सूक्ष्मदर्शी क्या हैं

सूक्ष्मदर्शी क्या हैं इसके प्रकार, कार्य और लाभ

इस पेज पर आप विज्ञान के महत्वपूर्ण अध्याय सूक्ष्मदर्शी क्या हैं इसके प्रकार, कार्य और लाभ की समस्त जानकारी को पढेंगे क्योकि यह परीक्षाओं के साथ-साथ दैनिक जीवन के लिए बहुत आवश्यक है।

पिछले पेज पर हमने विज्ञान के अध्याय मानव श्वसन तंत्र की जानकारी शेयर की है तो उसे भी जरूर पढ़े।

चलिए अब सूक्ष्मदर्शी की जानकारी को पढ़कर समझते है।

सूक्ष्मदर्शी क्या हैं

शब्दो से ही स्पष्ट है सूक्ष्म + दर्शी = छोटी वस्तुओ को देखने वाला यंत्र

सूक्ष्मदर्शी का उपयोग अत्यंत छोटी वस्तुओ (जिन्हे हम साधारण आँखों से नहीं देख सकते) को देखने किया जाता है

सुक्ष्मदर्शी विज्ञान की एक शाखा होती हैं जिसमें सूक्ष्मदर्शी के द्वारा सूक्ष्म व अतीसूक्ष्म जीवों को बड़ा करके देखा जाता हैं ऐसे जीवों को साधारण आखों से देखना सम्भव नहीं है इसमें प्रकाश के परावर्तन, अपवर्तन, विवर्तन और विद्युत चुम्बकीय विकिरण का प्रयोग होता है।

विश्व में रोगों के नियंत्रण और नई औषधियों की खोज के लिए माइक्रोस्कोपी का इस्तेमाल किया जाता है, सूक्ष्मदर्शन की तीन प्रचलित शाखाओं में ऑप्टिकल, इलेक्ट्रॉन एवं स्कैनिंग प्रोब सूक्ष्मदर्शन आते हैं।

सूक्ष्मदर्शी का इतिहास

सूक्ष्मदर्शी का इतिहास करीब 400 वर्ष पुराना है इसकी खोज नीदरलैंन्ड में हुई थी। प्रकाश के परावर्तन, अपवर्तन और रेखीय संचरण के नियम ग्रीक दार्शनिकों को ईसा से कुछ शताब्दियों पूर्व से ही ज्ञात थे पर आपतन कोण और अपवर्तन कोण के ज्या के नियम का आविष्कार 17 वीं शताब्दी के उत्तरार्ध तक नहीं हुआ था।

हालैंड के स्नेल और फ्रांस के देकार्त (1551-1650 ई0) ने अलग-अलग इसका आविष्कार किया। 1000 ई0 के लगभग अरब ज्योतिषविंद अल्हैजैन ने परावर्तन और अपवर्तन के नियमों को सूत्रबद्ध किया पर ये ज्या में नहीं थे, जबकि लंब दूरी में थे।

ऐसा कहा जाता है कि उसके पास एक बड़ा लेंस था। सूक्ष्मदर्शी का सूत्रपात यहीं से होता है। सूक्ष्मदर्शी निर्माण का श्रेय एक वनस्पतिज्ञ जेकारियोस जोनमिड्स को है। हाइगेंज के अनुसार आविष्कार का श्रेय कॉर्नीलियस ड्रेबल को है।

सूक्ष्मदर्शी का आविष्कार

माइक्रोस्कोप का आरम्भ 17 वीं शताब्दी के आरम्भ से माना जाता हैं इस समय वैज्ञानिकों और अभियांत्रिकों ने भौतिकी में लेंस की खोज की थी लेंस के आविष्कार के बाद ही वस्तुओं को अपने मूल रूप में देखना सम्भव हुआ।

सबसे पहले सन 1610 में इटली के वैज्ञानिक गैलीलियो ने सरल सूक्ष्मदर्शी बनाया उसके बाद नीदरलैंड में पढ़ने में पढ़ने के लिए आतिशी शीशा बनाने वाले दो व्यक्तियों जिसके नाम “हैंस लिपरशे” और “जैकैरियस जैनसन” हैं इन दोनों ने मिलकर सूक्ष्मदर्शी तैयार किए इन्हें ही टेलिस्कोप का आविष्कारक माना जाता हैं।

सबसे पहले दृष्टि संबंधी सूक्ष्मदर्शन (Optical Microscope) का आविष्कार हुआ इसे प्रकाश सूक्ष्मदशर्न (Light Microscope) भी कहाँ जाता हैं, जीव-जंतुओं के अंगों को देखने में इसका प्रयोग होता हैं।

सूक्ष्मदर्शी के प्रकार

सूक्ष्मदर्शी दो प्रकार के होते है।

1. सरल सूक्ष्मदर्शी (Simple Microscope)

सरल सूक्ष्मदर्शी यंत्र एक ऐसा यंत्र है जिसकी सहायता से किसी भी सूक्ष्म वस्तू का प्रतिबिम्ब बड़े आकार में देखा जाता है। इसके द्वारा सूक्ष्म वस्तु का आभासी, बड़ा, तथा सीधा प्रतिबिम्ब नेत्र से स्पष्ट दूरी पर बनता है।

यह कम फोकस दूरी का उत्तल लेंस होता है जाे कि हैण्डलयुक्त फ्रेम में कसा होता है इसे आवर्धक लेन्स भी कहते हैं। इसका अविष्कार जेड जाँनसन ने 1590 में किया था।

सरल सूक्ष्मदर्शी के गुण

  1. घड़ी साज इसकी सहायता से घड़ी के सूक्ष्म पुर्जौ को देखकर उनकी मरमम्त करते हैं।
  2. प्रयोगशाला में इसका प्रयोग वर्नियर एवं स्कूगेज में पैमाने को पढ़ने के लिए किया जाता है।

2. संयुक्त सूक्ष्मदर्शी (Joint Microscope)

संयुक्त सूक्ष्मदर्शी द्वारा अत्याधिक छोटी वस्तु का बडा प्रतिबिम्ब उतरा जा सकता है।

इनकी आवर्धन क्षमता, सरल सूक्ष्मदर्शी से बहुत अधिक होती है।

सरल सूक्ष्मदर्शी की आवर्धन क्षमता 400 – 600 से 2 हजार गुना बढ़ा कर करती है।

सूक्ष्मदर्शी के अन्य प्रकार

सुक्ष्मदर्शी यंत्रों को मुख्यतः निम्न श्रेणियों में बांटा जा सकता है।

3. इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी यंत्र (Electron Microscope)

 इलेक्ट्रान सूक्ष्मदर्शी की खोज बीसवी शताब्दी में हुई थी। जो कि सबसे पहले विद्युत चुंबकीय लेंस से विकसित किया गया था। उस समय का यह पहला सूक्ष्मदर्शी यंत्र था जोकि ऑप्टिकल  सूक्ष्मदर्शी क्षमताओं को अधिक विस्तार से उस नमूने की जांच कर सकता था।

यह  सूक्ष्मदर्शी अति सूक्ष्म वस्तुओं का 100000 गुना बड़ा प्रतिबिम्ब बनाती है। 1926 में पहली विद्युत चुम्बकीय  लेंस का अविष्कार हंस बुश ने किया था । इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी का उपयोग औद्योगिक   उद्देश्य के लिए किया जाता है।

जिससे कि नए उत्पादों को विकसित किया जा सके इसका उपयोग कार्बनिक पदार्थों की विशेषता विशेषण के लिए भी किया जाता है ।इसके अतिरिक्त यह तेल और गैस की खोज और जैसे निष्कर्ष से जुड़े जोखिम को कम करने में मदद करता है। इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी का उपयोग फॉरेंसिक विज्ञान में भी कर सकते हैं।

इसका मूल विचार बहुत ही सरल है इसको साधारण रूप से चार भागो में विभाजित किया है

  • प्रकाश का स्रोत
  • नमूना
  • लेंस जो नमूने को बड़ा बनाता है
  • हम जो नमूना देखते हैं उसकी सबसे बड़ी छवि यानी की विस्तृत छवि

इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी के प्रकार

  •  स्कैनिंग इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी
  •  प्रतिबिंब इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी
  • ट्रांसमिशन इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी

4. प्रकाशीय सूक्ष्मदर्शी (Optical Microscope)

 यह सबसे पुराने सुक्ष्मदर्शी हैं, यह सूक्ष्मदर्शी वह सूक्ष्म दर्शी हैं जोकि दृश्य प्रकाश का उपयोग करके  लेंस के जरिए  छोटी वस्तु की बड़ी इमेज बनाते हैं

इस सूक्ष्मदर्शी का अविष्कार 17 वी शताब्दी मैं हुआ था प्रकाशीय सूक्ष्मदर्शी यंत्र दो प्रकार के होते हैं

  • प्रतिबिंब आधारित यंत्र
  • विश्लेषण आधारित यंत्र

5. परमाण्विक बल सूक्ष्मदर्शी यंत्र (Atomic Force Microscope)

परमाण्विक बल सूक्ष्मदर्शी यंत्र जिसे क्रमवीक्षण बल सूक्ष्मदर्शी यंत्र भी कहा जाता है, एक अति-विभेदनशील यंत्र है, जो नैनोमीटर के अंशों से भी सूक्ष्म स्तर तक दिखा सकता है, जो कि प्रकाशिक सूक्ष्मदर्शीओं की तुलना में 1000 गुना बेहतर हैं।

प्रकाशिक सूक्ष्मदर्शी उनकी विवर्तन सीमा से सीमित हो जाते हैं। इन्हे अगुआ किया गर्ड बिन्निग और हैन्रिक रोह्रर के बनाये अवलोकन टनलिंग सूक्ष्मदर्शी यंत्र (STM) नें, जिसके लिये उन्हे 1986 में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

6. घर्षणबल सूक्ष्मदर्शी यंत्र

इस तकनीक में एक नुकीली वस्तु का नोक किसी तल पर सरकाया जाता है। तब इसमें लगने वाले पाशर्व बलों को रिकाँर्ड कर लिया जाता है।

दो सूक्ष्म तलो के बीच स्लाइडिंग के बीच लगने वाले पाशर्व बल के मापन पर आधारित है।

7. अवलोकन टनलिंग सूक्ष्मदर्शी यंत्र

यह सूक्ष्मदर्शी यंत्र प्रमात्रा टनलिंग के सिद्धांत पर आधारित है आणविक स्तर पर सतहो को देखने के लिए अवलोकन टंनलिंग सूक्ष्मदर्शी यंत्र एक शक्तिशाली तकनीक है।

इस यंत्र से ना सिर्फ अतिनिर्वात परीस्थितियो में बल्कि खुली हवा तथा द्रव व गैस के वातावरण में भी आसानी से काम किया जा सकता है।

जरूर पढ़िए :

इस पेज पर आपने सूक्ष्मदर्शी की जानकारी को विस्तार से पढ़ा है, हमे आशा है कि आपको यह जानकारी पसंद आयी होगी।

सूक्ष्मदर्शी से संबंधित किसी भी प्रश्न के लिए कमेंट करे और यदि आपको सूक्ष्मदर्शी की जानकारी पसंद आयी है तो इसे Facebook और LinkedIn के द्वारा अधिक लोगो तक पहुंचने में मदद करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.