सह अभाज्य संख्या

दो या दो से अधिक संख्याओं के बीच यदि अधिकतम उभयनिष्ठ 1 हो तो वे संख्याएँ सह अभाज्य संख्या कहलाती है।

दूसरे शब्दों में – कम से कम 2 अभाज्य संख्याओ का ऐसा समूह जिसका महत्तम समापवर्तक (HCF) 1 हो।

उदाहरण :

(2, 3), (3, 4), (5, 6), (14, 15),………….

सह अभाज्य संख्याओं को हम इस प्रकार भी समझ सकते हैं –

जैसे :

(2, 3)
2 × 1 = 2
3 × 1 = 3

(3, 4)
3 × 1 = 3
4 × 1 = 4

(5, 6)
5 × 1 = 5
6 × 1 = 6

गुणनखण्ड में आप देख सकते हैं कि सभी में उभयनिष्ठ 1 प्राप्त होता हैं अर्थात यह सह अभाज्य संख्याएँ हैं।

(14, 15)

14 के भाजक : 1, 2, 7, 14
15 के भाजक : 1, 3, 5, 15

14 तथा 15 के गुणनखंड में 1 के अतिरिक्त कोई भी संख्या उभयनिष्ठ नहीं है। अतः 14 तथा 15 में उभयनिष्ठ गुणनखंड केवल 1 हैं। अतः 14 तथा 15 सह अभाज्य संख्याएँ हैं।

सह अभाज्य संख्या को अंग्रेजी में “Co-Prime Number” बोलते हैं।

Note :

  • सह अभाज्य संख्याओं में दोनों संख्याएं अभाज्य हो ऐसा जरुरी नहीं हैं।
  • 2 भाज्य संख्याएं भी सह अभाज्य संख्याएं हो सकती हैं।
  • जैसे : 8 तथा 15 यहां दोनों संख्याएं ही भाज्य हैं।
  • 8 तथा 15 में उभयनिष्ठ गुणनखंड में केवल 1 आता है अतः यह दोनों संख्याएं भी सह अभाज्य संख्याएं हैं।
  • सह अभाज्य संख्याओं में दोनों संख्याएँ अथवा एक संख्या अभाज्य हो ऐसा होना आवश्यक नहीं हैं।

जरूर पढ़िए : संख्या पद्धति

उम्मीद हैं आपको सह अभाज्य संख्याओं की जानकारी पसंद आयी होगीं।

सह अभाज्य संख्याओं से संबंधित किसी भी प्रश्न के लिए कमेंट करें।

Exclusive Tips on Make Money
ईमेल के द्वारा हम पैसे कमाने की उपयोगी जानकारी शेयर करते है जिसको फॉलो करके आप आसानी से पैसे कमा पाएंगे।

Sending Message...


Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.