयोग किए जाने वाले कंप्यूटर और एक डेस्कटॉप कंप्यूटर के रूप में जाना जाता है।

सभी पर्सनल कंप्यूटर Micro Processor तकनीक पर निर्भर करते हैं। जो PC को बनाने वालो के लिए एक ही चीज पर पूरे CPU को सेट करने में सक्षम बनाता है।

आमतौर पर एक पीसी में एक कीबोर्ड, माउस मॉनिटर और सिस्टम यूनिट होता है। अधिकांश पर्सनल कंप्यूटर में नेटवर्क या इंटरनेट कनेक्शन होता है। जिसमें बाहरी हार्ड ड्राइव, स्कैनर, प्रिंटर, डिजिटल कैमरा आदि जैसे मशीन को जोड़ने के लिए पोर्ट भी होता है।

इतिहास

पर्सनल कंप्यूटर उद्योग के लिए 1981 की सबसे महत्वपूर्ण घटना IBM PC की शुरुआत 12 अगस्त को हुई थी। इस कंप्यूटर ने 8-bit कंट्रोल यूनिट (इंटेल 8088) पर 16-bit CPU चलाया, जिसमें 5 बड़े स्लॉट थे। कम से कम 16 KB RAM  शामिल था और इसमें 2 पूर्ण-ऊंचाई 5.25 ड्राइव भी थे।

पर्सनल कंप्यूटर (PC) से पहले कंप्यूटर बड़े कम्पनियों के लिए डिजाइन किए गए थे। जिन्होंने कई उपयोग करने वालों के लिए पतले टर्मिनल को एक ही बड़े कंप्यूटर से जोड़ा था।

जिनके संसाधनों को सभी उपयोगकर्ताओं के बीच शेयर किया गया था। पर्सनल कंप्यूटर के आने से टर्मिनल की गणना की परंपरा टूट गई।

1980 के दशक के अंत तक Technology के विकास ने एक छोटे से कंप्यूटर का निर्माण करने के लिए संभव बना दिया, जिसे एक व्यक्ति खुद के लिए उपयोग कर सकता था।

कंप्यूटर इतिहास के अनुसार पहला पर्सनल कंप्यूटर 1971 में लांच Kenbak-1 था। जिसमें 256 बाइट्स मेमोरी था और Scientific American ने $750 के लिए एड दिया था हालांकि इसमें सीपीयू नहीं था और यह अन्य सिस्टम की तरह शिक्षा के उपयोग के लिए डिजाइन किया गया था।

PC के घटक

आमतौर पर पर्सनल कंप्यूटर के विभिन्न भाग होते हैं जो इस प्रकार है।

  1. Computer Case
  2. Motherboard
  3. CD/DVD Drive
  4. Random Access Memory
  5. Hard Disk
  6. Keyboard
  7. Printer
  8. Visual Display
  9. Pointing Device
  10. Charging Port

पर्सनल कंप्यूटर के प्रकार

पर्सनल कंप्यूटर के कई प्रकार होते हैं मुख्य रूप से उनके आकार पर आधारित प्रकार नीचे दिए जा रहे हैं।

1. डेस्कटॉप

एक डेस्कटॉप कंप्यूटर को एक डेस्क पर उपयोग करने के लिए डिजाइन किया गया है। हम इसे एक स्थान से दूसरे स्थान तक आसानी से नहीं ले जा सकते हैं।

इसमें एक बड़ा बॉक्स होता है जिसे सिस्टम यूनिट कहा जाता है। जिसमें अधिकांश आवश्यक Components होते हैं।

मॉनिटर, कीबोर्ड और माउस सभी का उपयोग कर केबल (या कुछ मामलों में वायरलेस तकनीक का उपयोग करके) में प्लग कर सकते है।

2. नोटबुक

एक नोटबुक जैसा कि इसके नाम का मतलब है एक पोर्टेबल कंप्यूटर। जिसे ले जाने और डाटा स्टोर करने के लिए नोटबुक की तरह मोरने के लिए डिजाइन किया गया है।

एक नोटबुक डेस्कटॉप कंप्यूटर के समान अधिकतर सॉफ्टवेयर चला सकता है और इसका प्रदर्शन भी डेस्कटॉप कंप्यूटर के समान होता है।

कुछ लोग इसे लैपटॉप भी कहते हैं। नोटबुक पर्सनल कंप्यूटर को कहीं भी ले जाने में आसानी होती है।

3. टैबलेट

टैबलेट एक पोर्टेबल कंप्यूटर है जिसमें एक टच सेंसेटिव स्क्रीन होती है। जो एक छोटे कंप्यूटर के साथ टेबलेट साइज के प्लास्टिक फ्रेम पर लगा होता है। इसमें कोई कीबोर्ड या पॉइंट डिवाइस नहीं होता है।

कीबोर्ड की जरूरत पड़ने पर On Screen Keyboard Pop-up हो जाता है। टैबलेट बेहद पोर्टेबल और सुविधा वाला है लेकिन इसमें एक लिमिट के अंदर ही मेमोरी और स्टोरेज की क्षमता होती है।

4. स्मार्टफोन

स्मार्टफोन एक मोबाइल फोन है। जो अलग अलग एप्लीकेशन चला सकता है और जिस में इंटरनेट की क्षमता होती है। स्मार्टफोन में आमतौर पर टच सेंसिटिव स्क्रीन होती है।

5. वर्कस्टेशन कंप्यूटर

वर्कस्टेशन कंप्यूटर को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि इसे एक समय पर एक ही व्यक्ति कंट्रोल कर सकता है लेकिन इसकी कार्य करने की क्षमता काफी अधिक होती है।

इस तरह के कंप्यूटर को गणितीय या वैज्ञानिक के रिसर्च के लिए डिजाइन किया गया है। यह High Performance देने वाला कंप्यूटर है।

यह कंप्यूटर अधिकतर Local Area Network से जुड़े होते हैं। यह कंप्यूटर अकेले कई सारे नेटवर्क सिस्टम को कंट्रोल करते हैं।

6. अल्ट्रा मोबाइल पर्सनल कंप्यूटर

अल्ट्रा मोबाइल पर्सनल कंप्यूटर टेबलेट कंप्यूटर का एक छोटा वर्जन है। इस तरह के कंप्यूटर को अधिकतर माइक्रोसॉफ्ट, इंटेल और सैमसंग कंपनी के द्वारा बनाया जाता है।

वर्तमान समय में Windows XP, Windows VISTA, Windows 7 या Linux Operating System और Low Voltage INTEL Atom का इस्तेमाल अल्ट्रा मोबाइल पीसी के रूप में किया जाता है।

7. पॉकेट पर्सनल कंप्यूटर

माइक्रोसॉफ्ट कंपनी ने हाल ही में एक नया हार्डवेयर डिजाइन बनाया है जिसका इस्तेमाल कंप्यूटिंग के लिए किया जाता है।

पॉकेट पर्सनल कंप्यूटर एक छोटे साइज का हैंडहेल्ड डिवाइस है। यह पॉकेट पीसी रन करने के लिए Windows Mobile Operating System का इस्तेमाल करता है।

पर्सनल कंप्यूटर के उपयोग

Personal Computer की डाटा प्रोसेसिंग क्षमताओं ने उनके उपयोग को बढ़ाया है।

आजकल पर्सनल कंप्यूटर के उपयोगकर्ता को Operative Environment तथा Application Programs की अच्छी जानकारी हो सकती है।

परन्तु यह आवश्यक नहीं है कि वह प्रोग्रामिंग में रुचि रखता हो तथा कंप्यूटर के प्रोग्राम को लिखने में Capable हो, अतः पर्सनल कंप्यूटर के लिए अधिकतर सॉफ्टवेयर इसके प्रयोग को आसान तथा यूजर फ्रेंडली होने को ध्यान में रखकर ही लिखे जाते हैं।

किंतु सॉफ्टवेयर कंपनी हमेशा पर्सनल कंप्यूटर के नए उत्पादों को बडी संख्या में देता रहा है। कम शब्दों में Personal Computer के प्रयोग में निम्नलिखित बिंदुओं को दिया गया है।

1. पर्सनल कंप्यूटर का उपयोग Spreadsheet बनाने, पेपर लिखने, गेम खेलने के लिए किया जाता है।

2. इसका उपयोग हमारे फाइनेंस को ट्रैक करने, अकाउंट चलाने, डेटाबेस चलाने और कई अन्य कार्यों के लिए भी किया जाता है।

3. घर पर इसका व बड़े पैमाने पर गेम खेलने, मल्टीमीडिया, मनोरंजन, इंटरनेट चलाने और बहुत कुछ के लिए उपयोग किया जाता है।

4. यदि आपका पीसी इंटरनेट से जुड़ा है तो आप इसका उपयोग तुरंत मैसेज के माध्यम से दोस्तों के साथ बातचीत करने व ब्राउज़ करने, ईमेल की जांच करना, डाटा या फ़ाइलों को डाउनलोड करने के लिए भी कर सकते हैं।

पर्सनल कंप्यूटर के लाभ

पर्सनल कंप्यूटर Personal और Bussiness दोनों तरीकों से व्यक्तियों के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

स्कूल के बच्चों से लेकर बड़े व्यक्तियों तक सभी के लिए पर्सनल कंप्यूटर के लाभ हैं।

पर्सनल कंप्यूटर की तकनीक आपके पैसे, समय और कई अन्य तरीकों की बचत करके आप को अलग-अलग फायदे देती है।

1. शिक्षा

एक पर्सनल कंप्यूटर का उपयोग स्कूल या कॉलेज, काम और घर में शिक्षा के उद्देश्य के लिए किया जा सकता है। स्कूल में छात्रों के Attendence बनाने के लिए एक पर्सनल कंप्यूटर का उपयोग किया जा सकता है।

 साथ ही एक Teacher पर्सनल कंप्यूटर का उपयोग विषयों के बारे में जानने के लिए कर सकता है यदि उसके पास उस विषय में अधिक ज्ञान नहीं है जिससे वह कक्षा में पढ़ाने जा रहा है ।

इसका उपयोग क्लास में क्विज खेलने और सॉफ्टवेयर प्रोग्राम की सहायता से अन्य संस्कृतियों के बारे में जानने के लिए किया जा सकता है।

अपने Presentation और Workplace में नई प्रक्रियाओं को बेहतर बनाने के लिए, नए Skill सीखने के लिए पर्सनल कंप्यूटर का उपयोग किया जा सकता है।

घर पर इसका उपयोग छात्रों या अन्य लोगों द्वारा कंप्यूटर पर एक सॉफ्टवेयर प्रोग्राम का उपयोग करके गणित, व्याकरण और भी पढ़ने जैसे विषयों को सीखने के लिए किया जा सकता है।

2. मनोरंजन

मनोरंजन के लिए भी पर्सनल कंप्यूटर का उपयोग किया जाता है। कंप्यूटर पर आप अन्य लोगों के साथ सॉफ्टवेयर प्रोग्राम के माध्यम से गेम खेल सकते हैं भले ही वह हजारों मील दूर हो।

इसके अतिरिक्त यदि कोई किसी के साथ गेम नहीं खेलना चाहता तो यह उपयोग करने वालों को पर्सनल कंप्यूटर पर Single Player Game का उपयोग करने का Option प्रदान करता है।

 यह आपको किसी भी समय फिल्म और टेलीविजन शो देखने की Permission देता है लेकिन आपको इन्हे डाउनलोड करना होगा।

आप अपने पर्सनल कंप्यूटर को इंटरनेट या नेटवर्क से कनेक्ट करके ऑनलाइन वीडियो भी देख सकते हैं। इस तरह आप अपने शरीर को उसी के अनुसार Manage कर सकते हैं बजाय इसके कि टेलीविजन शो आपके लिए इसे Control करें।

3. संचार

एक पर्सनल कंप्यूटर दूसरों के साथ संचार के लिए कई विकल्प देता है। जैसे कि आप इंटरनेट पर कॉल करने के लिए अपने कंप्यूटर का उपयोग कर सकते हैं और एक अलग टेलीफोन की आवश्यकता नहीं है।

एक पर्सनल कंप्यूटर का उपयोग न केवल काम के लिए किया जाता है बल्कि निजी जीवन के लिए शेड्यूल को साझा करने के लिए भी किया जा सकता है।

इसका उपयोग कर्मचारियों द्वारा फाइल्स को शेयर करने और Plans के बारे में नोट्स छोड़ने में मदद करता है।

इसके अलावा यह कंप्यूटर ईमेल और Instant Messaging पर Communicate कर के फोन पर समाज की निर्भरता को कम करने में मदद करता है। 

कंप्यूटर पर इंसानों के साथ-साथ मशीनों के बीच भी Communication संभव है। उदाहरण के लिए जब आप अपने घर से बाहर हो तो आप अपनी लाइट बंद कर सकते हैं।

साथ ही आप अपने DVR को मूवी रिकॉर्ड करने के लिए सेट कर सकते हैं यदि वायरलेस इंटरनेट कनेक्शन के माध्यम से अपने कंप्यूटर से जुड़ा है।

4. जानकारी

एक पर्सनल कंप्यूटर इंटरनेट से कनेक्ट करके लोगों को लगातार अपनी उंगलियों पर जानकारी रखने में मदद करता है। कंप्यूटर का उपयोग करने वाला ब्राउज़र के Searchbar में कोई भी वेबसाइट या URL टाइप कर सकता है और कुछ ही सेकंड में इस साइट पर जा सकता है।

ऑनलाइन रहने वालो के लिए विशेष पुस्तकें और Application है। जो विशेष प्रकार की जानकारी प्रदान करने के लिए डिजाइन किए गए हैं।

इसके अलावा आप ऑफलाइन प्लेस्टेशन गेम्स या डिजिटल Incyclopedia सॉफ्टवेयर का उपयोग कर सकते हैं।

पर्सनल कंप्यूटर के नुकसान

1. शरीर पर बुरा असर

कंप्यूटर का बार-बार उपयोग करने से कई तरह की शरीर से जुड़ी परेशानियां भी हो सकती है।
जैसे : पीठ दर्द, कलाई में दर्द और तनाव, सिरदर्द।

लैपटॉप उपयोग करने वालों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है क्योंकि उन्हें स्क्रीन को ठीक से देखने के लिए अपनी पीठ को मोड़ने की आवश्यकता होती है।

यह उन लोगों के लिए भी हानिकारक हो सकता है जो पूरे दिन कंप्यूटर का उपयोग करते हैं क्योंकि वह मांसपेशियों, तनाव, आंखों और Carpal Tunnel Syndrome से ग्रसित हो सकते हैं।

इसके अलावा एक पर्सनल कंप्यूटर के साथ लोगों को पूरे दिन बैठने की आवश्यकता होती है जो कि अधिक हानिकारक होता है।

2. इंटरनेट की लत

एक व्यक्ति जिसे इंटरनेट की गहरी लत है। उसमें ऑनलाइन गेमिंग, साइबर रिश्ते, ऑनलाइन जुआ आदि की लत भी शामिल हो सकते हैं। इंटरनेट की लत लोग अपने दैनिक जीवन में अकेलापन, तनाव या डिप्रेशन से बचने के लिए इंटरनेट का उपयोग कर सकते हैं। 

हालांकि एक सीमा के भीतर इंटरनेट का उपयोग स्वस्थ और सामान्य है लेकिन जिन लोगों को इंटरनेट की लत है उन्हें हमेशा लगता है कि उन्हें इंटरनेट पर हमेशा रहना चाहिए।

यह अक्सर काम को प्रभावित करता है और छात्रों के स्कूल के Presentation को कम करता है।

ग्रीन पर्सनल कंप्यूटर क्या है?

ग्रीन पर्सनल कंप्यूटर Sleep Mode का समर्थन करता है और सामान्य पर्सनल कंप्यूटर की तुलना में कम बिजली खर्च करता है।

इसे ग्रीन कंप्यूटर के रूप में भी जाना जाता है और यह पर्सनल कंप्यूटर चालू नहीं होने पर भी बिना आवश्यकता वाले Components को बंद कर देता है।

कई Organization के लिए ग्रीन पीसी की तैनाती एक मुख्य फोकस बन गया है। यह कंपनियों और व्यवसाय को Carbon Footprint और बिजली खपत को कम करने में मदद करता है।

इसमें चल रहे कोशिशों ने ऊर्जा के लिए उपयोग को कम करने और लोगो में जागरूकता को बढ़ाने में मदद की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.