लैपटॉप

Table Of Contents

Latest Technology में Development होने के कारण लैपटॉप ने हमारी लाइफ को बहुत ही Improve कर दिया है और अभी के Generation के लोग इस टेक्नोलॉजी का भरपूर फायदा उठा रहे हैं।

आज के समय में इंसान पूरी तरह से टेक्नोलॉजी पर निर्भर है और अपने सभी काम इन्हीं latest Available Machines और Gadgets से करता है।

डेस्कटॉप कंप्यूटर आजकल पुरानी बात हो गई है क्योंकि उन्हें एक ही जगह पर रखा जा सकता है और उन्हें किसी दूसरे जगह पर ले जाना थोड़ा कठिन होता है। इसी समस्या का हल करने के लिए लैपटॉप का आविष्कार किया गया है।

लैपटॉप क्या है

लैपटॉप एक प्रकार का कंप्यूटर है जिसे हम नोटबुक कंप्यूटर भी कहते हैं। यह एक Battery या AC-Powered Personal Computer होता है जो कि सामान्य तौर पर छोटे साइज का होता है। (एक Briefcase से भी छोटा) 

कंप्यूटर की तुलना में यह एक छोटा पोर्टेबल डिवाइस है इसलिए इसे पोर्टेबल कंप्यूटर भी कहा जा सकता है।

इसका नाम इस आधार पर रखा गया है की इसे रखने के लिए किसी डेस्क या अन्य जगह की आवश्यकता के बिना गोद में ही रखकर आराम से इसका इस्तेमाल किया जा सके।

लैपटॉप डेस्कटॉप पीसी की तुलना में छोटे, पतले और हल्के होते हैं। लैपटॉप को पावर और बैटरी पावर दोनों से चलाया जा सकता है। Direct Electricity ना होने पर यह कंप्यूटर Power Backup पर आसानी से काम करता है।

लैपटॉप के अंदर में एक Battery Section होता है जो बैटरी को चार्ज करने और लैपटॉप को बैकअप देने का कार्य करता है।

लैपटॉप का आकार

जैसा कि हमने बताया लैपटॉप डेस्कटॉप कंप्यूटर से छोटा होता है और इसका वजन भी डेस्कटॉप कंप्यूटर से कम होता है।

लैपटॉप स्क्रीन का आकार अक्सर 10 से 17 इंच तक होता है। इसका वजन 3 किलो से भी कम होता है। इसकी मोटाई 2 से 3 इंच तक होती है।

वैसे अब तो इसकी आकार और मोटाई में भी काफी कमी आने लगी है। अब तो मार्केट में बहुत से लैपटॉप कंप्यूटर के Manufacturers आ गए हैं जैसे कि IBM, Apple, Dell, Compaq, Toshiba, Acer, ASUS इत्यादि।

लैपटॉप में जो Display का इस्तेमाल होता है वह Thin Screen Technology का इस्तेमाल करता है। यह Thin Film Transistor या Active Matrix Screen बहुत ही Brighter होते हैं और इसकी Views भी अलग अलग Angle से बेहतर होती है।

लैपटॉप का इतिहास

IBM 5100 पहला पोर्टेबल कंप्यूटर है जिसे सितंबर 1975 में जारी किया गया था। इस कंप्यूटर का वजन 55 पाउंड था और इसमें 5 इंच का CRT Display, टेप ड्राइव 1.9 Megahertz का पाम प्रोसेसर और 64 KB रैम था।

सही मायने में पहला पोर्टेबल कंप्यूटर या लैपटॉप Osbern को माना जाता है। इसे अप्रैल 1981 में जारी किया गया था और एडम ओसबोर्न द्वारा बनाया गया था।

इसका वजन 24.5 पाउंड था, इसका डिस्प्ले 5 इंच का, मेमोरी 64 KB का, दो 5 ¼ फ्लॉपी ड्राइव, CP/M 2.2 Operating System और एक Modem भी शामिल था। इसकी कीमत $1795 थी।

बाद में 1984 में lBM PCD ने IBM पोर्टेबल जारी किया। यह पहला कंप्यूटर था जिसका वजन 30 पाउंड था।

बाद में 1986 में IBM PCD ने अपने पहले लैपटॉप कंप्यूटर PC Convertible की घोषणा की। इसका वजन 12 पाउंड था।

लैपटॉप के कार्य

लैपटॉप एक कंप्यूटर के सभी इनपुट और आउटपुट Components को जोड़ता है। जिसमें डिस्प्ले स्क्रीन, छोटे स्पीकर, एक कीबोर्ड, डाटा स्टोरेज डिवाइस, कभी-कभी एक ऑप्टिकल डिस्क ड्राइव, प्वाइंटिंग डिवाइस (जैसे टचपॉइंट या प्वाइंटिग स्टिक) भी शामिल है।

अधिकांश लैपटॉप रोजमर्रा के व्यावसायिक, प्रशासनिक, घरेलू और स्कूलों के लिए उपयोग में लाए जाते हैं। लेकिन हम इससे अन्य कार्य भी कर सकते हैं।

इनमें एक स्क्रीन कीबोर्ड, एक ट्रैकपैड या ट्रैकबॉल शामिल है जो माउस के रूप में कार्य करता है।

लैपटॉप के प्रकार

यहां हम आपको लैपटॉप के प्रकार के बारे में बता रहे हैं जो निम्नलिखित है।

  1. Traditional laptop
  2. Rugged laptop
  3. Business laptop
  4. Notebook
  5. Convertible or hybrid
  6. Desktop replacement

लैपटॉप के लाभ

लैपटॉप के आकार में छोटे होने की वजह से इसके बहुत फायदे हैं जो हम आपको बता रहे हैं।

1. छोटा आकार

 बाकी कंप्यूटर के मुकाबले लैपटॉप का आकार छोटा होता है जिसके कारण यह पोर्टेबल होते हैं और आसानी से कहीं भी ले जाए जा सकते हैं।

लैपटॉप में आप अपना काम कहीं भी बैठकर आसानी से कर सकते हैं इसे रखने के लिए किसी की विशेष स्थान की आवश्यकता नहीं होती है।

2. चार्ज करने वाली बैटरी

लैपटॉप की Power Supply के लिए Chargeable Battery का इस्तेमाल किया जाता है। एक बार बैटरी चार्ज हो जाए तो आप इसे कहीं भी ले जाकर इस्तेमाल कर सकते हैं। तब आपको बिजली की आवश्यकता नहीं होती है।

3. बिजली का कम खर्च

कंप्यूटर की तुलना में लैपटॉप में बहुत कम बिजली खर्च होती है। ज्यादातर लैपटॉप 10 वाट से 20 वाट पर चलते है इसके मुकाबले कंप्यूटर में 100 वाट से 800 वाट तक बिजली खर्च होती है।

4. Long Battery Life

लैपटॉप की बहुत ही लॉन्ग बैटरी लाइफ होती है एक Normal लैपटॉप की बैटरी लाइफ 3 घंटे तक की होती है।

5. कोई कीबोर्ड या माउस की जरूरत नहीं होती है।

चुकी इस में पहले से ही कीबोर्ड बना हुआ होता है जिसमें आप माउस का काम भी कर सकते हैं। इसके लिए आपको बाहर से कोई भी कीबोर्ड या माउस लगाने की जरूरत नहीं होती है।

6. Internal Speakers

इनमें इंटरनल स्पीकर्स भी होते हैं जिससे आपको कहीं भी External Speakers ले जाने की जरूरत नहीं होती है।

7. Wi fi और Bluetooth

लैपटॉप में वाईफाई और ब्लूटूथ की भी सुविधा होती है जिससे आप कहीं भी इंटरनेट का इस्तेमाल कर सकते हैं और फाइल्स को भी एक डिवाइस से दूसरी डिवाइस में Transfer कर सकते हैं।

8. इसमें Integrated Webcam होते है।

Desktop में यूजर्स को External Webcam की जरूरत होती है लेकिन लैपटॉप में पहले से ही Integrated Webcam होते हैं। इसलिए हमें एक्सटर्नल कैमरे की जरूरत नहीं होती है। हम इससे आसानी से वीडियो कॉल भी कर सकते हैं।

9. Low Power की जरूरत होती है।

यदि हम डेस्कटॉप कंप्यूटर्स के साथ इसकी तुलना करें तो लैपटॉप में कम पावर की जरूरत होती है। इससे आपकी Electricity Bill भी कम आएगी।

10. All in One Device

लैपटॉप को All in One Device इसलिए कहते हैं क्योंकि सभी कंपोनेंट्स इस एक ही डिवाइस में लगे रहते हैं। इसीलिए चाहे कोई भी काम हो एजुकेशन, मूवी, गेम या पिक्चर्स हम सारे काम लैपटॉप से ही कर सकते है।

आप सभी चीजों के लिए लैपटॉप का इस्तेमाल कर सकते हैं। लैपटॉप को एक Entertaining Gadget के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है।

लैपटॉप के नुकसान

1. काफी महंगे होते हैं।

लैपटॉप की कीमत की बात करें तो यह डेस्कटॉप कंप्यूटर की तुलना में काफी महंगा होता है। इसलिए एक आम आदमी के लिए लैपटॉप खरीदना थोड़ा मुश्किल हो सकता है।

2. यह जल्दी खराब हो सकते हैं।

लैपटॉप Desktop की तुलना में जल्दी खराब हो सकते हैं। वजन में हल्के होने के कारण इनके हाथ से गिरने की संभावना ज्यादा होती है। यदि लैपटॉप की कोई गीला पदार्थ जैसे चाय या पानी गिर जाए तो इसके खराब होने की संभावना अधिक हो जाती है।

3. यह हमारे स्वास्थ्य के लिए भी सही नहीं है।

जब बात हमारे स्वास्थ्य की आती है तो सभी चीज बाद में आती है। लैपटॉप का ज्यादा इस्तेमाल करने से यह हमारे स्वास्थ्य पर खराब असर डालती हैं। जैसे इससे हमारे Eyesight, हाथ, पैर और Backbone इत्यादि पर बुरा असर पड़ता है।

4. इसे Repair करने में कठिनाई होती है।

जैसा कि इसमें सभी गैजेट्स Laptopके अंदर ही इंस्टॉल होती है इसलिए इसे तैयार करने में ज्यादा आसानी नहीं होती है। डेस्कटॉप कंप्यूटर की तुलना में इसके कंपोनेंट्स भी ज्यादा महंगे आते हैं।

इसके अलावा रिपेयरिंग में कठिनाई आने के कारण Computer Experts आपसे ज्यादा चार्ज भी ले सकते हैं।

5. इसे Customize करना मुश्किल होता है।

कंप्यूटर की तुलना में Laptop को Customize करना थोड़ा मुश्किल होता है। इसके लिए आपको Computer Engineer की जरूरत आती है जबकि डेस्कटॉप हो आप खुद से ही Customize कर सकते हैं।

6. यह Distraction का एक कारण बन सकते हैं।

अधिकतर यह देखा जाता है कि छात्र लैपटॉप का उपयोग पढ़ाई में कम और गेम खेलने, वीडियो देखने के लिए ज्यादा करते हैं। जिसकी वजह से उनकी पढ़ाई पर बुरा असर पड़ता है।

Laptop के Components

वैसे तो लैपटॉप के Components बहुत अधिक होते हैं लेकिन यहां पर हम इसके कुछ महत्वपूर्ण Components के बारे में ही जानेंगे:

1. Processor

यह Central Processing Unit लैपटॉप कंप्यूटर की Controlling Unit होती है। Processor के स्पीड को Gegahertz में मापा जाता है। Multi Core Processor में एक से ज्यादा कोर मौजूद होते हैं।

Speed Rating इन Processor को यह दिखाती है कि प्रत्येक कोर की स्पीड कितनी है। जितनी ज्यादा स्पीड होगी और जितने ज्यादा प्रॉसेसर मौजूद होंगे Laptop उतने ही जल्दी काम पूरे करेंगे।

2. Hard Drive

यह हार्ड ड्राइव किसी भी लैपटॉप कंप्यूटर का Memory Storage होता है। एक बड़ी साइज की Hard Drive यूजर्स को ज्यादा प्रोग्राम्स और बड़े प्रोग्राम्स इंस्टॉल करने के लिए Allow करती है।

आज के High Performance Laptop Computers में Hard Drive बहुत ही ज्यादा स्टोरेज स्पेस वाले होते हैं। जैसे : 2 terabyte, 4 terabyte hard drive इत्यादि।

3. System Memory

Random Access Memory एक बहुत ही मेन कंपोनेंट है जो Laptop को तेजी से चलाने में मदद करती है। ज्यादा RAM होने से एक कंप्यूटर एक समय में कई Programs को एक साथ रन कर सकता है।

4. Screen

Laptop की स्क्रीन में Thin Liquid Crystal Display का इस्तेमाल होता है। Laptop स्क्रीन की जितनी ज्यादा Native Resolution होगी उतने ही ज्यादा अच्छी पिक्चर्स भी होंगी।

5. Optical Drive

Laptop की ऑप्टिकल ड्राइव होती है जिसे CD या DVD Drive कहते है। यह हमारे Important Files और Data को Backup करने के लिए बहुत ही उपयोगी होते है।

कुछ Laptop में ऑप्टिकल ड्राइव नहीं भी होते हैं क्योंकि इस वजह से उस Laptop का Space और Weight दोनों ही बच जाता है। लेकिन आप ज्यादातर Laptop में इन Optical Drive को पाएंगे।

इसके कुछ अन्य भी घटक है जिन्हें हम नीचे दे रहे हैं –

  • Cooling fan
  • Mouse pad
  • Audio jack
  • Keypad
  • SD card port
  • Charging port

लैपटॉप बनाने करने वाली कंपनियां

  • Acer
  • Apple
  • HCL
  • Compaq
  • Toshiba
  • Dell
  • Lenovo
  • Hewlett Packard
  • Samsung
  • Sony

कुल मिलाकर लैपटॉप और डेस्कटॉप कंप्यूटर काफी हद तक एक जैसे हैं। अंतर यह है कि उनके कंपोनेंट्स किस प्रकार फिट होते हैं।

आशा है Laptop की यह जानकारी आपको पसंद आएगी।

लैपटॉप से संबंधित किसी भी प्रश्न के लिए कमेंट करे।

Exclusive Tips on Make Money
ईमेल के द्वारा हम पैसे कमाने की उपयोगी जानकारी शेयर करते है जिसको फॉलो करके आप आसानी से पैसे कमा पाएंगे।

Sending Message...


Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.