विराम चिन्ह

विराम चिन्ह की परिभाषा, भेद और उदाहरण

इस Post में आप विराम चिन्हों की परिभाषा और उनके प्रकारों को विस्तार पूर्वक पड़ेगे जो सभी प्रकार की परीक्षा की दृष्टि से महत्पूर्ण हैं।

विराम चिन्ह की परिभाषा क्या हैं?

विराम शब्द वि + रम् + घं से मिलकर बना है और इसका मूल अर्थ होता हैं “ठहराव” या “रुकना” आदि।

भिन्न-भिन्न प्रकार के भावों और विचारों को स्प्ष्ट करने के लिए जिन विराम चिन्हों का प्रयोग वाक्य के बीच में या अंत में किया जाता हैं उन्हें विराम चिन्ह कहाँ जाता हैं।

अर्थात

विराम का अर्थ होता हैं रुकना या ठहरना जब हमें किसी भी वाक्य को लिखते या बोलते समय बीच में थोड़ा रुकना पड़ता हैं जिससे किसी भी वाक्य को अच्छे से समझा सकें।

उदाहरण:

  • राम स्कूल जा रहा हैं। (सामान्य सूचना)
  • ताजमहल किसने बनवाया? (प्रश्नवाचक)
  • राम आता हैं! (आश्चर्य का भाव)

यदि किसी भी वाक्य में विराम चिन्ह का प्रयोग सही से न किया जाए तो वाक्य अर्थहीन हो जाता हैं या फिर एक दूसरे के विपरीत हो जाता हैं ठीक से समझ नहीं आता हैं इसलिए वाक्य में विराम चिन्ह लगाना आवश्यक होता हैं।

उदाहरण:

  • उसे रोको मत जाने दो।
  • उसे रोको, मत जाने दो। (इस वाक्य में न जाने देने की बात हो रही हैं।
  • उसे रोको मत, जाने दो। (इस वाक्य में जाने देने की बात हो रही हैं।

ऊपर आपने देखा वाक्य तो एक हैं लेकिन विराम चिन्ह की वजह से वाक्य के मतरब भी बदल रहे हैं।

विराम शब्द को अंग्रेजी में क्या कहते है?

विराम शब्द को अंग्रेजी में Punctuation Mark कहते हैं

विराम = Punctuation Mark

विराम चिन्ह

1. अल्प विराम – Comma ( , )

किसी भी वाक्य को लिखते समय जहाँ थोड़ी सी देर रुकना पड़े वहाँ अल्प विराम चिन्ह का प्रयोग किया जाता हैं।

अथार्त

जब हम किसी से बातचीत करते हैं या कुछ लिखते समय बहुत सी चीजों को एक साथ लिखते हैं, तो उनके बीच, बीच में अल्प विराम चिन्ह का प्रयोग करते हैं जिससे वाक्य अच्छे से सही सही समझ आए नीचे दिए गए उदाहरण को पढ़कर अल्प विराम के बारे में अच्छे से समझिए।

उदाहरण:

  • मोहन, जरा बाजार चले जाना।
  • सोहन, जरा मेरे पास आना।
  • राम, लक्ष्मण और सीता वनवास गए।
  • मैंने भारत में पहाड़, झरने, नदी, खेत, ईमारत आदि चीजें देखीं थी।
  • भारत देश में गेंहू, चना, बाजरा, धान, मक्का आदि बहुत सी फसलें उगाई जाती हैं।
  • राम, सीता, लक्षम और हनुमान ये सभी भगवान् के रूप में पूजे जाते हैं।

2. पूर्ण विराम – Full Stop (।)

जब कोई भी वाक्य खत्म हो जाता है तब वाक्य के अंत में पूर्ण विराम चिन्ह (।) लगाया जाता है।

अथार्त

पूर्ण विराम (।) का प्रयोग प्रश्नसूचक और विस्मयादि सूचक वाक्यों को छोड़कर बाकी सभी प्रकार के वाक्यों के अंत मे किया जाता हैं।

उदाहरण:

  • श्याम स्कूल से आ रहा है।
  • रामू बाजार जाता है।
  • मोहन का दोस्त सोहम है।
  • गोपाल अपना होमवर्क पूरा करता हैं।

3. उप विराम – Colon (:)

जब किसी भी वाक्य को अलग दिखाना हो वहाँ पर उप विराम चिन्ह का प्रयोग करते हैं।

उदाहरण:

  • प्रदूषण : एक अभिशाप।
  • विज्ञान : वरदान या अभिशाप

4. अर्द्ध विराम – Semi Colon (;)

पूर्ण विराम से कुछ कम, अल्पविराम से अधिक देर तक रुकने के लिए अर्ध विराम चिन्ह का प्रयोग किया जाता है।

अथार्त

एक वाक्य या वाक्यांश के साथ दूसरे वाक्य या वाक्यांश का संबंध बताना हो तो वहाँ अर्द्ध विराम (;) का प्रयोग होता है।

उदाहरण :

  • सूर्यास्त हो गया; लालिमा का स्थान कालिमा ने ले लिया ।
  • कल रविवार हैछुट्टी का दिन हैआराम मिलेगा।
  • सूर्योदय हो गया; चिड़िया चहकने लगी और कमल खिल गए ।

5. योजक चिन्ह – Hyphen ()

दो शब्दों के बीच परस्पर संबंध स्पष्ट करने के लिए तथा उन्हें जोड़कर लिखने के लिए योजक-चिह्न () का प्रयोग किया जाता है।

उदाहरण:

  • वह सीता-राम की मूर्ती है।
  • सुख-दुःख जीवन में आते-जाते रहते हैं।
  • रात-दिन परिश्रम करने पर ही सफलता मिलती है।
  • देश के जवानों ने तन-मन-धन से देश की रक्षा के लिए प्रयत्न किया।

6. कोष्ठक चिन्ह – Bracket ( ) { } [ ] 

कोष्ठक का प्रयोग किसी शब्द को स्पष्ट करने या कुछ अधिक जानकारी बताने आदि के लिए कोष्ठक ( ) का प्रयोग किया जाता हैं।

कोष्ठक शब्द का प्रयोग किसी भी वाक्य के बीच में आए शब्दों अथवा पदों का अर्थ स्पष्ट करने के लिए कोष्ठक का प्रयोग किया जाता है।

अथार्त

कोष्ठक चिन्ह का प्रयोग अर्थ को और अधिक स्पष्ट करने के लिए शब्द अथवा वाक्यांश को कोष्ठक के अन्दर लिखकर किया जाता है।

( ) –  इसे लघु कोष्ठक कहते हैं।

{ } – इसे मझला कोष्ठक कहते हैं।

[ ] – इसे दीर्ध कोष्ठक कहते हैं।

उदाहरण:

  • अध्यापक (चिल्लाते हुए) निकल जाओ कक्षा से।
  • विश्वामित्र (क्रोध में काँपते हुए) ठहर जा।
  • धर्मराज (युधिष्ठिर) सत्य और धर्म के संरक्षक थे।
  • दशहरे को (रावण) के पुतले का दहन किया जाता हैं।
  • डॉक्टर राजेन्द्र प्रसाद (भारत के प्रथम राष्ट्रपति) का जन्म 03 दिसम्बर, 1884 को हुआ था।

7. पदलोप चिन्ह – Omission ()

जब वाक्य या अनुच्छेद में कुछ अंश छोड़ कर लिखना होता हैं तो पदलोप चिह्न () का प्रयोग किया जाता है।

उदाहरण:

  • राम ने मोहन को गली दी
  • मैं सामान उठा दूंगा पर
  • में घर अवश्य चलूँगा पर तुम्हारे साथ

8. रेखांकन चिन्ह – Underline ( _ )

किसी भी वाक्य में महत्त्वपूर्ण शब्द, पद, वाक्य को रेखांकित करने के लिए रेखांकन चिन्ह (_)का प्रयोग किया जाता है।

उदाहरण:

  • हरियाणा और उत्तर प्रदेश को यमुना नदी प्रथक करती है।
  • गोदान उपन्यास, प्रेमचंद द्वारा लिखित सर्वश्रेष्ठ कृति है।
  • कृष्ण ने बरगद के पेड़ के निचे उपदेश दिया था।

9. लाघव चिन्ह – Abbreviation Sign ()

किसी बड़े शब्द या प्रसिद्ध शब्द को संक्षेप में लिखने के लिए उस शब्द का पहला अक्षर लिखकर उसके आगे शून्य () लगा देते हैं। यह शून्य ही लाघव-चिह्न कहलाता है।

उदाहरण:

  • डॉंक़्टर के लिए – डॉं
  • पंडित के लिए – पं
  • इंजिनियर के लिए – इंजी
  • प्रोफेसर के लिए – प्रो
  • उत्तर प्रदेश के लिए – उ प्र

10. विस्मयादिबोधक चिन्ह – Interjection (!)

विस्मयादिबोधक चिन्ह (!) का प्रयोग वाक्य में हर्ष, विवाद, विस्मय, घृणा, आश्रर्य, करुणा, भय इत्यादि का बोध कराने के लिए किया जाता हैं।

अर्थात

विस्मयादि बोधक चिन्ह का प्रयोग अव्यय शब्द से पहले किया जाता है।

उदाहरण:

  • हाय!, आह!, छि!, अरे!, शाबाश!
  • हाय! वह मार गया।
  • आह! कितना सुहावना मौसम है।
  • वाह! कितना सुंदर वृक्ष है।

11. प्रश्नवाचक चिन्ह – Question Mark (?)

प्रश्नवाचक वाक्य के अंत में ‘प्रश्नसूचक चिन्ह’ (?) का प्रयोग किया जाता है।

अथार्त

जब किसी वाक्य में किसी प्रश्न (सवाल) के पूछे जाने के भाव की अनुमति हो उस वाक्य के अंत मे (?) चिन्ह का प्रयोग किया जाता हैं।

 उदाहरण:

  • रामू क्या खा रहा है?
  • राम बाजार से क्या लेकर आया था?
  • सीता के पिता का क्या नाम था?
  • वो बाजार क्यों गया था?
  • रामजी ने रावण को क्यों मारा था?

12. अवतरण या उदहारणचिन्ह – Inverted Comma ()

किसी की कही हुई बात को उसी तरह प्रकट करने के लिए अवतरण चिह्न () का प्रयोग किया जाता है।

उदाहरण:

  • तुलसीदास ने सत्य कहा है – “पराधीन सपनेहु सुख नाहीं।”
  • जयशंकर प्रसाद ने कहा है – “जीवन विश्व की सम्पत्ति है।”
  • राम ने कहा – “सत्य बोलना सबसे बड़ा धर्म है।”

13. विवरण चिन्ह – Sign of Following ( :- )

विवरण चिन्ह (:-)का प्रयोग वाक्यांश के विषयों में कुछ सूचक निर्देश आदि देने के लिए किया जाता है।

उदाहरण:

  • आम के निम्न फायदे है:-
  • संज्ञा के तीन मुख्य भेद होते हैं:-
  • वचन के दो भेद है:-
  • कृपया निम्नलिखित नियमों का पालन करें:-

14. विस्मरण चिन्ह या त्रुटिपूरक चिन्ह – Oblivion Sign (^)

जब किसी वाक्य अथवा वाक्यांश में कोई शब्द अथवा अक्षर लिखने में छूट जाता हैं तो छूटे हुए वाक्य के नीचे हंसपद चिन्ह (^) का प्रयोग किया जाता हैं

अर्थात

यदि हम कोई वाक्य लिखते समय किसी शब्द को भूल जाते हैं ऐसे में विस्मरण चिन्ह (^) का प्रयोग किया जाता है।

उदाहरण:

  • राम ^ जाएगा। (दिल्ली)
  • श्याम में रहते थे। (गोकुल)
  • राम बहुत ^ लड़का है। (अच्छा)
  • मैंने तुमसे वो बात ^ थी। (बताई)

15. पुनरुक्ति सूचक चिन्ह – Repeat Pointer Symbol (,,)

पुनरुक्ति सूचक चिन्ह (,,) का प्रयोग ऊपर लिखे किसी वाक्य के अंश को दोबारा लिखने से बचने के लिए किया जाता है।

उदाहरण:

क्र. – दानकर्ता का नाम – दान राशि

1. राम – 200 रुपये

2. श्याम – ,,

3. मोहन – ,,

4. शोहन – 100 रुपए

उदाहरण:

जब वाक्य में किसी शब्द विषेेश के उच्चारण में अन्य शब्दों की अपेक्षा अधिक समय लगता है तो वहां पर दीर्घ उच्चारण चिन्ह (S) का प्रयोग किया जाता है

16. दीर्घ उच्चारण चिन्ह – (S)

अर्थात

छंद में दीर्घ मात्रा (का, की, कू, के, कै, को, कौ) और लघु मात्रा (क, कि, कु, र्क) को दर्शाने के लिए इस चिन्ह का प्रयोग होता हैं।

उदाहरण:

देखत भृगुपति वेषु कराला
।S।। ।।।। S। ।SS

17. तुल्यता सूचक चिन्ह – Equivalence indicator symbol (=)

किसी शब्द अथवा गणित के अंकों के मध्य की तुल्यता को दर्शाने के लिए तुल्यता सूचक (=) चिन्ह का प्रयोग किया जाता हैं।

अर्थात

वाक्य में दो शब्दों की तुलना समानता या बराबरी करने में तुल्यता सूचक चिन्ह का प्रयोग किया जाता है।

उदाहरण:

  • अच्छाई = बुराई
  • आ = बा
  • 6 और 6 = 12
  • अशिक्षित = अनपढ़

18. निर्देशक चिन्ह – Dash ()

निर्देशक चिन्ह ()का प्रयोग विषय, विवाद, सम्बन्धी, प्रत्येक शीर्षक के आगे, उदाहरण के पश्चात, कथोपकथन के नाम के आगे किया जाता है।

उदाहरण:

  • श्री राम ने कहा  सत्य के मार्ग पर चलना चाहिए।
  • जैसे  फल सब्जी मसाले इत्यादि।

जरूर पढ़िए

इस post में आपने सभी प्रकार के विराम चिन्ह और उन से संबंधित उदाहरण के बारे में पढ़ा जो सभी प्रकार की परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण हैं।

यदि आप को ये post पसंद आई हैं तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ जरूर शेयर कीजिए और साथ ही विराम चिन्ह की इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर शेयर करना न भूलिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *