किसान क्रेडिट कार्ड की समस्त जानकारी

किसान क्रेडिट कार्ड

खेती से जुड़ी सामाग्री तथा खाद, बीज, कीटनाशक आदि की खरीदी के लिए किसानों को अधिक ब्याज दर पर पैसे लेना पड़ता था लेकिन अब किसानो को बड़ी राहत देने के लिए सरकार ने किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) योजना शुरू की है।

किसान क्रेडिट कार्ड योजना के तहत किसानो को खेती से जुड़ी चीजों के लिए कर्ज मुहैया कराया जाता है।इन कार्ड के जरिए कर्ज लेना काफी सस्ता होता है।किसान क्रेडिट कार्ड खेती से जुड़ा कोई भी व्यक्ति ले सकता है।

किसान क्रेडिट कार्ड क्या है?

किसान क्रेडिट कार्ड बैंक जारी करते है, किसान क्रेडिट कार्ड केंद्र सरकार की कल्याणाकारी योजना है।

केसीसी की शुरुआत नाबार्ड और रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने मिलकर की थी। फिलहाल देश के 7 करोड़ किसानो के पास किसान कार्ड है।

किसान कार्ड के जरिए  किसानो को एक डेबिट कार्ड दिया जाता है जिसकी मदद से वो अपनी जरूरत के मुताबिक अपने खाते से पैसे निकाल सकते है।

सरकार का उद्देश्य किशनों को खेती से जरुरी चीज जैसे :- खाद, कीत्नाशक, बीज इत्यादी किसान क्रेडिट कार्ड से खरीद करने के लिए कम व्याज पर कर्ज उपलब्ध कराना है।

इसके साथ ही दूसरा मकसद किसानो को साहूकारो से कर्ज ना लेना पड़े, जो मनमाने ब्याज की बसूली करते है। किसान क्रेडिट कार्ड से लिया गया कर्ज़ 2-4 प्रतिशत तक सस्ता होता है लेकिन इसके लिए लोन समय पर चुका दिया जाए।

किसान क्रेडिट कार्ड कहाँ मिलेगा

एनपीसीआई यानी की नेशनल पेमेंट्स कॉप्रेशन ऑफ इंडिया रूपे किसान कार्ड ऑफर करती है। इसके अलावा नाबार्ड किसाओ कॉ आसानी से टर्म लोन्स उपलब्ध कराता है। SBI, बैंक ऑफ इंडिया और IDBI आदि सभी बैंक से किसान केसीसी प्राप्त कर सकते है।  

किसान क्रेडिट कार्ड कहाँ से बनवाए जा सकते है:-

  • स्टेट बैंक ऑफ इंडिया
  • बैंक ऑफ इंडिया
  • को–ऑपरेटिव बैंक
  • क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक
  • नेशनल पेमेंट्स

किसान क्रेडिट कार्ड का उद्देश्य क्या है?

किसान क्रेडिट कार्ड का उद्देश्य, किसानो को बैंकिंग प्रणाली द्वारा किसानो को आर्थिक सहायता प्रदान करना है। जिससे वह आसान तरीके से खेती से जुड़ी सामाग्री तथा खाद , बीज , कीटनाशक आदि की खरीदी तथा अन्य जरूरते पूरा कर सके।

किसान क्रेडिट कार्ड के अन्तर्गत लोन मिलते ही आप इन सभी जरूरतों को पूरा करने के लिए ले सकते है

  1. क्रषि व क्रषि संबंधी कार्यो मे निवेश के लिए (जैसे जमीन की खरीद)
  2. क्रषि व क्रषि संबंधी कार्यो के रखरखाव व खेती के सामान की ख़रीददारी के लिए (जैसे ट्रेक्टर खरीदना)
  3. किसानो के घर खर्च के लिए।
  4. फसल कटाई के बाद का खर्च।
  5. फसल बेचने के लिए आय खर्चो को पूरा करने के लिए।

नोट : ऊपर लिखा बिन्दु 1 लंबे समय के लिए ऋण तथा बिन्दू 2, 3, 4, व 5 के कार्य के लिए आपको छोटे समय के लिए ऋण मिलता है।

किसान क्रेडिट कार्ड के लिए जरूरी दस्तावेज

भारतीय रिजर्व बैंक के अनुसार यह लोन देने वाले बैंक पर निर्भर करता है वह किसान क्रेडिट कार्ड देने के लिए कौन से कागजाद जरूरी समझता है व मांगता है, इसलिए हर बैंक कि अलग कागजी जरूरत हो सकती है ।

नीचे दिये गयी सूची मे बैंक मूलभूत दस्तावेज़ है जो आपसे केसीसी लोन देने के लिए मांग सकता है :

  • आपके द्वारा भर कर साइन किया हुआ आवेदन फार्म।
  • पहचान पत्र, आधार कार्ड, वोटर आईडी, ड्राइविंग लाइसेंसे आदि की प्रतिलिपी।
  • आपका नवीनतम पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ।
  • जगह का सबूत जैसे आधार कार्ड , पासपोर्ट , बिजली या पानी का बिल आदि।
  • अन्य कागजात जैसे आपके जमीन या व्यवसाय के कागज।

 ज्यदातर बैंक 1 लाख तक के लोन पर कोई सुरक्षा नहीं मांगती है।

किसान क्रेडित कार्ड कौन ले सकता है?

किसान क्रेडिट कार्ड लोन लेने के लिए आपकी आयु कम से कम 18 वर्ष व अधिकतम आयु 75 वर्ष होती है। यदि किसी की आयु 60 वर्ष से अधिक है तो 60 वर्ष से कम आयु के सह–उधारकर्ता का होना जरूरी है। किसान क्रेडिट कार्ड लोन यह व्यक्ति ले सकते है -:

  • किराएदार किसान , मौखिक पल्लेदार व हिस्से मे खेती करने वाले ।
  • किसान – अकेले या सयुंक्त रूप से जिसके पास खुद की जमीन है ।
  • किसाने के स्वयं सहायता समूह या देयता समूह काश्तकार, शेयर, क्रापर आदि शामिल है ।

किसान लोन कैसे मिलता है?

किसान क्रेडिट कार्ड योजना के तहत लोन लेना काफी आसान है। आप इसके लिए बैंक के ब्रांच मे जाकर ऑनलाइन व ऑफलाइन आवेदन कर सकते है।

ऑनलाइन आवेदन करे :-

किसान क्रेडिट कार्ड योजना के तहत लोन देने वाले बैंको मे कुछ बैंक ऐसे है जो किसान क्रेडिट कार्ड बनवाने के लिए ऑनलाइन आवेदन फार्म भरना होता है ऑनलाइन फॉर्म कैसे भरे -:

  • सबसे पहले बैंक की वेबसाइट पर जाये ।
  • वेबसाइट पर दी गई कार्डो की सूचि मे से किसान क्रेडिट कार्ड को चुने व एप्लाई बटन पर क्लिक करे ।
  • वहाँ से आपके सामने किसान कार्ड ऑनलाइन आवेदन पेज़ खुल जायेगा ।
  • इसके बाद फार्म मे सभी जरूरी जानकारी भरने के बाद सबमित करे ।
  • फार्म भरने पर आपको ईमेल व दिए गए फोन नंबर पर आवेदन नंबर मिलेगा ।
  • यह नंबर आपकी बैंक से होने बाली केसीसी संबंधी बातचीत मे काम आता है ।

बैंक आपकी पात्रता चेक करता है और 3 से 4 दिन मे आपके आवेदन को आगे भेज देता है। इसके बाद आपके पास बैंक से फोन आता है व आपको आगे की प्रक्रिया बताता है आपको आवेदन प्रोसेस करने के जरूरी दस्तावेज़ की जानकारी दी जाती है व दस्तावेज़ जमा करने के लिए अपोइंमेंट दिया जाता है। पूरी जांच होने के बाद बैंक मे केसीसी लोन खुल जाता है, लोन की राशि आपके खाते मे आ जाती है तथा आपके घर के पते पर किसान क्रेडिट कार्ड भेज दिया जाता है।  

ऑफलाइन आवेदन करे :-

किसान क्रेडिट कार्ड के लिए ऑफलाइन आवेदन करने के लिए आपको आपके बैंक की नजदीकी शाखा मे जाना होता है व केसीसी आवेदन फार्म भर कर जरूरी कागजात के साथ मे लगाकर जमा करना होता है इसके बाद बैक जांच करके आपका लोन पास कर देता है।    

किसान क्रेडिट कार्ड के तहत कितना लोन मिलता है?

किसान क्रेडिट कार्ड के अन्तर्गत मिलने वाले लोन कि कोई पूर्व निर्धारित नही किया जाता है कि बह केसीसी के के तहत कितना लोन देंगे। कई बैंको द्वारा तो लोन करोड़ो मे पास होता है। लोन की सीमा को कृषि से आपकी कुल आय के आधार पर तथा साथ ही गैर-कृषि गतिविधियो, भूमि धारण की सीमा तथा उगाई गई उपज, आपके पहले से लिए लोन आदि के आधार पर किया जाता है। आपके लोन की राशि 1 लाख से अधिक है तो आवेदनकर्ता को उसकी जमीन या फसल सुरक्षा के तौर पर रखनी पड़ सकती है।  

किसान क्रेडिट कार्ड की ब्याज दरे

किसान क्रेडिट कार्ड की ब्याज दरे लोन देने वाले बैंक पर निर्भर करती है। केसीसी के तहत 2 प्रकार के लोन मिलते है 1. छोटे समय के लिए व 2. लंबे समय के लिए, केसीसी लोन की ब्याज दरे इस पर निर्भर करती है कि आप किस प्रकार का लोन ले रहे है।इस लोन को आप फसल बेचने के बाद केसीसी लोन को चुका सकते है किसान क्रेडिट कार्ड के तहत किसान 5 साल मे 3 लाख तक का अल्पकालिक लोन ले सकता है। और इसके साथ ही अगर किसान 1 साल मे ही लोन चुका दे तो किसान को 3% तक की छूट मिल जाती है।

विशेष – ब्याज आपको उसी राशि पर देना होता है जितनी राशि आप किसान  क्रेडिट कार्ड द्वारा निकालते या खर्च करते है जैसे आप 15 लाख का लोन लिया व आपने 5 लाख बस खर्च किए तो आपको सिर्फ 5 लाख पर लोन देना पड़ेगा ।

किसान क्रेडिट कार्ड के लाभ

  • केसीसी खाते मे क्रेडिट बैलेन्स पर बचत बैंक पर ब्याज दिया जाता है।
  • रूपये 3 लाख तक के ऋण राशि के लिए 2% प्रति बर्ष दर से ब्याज की छूट मिलती है।
  • समस्त केसीसी उधारकरताओ के मुफ्त एटीएम  सह डेबिट कार्ड(स्टेट बैंक किसान कार्ड)।
  • शीघ्र चुकौती के लिए 3% प्रति वर्ष की दर से ब्याज छूट।
  • समस्त केसीसी ऋणों के लिए अधिसूचित फसल/अधिसूचित क्षेत्र,फसल बीमा के अंतर्गत कवर किए जाते है।
  • प्रथम वर्ष के लिए ऋण की मात्रा कृषि लागत,फसल के बाद खर्च और कृषि भूमि अनुरक्षरण लागत के आधार पर निर्धारित किया जाएगा।
  • रूपये 1.60 लाख तक की केसीसी सीमा के लिए संपाश्र्विक प्रतिभूति की आवश्यकता नहीं है।
  • बाद के 5 वर्षो के दौरान वित्त की मात्रा वृध्दि के आधार पर ऋण स्वीक्रत किया जाएगा।
  • संपाश्र्विक पर्तिभूति अपेक्षाओ के निर्धारण स्वीकृत केसीसी सीमा के आधार पर किया जायेगा।
  • देय तिथियो के अंदर चुकौती न होने के मामले पर ब्याज देना पड़ेगा।
  • देय तिथि के बाद अर्थ वार्षिक रूप से चक्रवृद्धि ब्याज लगेगा।
  • चुकौती अवधि का निर्धारण फसल जिसके लिए ऋण प्रदान किया गया है अनुमति कटाई व विपणन अवधि के अनुसार किया जाएगा।   ‘

किसान क्रडिट कार्ड के याद रखने योग्य बिन्दू

  • अगर कार्डधारक समय पर भुगतान करता है तो ब्याज दर कम हो सकती है।
  • यदि ग्राहक तय तारीखों पर भुगतान नही करते है , तो बैंक कंपाउंड ब्याज वसूलेगा और देर से भुगतान पर दंड शुल्क देना पद सकता है।
  • किसान अपने केसीसी खाते मे बने गए क्रेडिट राशि पर ब्याज कमा सकते है।
  • आवेदक द्वारा उठाए गए लाभ व फसल के साथ-साथ विभिन्न क्षेत्रो के लिए नियम और शर्ते अलग-अलग हो सकते है।

आशा है इस पेज पर दी गयी किसान क्रेडिट कार्ड की जानकारी आपको पसंद आएगी।

केसीसी से संबंधित किसी भी अन्य प्रश्न के लिए कमेंट करे।

यदि जानकारी पसंद आयी है तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे।

Facebook
Twitter
LinkedIn

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.