सह अभाज्य संख्या किसे कहते है उदाहरण सहित समझे

सह अभाज्य संख्या

दो या दो से अधिक संख्याओं के बीच यदि अधिकतम उभयनिष्ठ 1 हो तो वे संख्याएँ सह अभाज्य संख्या कहलाती है।

दूसरे शब्दों में – कम से कम 2 अभाज्य संख्याओ का ऐसा समूह जिसका महत्तम समापवर्तक (HCF) 1 हो।

उदाहरण :

(2, 3), (3, 4), (5, 6), (14, 15),………….

सह अभाज्य संख्याओं को हम इस प्रकार भी समझ सकते हैं –

जैसे :

(2, 3)
2 × 1 = 2
3 × 1 = 3

(3, 4)
3 × 1 = 3
4 × 1 = 4

(5, 6)
5 × 1 = 5
6 × 1 = 6

गुणनखण्ड में आप देख सकते हैं कि सभी में उभयनिष्ठ 1 प्राप्त होता हैं अर्थात यह सह अभाज्य संख्या हैं।

(14, 15)

14 के भाजक : 1, 2, 7, 14
15 के भाजक : 1, 3, 5, 15

14 तथा 15 के गुणनखंड में 1 के अतिरिक्त कोई भी संख्या उभयनिष्ठ नहीं है। अतः 14 तथा 15 में उभयनिष्ठ गुणनखंड केवल 1 हैं। अतः 14 तथा 15 सह अभाज्य संख्याएँ हैं।

सह अभाज्य संख्या को अंग्रेजी में “Co-Prime Number” बोलते हैं।

Note :

  • सह अभाज्य संख्याओं में दोनों संख्याएं अभाज्य हो ऐसा जरुरी नहीं हैं।
  • 2 भाज्य संख्याएं भी सह अभाज्य संख्याएं हो सकती हैं।
  • जैसे : 8 तथा 15 यहां दोनों संख्याएं ही भाज्य हैं।
  • 8 तथा 15 में उभयनिष्ठ गुणनखंड में केवल 1 आता है अतः यह दोनों संख्याएं भी सह अभाज्य संख्याएं हैं।
  • सह अभाज्य संख्याओं में दोनों संख्याएँ अथवा एक संख्या अभाज्य हो ऐसा होना आवश्यक नहीं हैं।

जरूर पढ़िए : संख्या पद्धति

उम्मीद हैं आपको सह अभाज्य संख्याओं की जानकारी पसंद आयी होगीं।

सह अभाज्य संख्याओं से संबंधित किसी भी प्रश्न के लिए कमेंट करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.