बैंक अकाउंट

बैंक खाता क्या है, प्रकार और उनके लाभ और हानि

आज इस पेज पर हम बैंक खाता क्या है इसके बारे में सम्पूर्ण जानकारी पड़ेंगे आज के समय में सभी परिवार में लगभग सभी लोगो के बैंक में खाते जरूर ही होते हैं और यह बहुत ही अच्छी बात है कि लोग जागरूक हो रहे हैं, अपना अच्छा-बुरा खुद समझ रहे हैं और अपने पैसों की बचत करके अपनी बचत पूंजी अपने बैंक खाते में जमा कर रहें हैं।

लेकिन लगभग 75 प्रतिशत लोगो को बैंक खातों के बारे में सही जानकारी पता ही नहीं है जिसके कारण वह बैंक से प्राप्त होने वालो लाभों से वंचित है।

इसलिए इस आर्टिकल के माध्यम से मैं आपको बताऊंगी कि आखिर बैंक खाते के प्रकार के होते है और किस प्रकार के खाते के क्या लाभ और क्या हानि है साथ ही आपके लिए कौनसा खाता खुलवाना चाहिए।

 तो चलिए बैंक खाते के प्रकार की जानकारी को पढ़ाना शुरू करते है।

बैंक खाता क्या है?

बैंक उस वित्तीय संस्था को कहाँ जाता हैं जो जनता से धनराशि जमा करने तथा जनता को ऋण देने का काम करती है। व्यक्ति अपनी बचत राशि को सुरक्षा की दृष्टि से सेव रखने के लिए बैंक में जमा कर देते हैं बैंक जमा की गई राशि पर ब्याज भी देता हैं।

आप बैंक में अपनी जमा की गई राशि को आवश्यकतानुसार समय समय पर निकालते रहते हैं। बैंक इस प्रकार बैंक जमा की राशि को व्यापारियों एवं व्यवसायियों को ऋण देकर ब्याज कमाते हैं। आर्थिक आयोजन के वर्तमान युग में कृषि, उद्योग एवं व्यापार के विकास के लिए बैंक एवं बैंकिंग व्यवस्था एक अनिवार्य आवश्यकता मानी जाती है।

राशि जमा रखने तथा ऋण प्रदान करने के अतिरिक्त बैंक अन्य काम भी करती हैं।

  •  सुरक्षा के लिए लोगों से उनके आभूषणादि बहुमूल्य वस्तुएँ जमा रखना
  • अपने ग्राहकों के लिए उनके चेकों का संग्रहण करना
  • व्यापारिक बिलों की कटौती करना
  • एजेंसी का काम करना
  • गुप्त रीति से ग्राहकों की आर्थिक स्थिति की जानकारी लेना।

बैंक खाते के प्रकार

खाते मुख्यतः चार प्रकार के होते है

  1. बचत खाता (Saving Account)
  2.  चालू खाता (Current Account)
  3. सावधि खाता (fixed deposit)
  4. आवृति खाता (Recurring deposit)

1. बचत खाता : Saving Account

जैसे कि बचत खाते के नाम से ही स्पष्ट है कि बचत के पैसे जमा करने के लिए खोले गए खाते को बचत खाता कहते है

बचत खाता कोई भी सामान्य नागरिक खुलवा सकता है और अपने दैनिक कार्य से कामये हुए पैसे से की हुई बचत को बचत खाते में जमा कर सकता है और जरूरत के समय में भविष्य जब चाहे तब निकाल सकता है

बचत खाते में कोई भी व्यक्ति महीने में कितनी भी बार पैसे जमा कर सकता है और खाते की सीमा के अनुसार कितनी भी बार पैसे निकाल सकता है

यह खाता 10 साल से छोटे बच्चो का भी होता हैं और जिनका लेनदेन सिर्फ उनके माता पिता की अनुमति से होता है

बचत खाता खुलवाने के लिए आवश्यक दस्तावेज

यदि आप अपना बचत खाता खुलवाना चाहते हैं तो आप किसी भी बैंक मैं जाकर अपना एकाउंट खुलवा सकते हैं चाहे वो (SBI) स्टेट बैंक ऑफ इंडिया या (PNB) पंजाब नेशनल बैंक हो सभी बैंकों में आपको एक बचत खाता खोलने के लिए कुछ जरूरी डॉक्यूमेंट की आवश्यकता पढ़ेगी जो निम्न हैं।

  • दो कलर फोटो
  • आधारकार्ड
  • एड्रेस प्रूफ
  • बिजली का बिल
  • आयु प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • जाती प्रमाण पत्र

नीचे 4 पहचान प्रमाण के बारे में बता रही हूं जिसमें से आप एक प्रमाण लगा सकते हैं।

आधार कार्ड: आज के समय में आधार कार्ड एक बहुत ही जरूरी डॉक्यूमेंट बन गया हैं आप कोई भी काम करें सबसे पहले आपको आधार कार्ड की जरूरत पड़ती हैं तो यदि आप अपना बचत खाता खुलवा रहे हैं तो आपको आधार कार्ड की भी जरूरत पड़ेगी।

वोटर आईडी कार्ड: आप एक भारतीय नागरिक हैं तो आपके एड्रेस प्रूफ के लिए आपको अपने वोटर आईडी कॉर्ड की जरूरत पड़ेगी।

पासपोर्ट: यदि आपके पास इंडियन पासपोर्ट हैं तो आप इसका उपयोग Saving Account में कर सकते हैं।

ड्राइविंग लाइसेंस: आप ड्राइविंग लाइसेंस को भी अपना बचत खाता खुलवाने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं।

बचत खाते में ब्याज कितना मिलता हैं?

केवल आम आदमियों के लिए होता हैं इस खाते में साल में सिर्फ एक बार ही ब्याज मिलता हैं इसमें केवल 3 % से 4 % व्याज ही मिलता हैं

बचत खाता खुलवाने के बाद कस्टमर को बैंक से क्या मिलता हैं?

खाते खुलने के बाद खाताधारक को बैंक के द्वारा एक पासबुक और चेकबुक दी जाती हैं पासबुक में कस्टमर अपने एकाउंट की सारी जानकारी रखता हैं और चेकबुक में अपने खाते से जब चाहे जितने पैसे निकालना चाहे निकाल सकता हैं।

बैंक के द्वारा आपको एक एटीएम भी दिया जाता हैं जिससे आप बिना बैंक जाए एटीएम मशीन के द्वारा अपने पैसे निकाल सकते हैं। और आपकी जरूरत के हिसाब से आप बैंक जा कर अपनी नेटबैंकिंग भी करवा सकते हैं जिसमे खाताधारक कुछ चीजों को घर से ही उपयोग कर सकते हैं।

जैसे: बिजली का बिल भरना, मोबाइल रिचार्ज करना, ऑनलाइन टिकिट करना या फिर शॉपपिंग करना आदि।

बचत खाते में अधिकतम कितने पैसे जमा कर सकते हैं?

किसी भी बैंक एकाउंट में बचत खाते में जमा करने की अधिकतम राशि की कोई लिमिट नहीं होती हैं आपके पास जितना पैसा हो आप अपने एकाउंट में जमा कर सकते हैं लेकिन आप अपने एकाउंट में एक साल में ढाई लाख रुपए या उससे ज्यादा रुपए Deposit करते हैं तो आपको इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करके (ITR) आईटीआर विभाग को बताना पड़ेगा वरना आपको कभी भी नोटिस आ सकता हैं।

बचत खाते में कम से कम कितना बैलेंस जमा होना चाहिए?

बचत खाते में हर बैंक की न्यूनतम सिमा अलग-अलग होती हैं और यह समय के अनुसार बदलती रहती हैं जैसे कि कुछ बैंक में यह राशि 1000 होती हैं तो कुछ बैंक में यह राशि 3000 से 5000 के बीच होती हैं।

यदि आप अपने एकाउंट में इससे कम राशि रखेंगे तो आपको बैंक में चार्ज देना पड़ेगा यदि आपके एकाउंट में पर्याप्त बैलेंस नहीं हैं तो जब भी आप अपने एकाउंट में पैसे डालेंगे तो बैंक द्वारा आपके खाते से पैसे काट लिए जाएंगे।

2. चालू खाता : Current Account

यह खाता केवल बड़े -बड़े बिजनिस मेनो के लिए होता हैं इस खाते की केवल यह खासियत हैं कि व्यापारी इस खाते में से दिन में कितनी बार ही अपने खाते में से पैसे निकाल सकते हैं और जितनी बार पैसे निकालना चाहते हैं

उतनी बार पैसे निकाल सकते हैं इसमें  निकालने और जमा करने के पैसे नहीं लगते हैं और न ही चालू खाते वालो के लिए कोई ब्याज नहीं मिलता हैं लेकिन चालू खाते वालो के लिए पासबुक ,एटीएम ,चेकबुक नेटबैंकिंग इत्यादि सुविधाएँ होती हैं।

चालू खाता किसके लिए खोला जा सकता है?

  • कारोबारी उददेश्यों के लिए
  • संयुक्त हिन्दू परिवार के लिए
  • एकल स्वामित्व वाली फर्म के लिए
  • साझेदारी वाली फर्म के लिए
  • निजी या सार्वजनिक क्षेत्र के लिए
  • लिमिटेड लायबिलिटी पार्टनरशिप फर्म के लिए
  • ट्रस्ट, सोसायटी, एसोसिएशन, क्लब वगैरह. के लिए
  • लायजनिंग या प्रतिनिधि कार्यालय के लिए
  • किसी संस्था के प्रोजेक्ट ऑफिस के लिए
  • किसी संस्थान के शाखा कार्यालय के लिए

चालू खाता के लिए आवश्यक डॉक्यूमेंट

व्यक्तिगत रूप से चालू खाता खोलने के लिए आपको आवेदन फॉर्म के साथ साथ निम्नलिखित डॉक्यूमेंट जमा करने की जरूरत पड़ती है।

  • रंगीन फोटो
  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • बिजली का बिल

एचयूएफ (HUF) के लिए जरूरी डॉक्यूमेंट

HUF (हिन्दू अविभक्त परिवार) को निम्नलिखित डॉक्युमेंट और विवरण अपने खुद के हस्ताक्षर से प्रमाणित मतलब self-attested करके जमा करनी होती है।

  • एचूएफ के खाता संचालक का नवीनतम फोटोग्राफ (तीन महीने से अधिक पुराना न हो)
  • कर्ता (खाता संचालन के लिए जिम्मेदार व्यक्ति) का पहचान प्रमाणपत्र
  • पत्र व्यवहार के लिए कर्ता (खाता संचालन के लिए जिम्मेदार व्यक्ति) के निवास का प्रमाण
  • कर्ता (खाता संचालन के लिए जिम्मेदार व्यक्ति) का वर्तमान मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी।
  • पैन नंबर, अगर पहले न जमा किया हो (पैन नंबर एचयूएफ के नाम पर ही होना चाहिए)

एकल स्वामित्व फॉर्म के लिए जरूरी  डॉक्यूमेंट

एकल स्वामित्व वाली फ्रॉम या एचयूएफ के स्वामित्व वाली फ्रॉम को निम्नलिखित डॉक्यूमेंट और अपने हस्ताक्षर से प्रमाणित फोटोकॉपी जमा करनी होेंगी।

उस फर्म के नाम पर सरकारी प्राधिकरण (रजिस्ट्रेशन विभाग या लाइसेंस विभाग की ओर से जारी कम से कम दो दस्तावेज)। दोनों में संस्था का नाम और पता प्रमाणित होना चाहिए।
फर्म के मालिक के पासपोर्ट साइज के रंगीन फोटोग्राफ जो हाल ही में खिंचाए गए हों।
फर्म के स्वामी का पैन नंबर और निवास का पता दर्शाने वाला प्रमाणपत्र
अगर खाते के संचालन के लिए पावर आफ अटार्नी दी गई हो तो पावर आॅफ अटॉर्नी की फोटोग्राफ, पहचान प्रमाण और एड्रेस प्रूफ भी जमा किए जाने चाहिए।

साझेदारी फॉर्म के लिए आवश्यक डॉक्यूमेंट

साझेदारी में खुली या संचालित हो रहे फॉर्म के लिए निम्नलिखित डॉक्यूमेंट और डिटेल जमा किए जाने चाहिए। सभी दस्तावेज आवेदक के खुद के हस्ताक्षर से प्रमाणित (Self Attested) होने चाहिए।

  • फोटो (तुरंत की खिंची हुई)
  • पहचान प्रमाणपत्र।
  • एड्रेस प्रूफ
  • फोन नंबर,
  • ईमेल आईडी
  • पैन नंबर

Current Account के फायदे क्या हैं

  • Current Account में आप एक दिन में कितने भी लेनदेन फ्री में कर सकते हैं आपको लेनदेन का कोई चार्ज नहीं लगेगा।
  • व्यापारी बैंक से लोन भी ले सकते हैं।
  • करंट एकाउंट में ATM और Net Banking की फ्री सुविधा दी जाती हैं।
  • चालू खाते में ATM और Net Banking से लेनदेन करने पर कोई भी लिमिट नहीं होती हैं।

Current Account के उपयोग करने दुष्परिणाम क्या है

  • Current Account के तहत आपकी जमा राशि पर आपको कोई ब्याज नहीं मिलता हैं।
  • चालू खाते में आपको बैंक द्वारा बताई गई न्यूनतम राशि अपने खाते में हमेशा रखनी पड़ती हैं यदि आप अपने खाते में न्यूनतम राशि नहीं रखते हैं तो आपसे चार्ज लिया जाता हैं।

Saving Account और Current Account में क्या अंतर हैं

बचत खाताचालू खाता
Saving Account आम लोगों के लिए बनाया जाता हैं जो लोग अपने बचत किए गए पैसे सेव रखना चाहते हैं जिसमें उन्हें कुछ ब्याज भी मिलता हैं और जरूरत पड़ने पर वो अपने पैसे निकाल भी सकते हैं।Current Account बिजनिस करने वाले के लिए बनाया गया हैं जो लोग व्यापार करते हैं उनके लिए करंट एकाउंट एकदम सही हैं।
चालू खाता विद्यार्थियों और जॉब वाले लोगों के लिए सही होता हैं।Current Account में पैसों का लेनदेन रोजाना और बड़े पैमानों पर होता हैं।
बचत खाता में आपको हर साल 3% से 5% के बीच में ब्याज दिया जाता हैं।चालू खाता में किसी भी प्रकार का (Interest) ब्याज नहीं मिलता हैं।
सेविंग अकॉउंट में बैंक के अनुसार ट्रांजेक्शन लिमिट होती हैं।करंट एकाउंट में ट्रांजेक्शन की लिमिट नहीं होती हैं क्योंकि इसमें आपको बड़े पैमाने पर पैसों का लेनदेन करना होता हैं।
सेविंग एकाउंट में आपको मिनिमम राशि कम लगती हैं।करंट एकाउंट में आपको मैक्सिमम राशि ज्यादा रखनी पड़ती हैं।

3. सावधि खाता : Fixed deposit

सावधि जमा खाता म्युचअल फंड खाते की तरह हैं इस खाते में आप अपने साल भर के बचाये गए पैसे सावधि जमा खाते में जमा कर सकते हैं यह खाता FD हैं

इस खाते में केवल आप 1 वर्ष के लिए या 2 वर्ष से 10वर्ष  से भी अधिक वर्षो के लिए होता हैं यदि आप इस खाते में आप पैसे जमा करते हैं और आप ने 2 वर्ष के लिए FDखुलवाया हैं और आप ने 2 वर्ष के अंदर आप FDतुड़वा लेते हैं तो आप को बैंक में चार्ज लगता हैं

यदि नहीं तुड़वाते हैं तो आप को बैंक में कोई चार्ज नहीं लगता हैं यदि आप FDको 2 वर्ष पूर्ण हो जाते हैं तो आप पैसे निकलवा सकते हैं और FDपूर्ण हो जाने के बाद आप को ब्याज भी मिलता हैं।

सावधि जमा खाते की 6 विशेषताएं

  1. सावधि जमा खाते का मुख्य उद्देश्य व्यक्तियों को उनके अतिरिक्त धन पर ब्याज की उच्च दर अर्जित करने में सक्षम बनाना है।
  2. राशि केवल एक बार जमा की जा सकती है। इस तरह के जमा के लिए, अलग-अलग खातों को खोलने की जरूरत है।
  3. कस्टमर को जमा की गई राशि पर रसीद दी जाती है।
  4. इस योजना के अनुसार, एफडी खाते पर जमाकर्ता द्वारा मासिक आधार पर या त्रैमासिक आधार पर ब्याज दिया जाता हैं। इसे बचत खाते में जमा किया जाता है।
  5. पुनर्निवेश योजना के लिए, ब्याज को त्रैमासिक आधार पर मूल राशि से जोड़ा जाता है।
  6. आयकर अधिनियम, 1961 के अनुसार लागू होने पर सावधि जमा पर ब्याज से, स्रोत पर कर काटा जाता है।

4. आवर्ती खाता : Recurring deposit

आवर्ती खाते में हम एक निश्चित समय के पश्चात पैसे जमा करते है और एक निश्चित समय के पश्चात पैसे निकलते है जिससे पैसे जमा करने पर अच्छा व्याज भी मिलता है

जैसे हम समावधि खाते में एक बार में पैसे जमा करके एक निश्चित समावधि के बाद पैसे निकलते है

लेकिन आवर्ती खाते में हम पैसे आवर्ती रूप से जमा करते है अर्थात हर महीने या हर दो महीने में पैसे जमा करते रहते है और एक निश्चित समय के बाद निकलते है

इससे हमारे पैसे भी इक्क्ठे होते है और हमे अच्छा व्याज भी मिल जाता है

यह खाता RD खाते के नाम से भी जाना जाता हैं, RD खाता आप बैंको या डाकघर में खुलवा सकते हैं

आवर्ती खाता खुलवाने के लिए आपको पहले एक बचत खाता या चालू खाता खुलवाना जरूरी होता है क्योकि यदि आप चाहे तो अपने बचत या चालू खाते से भी नियमित रूप से एक निश्चित समयावधि के बार पैसे आवर्ती कहते में स्वतः भेज सकते है

उदाहरण के लिए अपने एक हजार रूपये महीने का एक आवर्ती खाता एक साल के लिए खोला तो आप प्रत्येक महीने उस आवर्ती खाते में एक हजार रूपये जमा करेंगे जो आप बैंक जाकर जमा कर सकते है या फिर अपने बचत कहते से ट्रांसफर कर सकते है

एक साल तक पैसे जमा करने के बाद आपके आवर्ती खाते में आपका मूल मतलब बारह हजार रूपये और आवर्ती खाते पर मिलने वाला व्याज आपको एक साथ आवर्ती खाता बंद करने पर मिलेगा

संक्षेप में 

आशा है ऊपर दी गयी खाते के प्रकार की जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आप बैंक खातों के प्रकार को समझ पाए होंगे

यदि बैंक खाते से सम्बन्धित कोई भी प्रश्न है तो कमेंट में जरूर पूछे हमे आपके प्रश्न का जवाब देने में ख़ुशी होगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *