बैठक व्यवस्था के तर्कशक्ति के प्रश्नों को हल करना सीखें।

पिछली पोस्ट में हम तर्क शक्ति के महत्वपूर्ण अध्याय दिशा और दूरी को पढ़ चुके हैं

यदि अपने उसको नही पढ़ा है तो जरूर पढ़ें।

इस पोस्ट में हम बैठक व्यवस्था (Sitting Arrangement) को पड़ेंगे जिसको पड़कर आप इससे सम्बन्धित सभी तरह के प्रश्नों को हल करना सीख जाएंगे।

बैठक व्यवस्था (Seating Arrangement)

ऐसे प्रश्नों के अंतर्गत कुछ व्यक्तियों, अथवा सूचनाओं इत्यादि का समूह दिया जाता हैं किंतु समूह के अवयव किसी निश्चित क्रम में नहीं होते हैं।

इन सूचनाओं के आधार पर पूछे गए प्रश्न, अवयवों की सापेक्षिक स्थिति पर आधारित होते हैं।

इन्हें हल करने के लिए दी गई सभी सूचनाओं तथा तथ्यों को आवश्यकतानुसार रेखाओं, आरेखों, चार्ट या अन्य संकेतों द्वारा इस प्रकार संग्रहित कर लेते हैं कि इनका आपसी संबंध एवं क्रम स्पष्ट हो जाए। अंत में सभी तथ्यों, आंकड़ों इत्यादि को जोड़कर इसे अंतिम रूप दे देते हैं।

आगे दिए गए उदाहरणों से उपर्युक्त विवरण का आशय हो जाएगा।

इसके अंतर्गत निम्न प्रकार के प्रश्न पूछे जाते हैं।

  • रेखीय क्रम व्यवस्था।
  • वृत्तीय क्रम व्यवस्था।
  • लम्बाई का क्रम।
  • स्थान का क्रम।

रेखीय क्रम व्यवस्था

इसके अंतर्गत प्रश्न रेखा या पंक्ति में अभिविन्यस्त व्यक्तियों या वस्तुओं पर आधारित होते हैं, इसके अतिरिक्त प्रश्न घटनाओं इत्यादि के क्रम पर भी आधारित हो सकते हैं।

व्यक्तियों इत्यादि के संदर्भ में दिए गए प्रश्नों में दाएं तथा बाएं शब्दो का प्रयोग होता हैं, इसके अंतर्गत यह मान लिया जाता हैं कि पंक्ति में स्थित व्यक्तियों का मुंह प्रेक्षण (अर्थात आप) के सामने हैं, स्पष्टतः आमने-सामने की इस स्थिति में प्रेक्षक का दायाँ तथा बायाँ पंक्ति में स्थित व्यक्तियों के दाएं तथा बाएं के विपरीत होगा, कभी-कभी दिशा भी दी जाती हैं, इस अवस्था में दिशा अक्ष बना लेना आवश्यक होता हैं।

उदाहरण:- छः विघार्थी एक रेखा में बैठे हैं, K, V तथा R के बीच में हैं, V, M के बगल में बैठा हैं M, B के बगल में बैठा हैं तथा B एकदम बायीं छोर पर हैं, Q, R के बगल में बैठा हैं, बताइए V से सटा हुआ कौन बैठा हैं?

उत्तर:- स्पष्टतः V से सटे हुए M तथा K होंगें।

2. वृत्तीय क्रम व्यवस्था

इसके अंतर्गत पूछे जाने वाले प्रश्नों में व्यक्तियों अथवा वस्तुओं को वृत्तीय क्रम में अभिविन्यस्त दर्शाया जाता हैं, इस अवस्था में व्यक्तियों तथा प्रेक्षक की स्थिति रेखीय क्रम व्यवस्था से भिन्न होती हैं, इसमें प्रेक्षण की स्थिति व्रत से बाहर होती हैं तथा व्रत में अभिविन्यस्त व्यक्तियों का मुंह वृत्त के केंद्र की तरफ होता हैं, स्पष्टतः तब प्रेक्षक का मुंह भी क्रेंद्र की ही तरफ होगा, जिसके कारण प्रेक्षक तथा व्यक्तियों के दाएं तथा बाएं समान होंगे, निम्न उदाहरण को देखें।

उदाहरण:- पाचँ व्यक्ति वृत्त के क्रेंद्र की ओर मुँह करके बैठे हैं, मुकुंद, राजेश के बाएं हैं, विजय, अनिल के दाएं तथा अनिल और नागेश के बीच में है, नागेश के दाएं कौन हैं।

उत्तर:- नागेश के दाएँ मुकुंद हैं।

लम्बाई का क्रम

इसकेअंतर्गत प्रश्न लम्बाई के घटते अथवा बढ़ते क्रम पर आधारित होते हैं, इन्हें हल करने के लिए छोटा या बड़ा का प्रयोग किया जाता हैं, जैसे:- P छोटा हैं Q से।

उदाहरण:- P, Q, R, S तथा T पाचँ नदियां हैं, P, Q से छोटी किंतु T से बड़ी हैं, R सबसे बड़ी नदी हैं तथा S, Q से थोड़ी छोटी किंतु P से थोड़ी बड़ी हैं, सबसे छोटी नदी कौन हैं?

उत्तर:- अतः T सबसे छोटी नदी हैं।

4. स्थान का क्रम

इसके अंतर्गत पूछे जाने वाले प्रश्न पंक्तिबद्ध नामों पर आधारित होते हैं, व्यक्तियों या नामों का स्थान पंक्ति या सूची के प्रारम्भ तथा अंत में दिया होता हैं तथा उस पंक्ति या सूची के कुल व्यक्तियों या नामों की संख्या पूछी जाती हैं, इसके अंतर्गत विभिन्न प्रकार के प्रश्न पूछे जाते हैं जिन्हें आगे उदाहरणों के माध्यम से समझाया जा रहा हैं।

उदाहरण:- एक पंक्ति में रोहित का प्रारंभ से 15 वां तथा अंत से 11 वां स्थान हैं, उस पंक्ति में कितने लोग हैं?

व्यख्या:- प्रारंभ से रोहित का स्थान + अंत से रोहित का स्थान = 15 + 11

= 26

रोहित इसमें दो बार शामिल हैं।

कुल व्यक्तियों की संख्या = 26 – 1

= 25

Note:- यदि किसी पंक्ति में किसी व्यक्ति का प्रारम्भ से m वां तथा अंत से n वां स्थान हो तो उस पंक्ति में कुल व्यक्तियों की संख्या = (m + n – 1)

= (15 + 11 – 1)

= 25

बैठक व्यवस्था से सम्बन्धित प्रश और उसके हल

प्रश्न 1. गंगा, युमना, सरस्वती, कोसी तथा सोन पाचँ नदियाँ हैं, गंगा, युमना की अपेक्षा छोटी हैं, परन्तु सोन से बड़ी है, सरस्वती सबसे बड़ी हैं, यदि कोसी यमुना से कुछ छोटी हैं, परंतु गंगा से कुछ बड़ी हैं, तो सबसे छोटी नदी कौन-सी हैं?

(a). यमुना

(b). सोन

(c). कोसी

(d). गंगा

उत्तर:- सोन

प्रश्न 2. एक पंक्ति में मोहन दाएँ से 15 वाँ हैं और बाएँ से 16 वाँ हैं, तो कितने व्यक्ति और शामिल किए जाएं कि कुल 50 व्यक्ति हो जाये?

(a). 19

(b). 20

(c). 21

(d). 22

हल:- यदि किसी पंक्ति में किसी व्यक्ति का प्रारम्भ से m वां तथा अंत से n वां स्थान हो तो उस पंक्ति में कुल व्यक्तियों की संख्या = (m + n – 1)

= 15 + 16 – 1

= 31 – 1

= 30

शामिल किए जाने वाले व्यक्तियों की संख्या = 50 – 30

= 20

उत्तर:- 20

प्रश्न 3. सीमा छोटी लड़कियों की एक एक श्रृंखला में बाएँ से 15 वीं हैं दाएँ से उसका क्रम 17 वां हैं, बताइए श्रृंखला में कुल कितनी लड़कियां हैं?

(a). 28

(b). 29

(c). 30

(d). 31

हल:- कुल व्यक्तियों की संख्या = (m + n – 1)

= 15 + 16 – 1

= 31 – 1

= 30

उत्तर:- 30 लड़कियां।

प्रश्न 4. एक पंक्ति में रवि का स्थान दोनों छोरों से 16 वाँ हैं, उस पंक्ति में कुल कितने लोग हैं?

(a). 30

(b). 31

(c). 29

(d). 32

उत्तर:- 31

प्रश्न 5. लड़कियों की एक कतार में यदि सोनिया जो बाई ओर से 10 वें स्थान पर हैं तथा पिंकी दाई ओर से 7 वें स्थान पर हैं, अपनी स्थिति बदल लेती हैं, तो पिकीं दाईं ओर से 12 वें स्थान पर हो जाती हैं, कतार में कितनी लड़कियाँ हैं?

(a). 20

(b). 21

(c). 22

(d). 23

उत्तर:- 21

प्रश्न 6. 50 विघार्थियों की एक कक्षा में विजय का क्रमांक 25 वाँ हैं, अंत से उसका क्रमांक कितना है?

(a). 24 वाँ

(b). 25 वाँ

(c). 26 वाँ

(d). 27 वाँ

उत्तर:- 26 वाँ।

प्रश्न 7. छः व्यक्ति एक खेल खलते हुए एक वृत्त में केंद्र की ओर मुँह करके बैठे हैं, विजय, सुधीर की बाईं ओर था, अमर, सौरव और राकेश के मध्य था, नीरज, अमर के बाईं ओर दूसरे स्थान पर था, तो बताइए विजय के दाहिनी ओर दूसरे स्थान पर कौन था?

(a). नीरज

(b). राकेश

(c). सौरव

(d). अमर

उत्तर:- नीरज।

प्रश्न 8. छः व्यक्ति ताश खेल रहे हैं, गोपाल और कृष्ण एक दूसरे के सामने हैं, कृष्ण, मोहन के बायीं ओर तथा गिरधर के दायीं ओर हैं, मोहन, मुरली के बायीं ओर हैं, यदि मुरली और मनोहर तथा गिरधर और कृष्ण परस्पर स्थान बदल लेते हैं, तो मुरली के बायीं ओर कौन होगा?

(a). गोपाल

(b). कृष्ण

(c). मोहन

(d). मनोहर

उत्तर:- गोपाल।

आशा है HTIPS की यह पोस्ट बैठक व्यवस्था (Sitting Arrangment) आपको पसंद आएगी। उर इसको पड़कर आप बैठक व्यवस्था से सम्बंधित प्रश्नो को सभी परीक्षाओ में हल पाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *