Processor

Processor क्या है और कितने प्रकार के होते है?

दोस्तों आज के Internet के युग में हम Computer या Laptop की मदद से जो चाहे जैसा भी चाहे Online काम कर सकते हैं। हमारा कंप्यूटर अथवा लैपटॉप बहुत सारी चीजों से मिलकर बना होता है जिसके कारण हमारे सभी काम आसान हो गए हैं।

हम जब कोई Computer अथवा Laptop खरीदते हैं तो सबसे पहले हमारे मन में यही सवाल आता है कि एक अच्छे Computer अथवा Laptop में क्या खूबियां होनी चाहिए और उसमें कितनी RAM, Hard Disk अथवा कैसा Processor होना चाहिए ताकि हमारे कंप्यूटर अच्छे से काम करें।

एक Computer अथवा Laptop बहुत सारी चीजों जैसे कि Motherboard, Hardware, Software, CPU आदि से मिलकर बना हुआ होता है यह सभी चीजें कंप्यूटर के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है और इन्हीं में से एक महत्वपूर्ण चीज कंप्यूटर का Processor है क्योंकि यही कंप्यूटर के सारे कामों को Handle करता है। अगर आपके कंप्यूटर में एक अच्छा processor है तो आपका कंप्यूटर तेजी से सभी काम करेगा।

आजकल आने वाले ज्यादातर कंप्यूटर अथवा लैपटॉप में Intel Pantium processor ,i3 processor, i5 processor अथवा i7 processor आ रहा है जिनके दाम भी अलग-अलग होते हैं।

Processor क्या होता है?

यह बहुत ही Useful Microchip होती है, जो कि CPU के साथ Motherboard में लगी रहती है तथा इसके साथ-साथ Computer से जुड़े हुए और भी कंपोनेंट अटैच रहते हैं। यह सभी कंपोनेंट कंप्यूटर को नियंत्रित और हैंडल करते हैं।

कंप्यूटर का Processor एक प्रकार का विशेष Electrical Chip होता है जिसे हमारे मोबाइल फोन, लैपटॉप और टेबलेट में इस्तेमाल किया जाता है।

कंप्यूटर के प्रोसेसर का काम कंप्यूटर के उपयोगकर्ता और कंप्यूटर के बीच होने वाली बातचीत या कार्य को समझना होता है और उसका अनुसरण करना होता है।

इसी के कारण Processor User के द्वारा कंप्यूटर में दी गई Input Command को अच्छे से जानता है और साथ ही साथ input Command पर अमल करके हमारे कंप्यूटर की Screen पर आउटपुट डिवाइस के जरिए Result देता है।आपकी जानकारी के लिए बता दें कि प्रोसेसर की स्पीड को गीगाहर्ट्ज में नापा जाता है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि Computer का प्रोसेसर जितने ज्यादा Core का होगा, उतना जल्दी ही हमारे द्वारा दिए इनपुट को आपका कंप्यूटर Output process करके आपको रिजल्ट दिखाएगा।

अगर आपके पास Single Core processor Computer है तो वह Heavy Task तथा अच्छी Quality का Output नहीं दे पाएगा अर्थात वह Hang होने लगेगा।

इसलिए आजकल जितने भी स्मार्टफोन, कंप्यूटर या लैपटॉप आ रहे हैं उसमें Latest Processor का इस्तेमाल हो रहा है। प्रोसेसर के अन्य नाम भी है जैसे central processor, microprocessor।

कंप्यूटर में होने वाली सभी प्रकार की गतिविधि पर प्रोसेसर का नियंत्रण होता है।कंप्यूटर के प्रोसेसर का निर्माण सिलिकॉन धातु से किया जाता है। प्रोसेसर के नीचे हजारों ट्रांजिस्टर लगे हुए होते हैं।

यह बहुत ही नाजुक चीज होती है इसलिए इसमें सॉकेट लगाते वक्त बहुत ही सावधानी रखनी पड़ती है तथा प्रोसेसर ज्यादा गर्म ना हो इसके लिए कूलिंग फैन भी लगाया जाता है।

History of processor in Hindi

Baron Jons Jakob Berzelius एक स्वीडीस रसायनशास्त्री थे। इन्होंने ही सबसे पहले साल 1823 में सिलिकॉन की खोज की थी। सिलिकॉन का इस्तेमाल प्रोसेसर बनाने के लिए किया जाता है।

15 नवंबर 1971 को इंटेल कंपनी ने अपना पहला माइक्रो प्रोसेसर बाजार में लांच किया था। इंटेल कंपनी ने अपने उस प्रोसेसर का नाम इंटेल 4004 रखा था।इसमें कुल मिलाकर 2300 ट्रांजिस्टर लगे हुए थे, जो कि 1 सेकंड में लगभग 60,000 ऑपरेशन को परफॉर्म कर सकते थे।

Processor के नाम

  • AMD Sempron
  • AMD Athlon 64 X2 Dual-Core
  • Intel Celeron D
  • Intel Pentium 4
  • Intel Pentium 3 (Pentium III)

Processor कैसे काम करता है?

प्रोसेसर का मुख्य काम Execute करना है जो चार चरणों में काम करता है।

  • Processor Program Counter को यह देखने के लिए चेक करता है कि अगली बार कौन सा instruction चलाना है।
  • Program Counter एक मेमोरी वैल्यू को Fetch करता है जहां आने वाले अगले दिशानिर्देश होते हैं।
  • इसके बाद Processor इस मेमोरी लोकेशन से इंस्ट्रक्शन वैल्यू को लाता है।
  • जब एक बार इंस्ट्रक्शन Fetch हो जाता है उसके बाद इसे Decode और Execute किया जाता है।
  • जब यह एक बार पूरा हो जाता है तब Processor अगले दिशानिर्देश को खोजने के लिए वापस से Program Counter पर चला जाता है।
  • यह प्रक्रिया प्रोग्राम समाप्त होने तक चलती रहती है।

Processor में Core क्या होता है?

हम जब भी बाजार अथवा Online कोई नया लैपटॉप अथवा कंप्यूटर खरीदते हैं तो अक्सर हमें यह सुनने को मिलता है कि यह लैपटॉप अथवा कंप्यूटर Single Core, Dual Core, Quod Core, hexa core,octa core,deca Core का है लेकिन आखिर ये Core होता क्या है आप शायद इसके बारे में नहीं जानते होंगे।

Core Processor में लगा हुआ एक Part होता है। यह किसी भी काम को परफॉर्म करने के लिए task करता है। तो इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि जितने ज्यादा Core होंगे आपका प्रोसेसर उतना ज्यादा ही Multitasking बिना किसी रूकावट के कर पाएगा।

बाजार में available प्रोसेसर और उनमे लगे core के नाम

  • Single core – 1 कोर
  • Dual core – 2 कोर
  • Quad core – 4 कोर
  • Hexa core – 6 कोर
  • Octa core – 8 कोर
  • Deca core – 10 कोर

Processor में Clock Speed क्या है?

आपने कई बार देखा होगा कि जब हम दुकान पर कोई लैपटॉप खरीदने जाते हैं तब वह हमसे कहता है कि यह लैपटॉप 2.4 GHz processor का है और यह लैपटॉप 3.4 GHz प्रोसेसर का है और हम यह मान लेते हैं कि 3.4 GHz का processor 2.4 GHz से ज्यादा तेज होगा. लेकिन ये clock Speed है क्या?

दोस्तों आपकी जानकारी के लिए बता दे कि हमारे कंप्यूटर में बहुत सारे सर्किट होते हैं जिन्हें कोई काम करने के लिए बहुत बार On और Off होना पड़ता है। इसी के अंतर्गत प्रोसेसर में सर्किट के स्विच कितनी बार ऑन और ऑफ हुए इसे clock Speed में नापा जाता है।

Computer Processor की Generation को कैसे पहचानें?

computer processor की Generation को आप प्रोसेसर के मॉडल से ही आसानी से पहचान सकते हैं। प्रोसेसर खरीदने के लिए उसकी जनरेशन का ध्यान रखना बहुत ही जरूरी होता है।

अगर किसी प्रोसेसर के ऊपर i7 और उसके बाद 7000,6000 लिखा है तो इसका मतलब यह है कि यह सेवंथ जेनरेशन का प्रोसेसर है और 7000,6000 इसका मॉडल नंबर है। वहीं अगर किसी प्रोसेसर के ऊपर i6 लिखा है तो इसका मतलब है कि यह छठे जनरेशन का प्रोसेसर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *